Vrikkdoshhar Vati Uses, Benefits and Side Effects 💯 (दिव्य वृक्कदोषहर वटी के उपयोग, फायदे एवं नुकसान)

Vrikkdoshhar Vati: पतंजलि की प्रमुख आयुर्वेदिक दवाओं में से एक वृक्कदोषहर वटी एक बहुत ही अच्छी आयुर्वेदिक औषधि है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से यूरिन इन्फेक्शन, किडनी रोग, और पथरी जैसी समस्याओं के लिए किया जाता है । यह दवाई खासतौर पर यूरिन इंफेक्शन के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद साबित होती है। इस दवाई को बहुत सारी जड़ी बूटी और आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया जाता है, इसीलिए यह दवाई किडनी की समस्याओं के साथ-साथ शरीर से जुड़ी हुई बहुत सारी बीमारियों के लिए भी लाभकारी होती है।

Vrikkdoshhar Vati uses in hindi

तो आइए ‘वृक्कदोषहर वटी क्या होता है’, ‘वृक्कदोषहर वटी के उपयोग, फायदे, नुकसान और घटक’ विषय के बारे में विस्तार से जानते हैं।

जानिए वृक्कदोषहर वटी क्या है ? (What is Vrikkdoshhar Vati in Hindi)

वृक्कदोषहर वटी पतंजलि का एक आयुर्वेदिक प्रोडक्ट है, जो की टेबलेट के रूप में उपलब्ध होता है। वृक्कदोषहर वटी का मतलब हि किडनी की प्रॉब्लम दूर करने वाली दवाई होता है। वृक्कदोषहर वटी पतंजलि के श्रेष्ठ आयुर्वेदिक दवाइयों में से एक है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से यूरिन इन्फेक्शन, किडनी, पथरी, सूजन, जलन, आदि जैसी समस्याओं के लिए किया जाता है।

वृक्कदोषहर वटी दवाई की तासीर ठंडी होती है । यह आयुर्वेदिक औषधि वॉटर पिल्स या diuretic एजेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी, पथरी नाशक, किडनी डिस्फंक्शन को ठीक करने और शरीर के toxins को बाहर निकालने वाले गुणों से भरपूर होती है। वृक्कदोषहर वटी बहुत सारे आयुर्वेदिक औषधियों को मिलाकर बनाया गया एक लाभकारी दवाई है, इसीलिए शरीर से जुड़ी हुई बहुत सारी बीमारियों में इस दवाई के फायदे देखने को मिलते हैं।

वृक्कदोषहर वटी के मुख्य घटक द्रव्य (Ingredients of Vrikkdoshhar Vati)

वृक्कदोषहर वटी दिव्य वनस्पतियों से निर्मित उच्चगुणवत्तायुक्त औषधि है, जिसके मुख्य घटक द्रव्य निम्नलिखित हैं-

वृक्कदोषहर वटी के उपयोगी लाभ | Vrikkdoshhar Vati Uses and Benefits ⏬

किडनी हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंग में से एक होती है, और किडनी से जुड़ी हुई बहुत सारी बीमारियों से छुटकारा पाने में वृक्कदोषहर वटी बहुत ही उपयोगी दवा है। इस दवाई के कुछ प्रमुख उपयोग निम्नलिखित हैं-

1. Urinary disease में उपयोगी:-

वृक्कदोषहर वटी दवाई urinary disease के लिए बहुत ही असरदार दवाई होती है। यह दवाई यूरिन इन्फेक्शन, जलन, सूजन, पेशाब का पीलापन, यूरिया, पेशाब के क्रिस्टल, creatinine, आदि जैसे बीमारियों के लिए बहुत ही ज्यादा असरदार होती है।

2. किडनी रोग के उपयोगी लाभ:-

किडनी हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंग में से एक है, इसीलिए किडनी का स्वस्थ रहना हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होता है। वृक्कदोषहर वटी किडनी रोगों से छुटकारा दिलाने में मदद करती है, और कीडनी के रक्त प्रवाह में भी सहायक होती है। इसके साथ ही साथ यह दवाई कीडनी में रक्तचाप की समस्या और दोष को भी दूर करती है।

3. रक्तचाप (blood pressure) में उपयोगी:-

वृक्कदोषहर वटी दवाई रक्तचाप की समस्या के लिए भी फायदेमंद होती हैं। यह दवाई शरीर के ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करती है। और ब्लड प्रेशर के कारण होने वाली समस्याएं जैसे कि चिड़चिड़ापन लगना, नाक से खून आना, थकान महसूस करना, सिर दर्द, सांस लेने में तकलीफ, नींद ना लगना, इत्यादि जैसी समस्याओं से भी छुटकारा दिलाती है।

