पित्तपापड़ा (Fumaria Indica) के चमत्कारिक स्वास्थ्य लाभ एवं इसका परिचय

पितपापड़ा

पित्तपापड़ा (Fumaria Indica)

पित्तपापड़ा को सर्दियों में गेंहू और चने आदि के खेतों में आसानी से देखा जा सकता है | हमारे देश में इसे अलग – अलग प्रान्तों में अलग – अलग नामो से पुकारा जाता है | संस्कृत में इसे पर्पट , पांशु एवं कवच वाचक आदि नामो से पुकारा जाता है |

पितपापड़ा

राजस्थान , हरियाणा और पंजाब में इसे गजरा घास या गाजर घास आदि नामों से जाना जाता है | हिंदी में इसे पितपापड़ा , शाहतरा एवं धमगजरा आदि कहा जाता है |

परिचय – इसके छोटे – छोटे पौधे गेंहूँ , चने एवं अन्य सर्दियों के फसलों में देखे जा सकते है | बाहरी तौर पर देखने से इसका पौधा गाजर के पौधे के सामान ही होता है | जिस प्रकार से गाजर के पौधे की बनावट होती है उसी प्रकार से इसकी भी बनावट होती है | बाहरी तौर पर देखने से गाजर और पितपापड़ा के पौधे में थोड़ा सा रंग का फ़रक होता है | गाजर का पौधा अधिक गहरा हरा होता है बल्कि इसका पौधा हल्का हरा होता है |

इस पर फरवरी महीने में पुष्प खिलते है जो लाल