4. पथरी की बीमारी के लिए उपयोगी:-

पथरी की बीमारी में भी यह दवाई बहुत ही ज्यादा असरदार होती है। इस दवाई का नियमित रूप से सेवन करने से पथरी की समस्या जैसी बड़ी बीमारी भी खत्म हो जाती है, और पथरी के कारण होने वाले दर्द से भी राहत मिलती है।

5. वृक्कदोषहर वटी के अन्य उपयोग:-

वृक्कदोषहर वटी दवाई का उपयोग करने से शरीर में बहुत सारे लाभ देखने को मिलते हैं, साथ ही यह दवाई हमारे हार्मोन को संतुलित बनाये रखने में भी मदद करती है और इंफेक्शन जैसी समस्याओं से भी बचाती है।

वृक्कदोषहर वटी से होने वाले फायदे | Benefits of Vrikkdoshhar Vati in Hindi

वृक्कदोषहर वटी दवाई का इस्तेमाल करने से शरीर में बहुत सारे फायदे देखने को मिलते हैं, जिनमें से कुछ फायदे निम्नलिखित हैं –

1. यह दवाई मुख्य रूप से यूरिन इन्फेक्शन, जलन, सूजन, दर्द, जैसी समस्याओं के लिए फायदेमंद होती है।

2.वृक्कदोषहर वटी दवाई पथरी को जड़ से गलाकर के बाहर निकालने में मदद करती है।

3. किडनी की गंदगी को साफ करके किडनी को स्वस्थ रखने में वृक्कदोषहर वटी दवाई बहुत ही फायदेमंद होती हैं।

4. वृक्कदोषहर वटी रूमेटाइड आर्थराइटिस को बढ़ने से रोकने में फायदेमंद दवाई होती है।

5. लिवर के कार्य को सुधारने और संक्रमण से बचाने में भी फायदेमंद दवाई होती है।

6. वृक्कदोषहर वटी शरीर में मौजूद बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए भी उपयोगी दवा है।

7. वृक्कदोषहर वटी में ऐसे घटक मौजूद होते हैं, जोकि चोट को जल्दी ठीक करने, सूजन को कम करने और संक्रमण से बचाने में मदद करती है।

8. यह दवाई शरीर के ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में भी फायदेमंद होती है।

9. वृक्कदोषहर वटी दवाई हार्मोन संतुलन और ब्लड प्रेशर जैसी समस्याओं के लिए भी फायदेमंद होती है।

वृक्कदोषहर वटी का सेवन विधि | Dosage of Vrikkdoshhar Vati

1. वृक्कदोषहर वटी दवाई का सेवन बच्चे, महिला, पुरुष, और बुजुर्ग कोई भी व्यक्ति कर सकते हैं।

2. वृक्कदोषहर वटी दवाई का सेवन हमेशा खाना खाने के बाद गुनगुने पानी के साथ करे।

3.वृक्कदोषहर वटी दवाई की 2 गोली सुबह और 2 गोली शाम को ले।

4. 6 महीने तक नियमित रूप से इस दवाई का सेवन करें।

वृक्कदोषहर वटी से होने वाली नुकसान और सावधानियां | Side Effects and Precautions

वैसे तो वृक्कदोषहर वटी दवाई एक आयुर्वेदिक दवा है,  इसीलिए आमतौर पर इस दवाई के कोई नुकसान देखने को नहीं मिलते हैं। लेकिन इस दवाई को इस्तेमाल करने से पहले कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए, ताकि इसके कोई साइड इफेक्ट देखने को ना मिले। जैसे कि –

1. डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही इस दवाई का सेवन करें।

2. वृक्कदोषहर वटी दवाई का सेवन डॉक्टर की सलाह के अनुसार सही मात्रा में और सही समय पर ही करें।

3. इस दवाई का अधिक मात्रा में सेवन करने पर उल्टी, दस्त, खुजली जैसी समस्याएं देखने को मिल सकती हैं।

4. गर्भवती महिलाएं इस दवाई का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

निष्कर्ष:-

आज के इस लेख में हमने vrikkdoshhar vati uses in hindi इस विषय के बारे में संपूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है। उम्मीद है कि आपको हमारे इस आर्टिकल के जरिए vrikkdoshhar vati uses in hindi इस विषय के बारे में काफी अच्छी जानकारी प्राप्त हुई होगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *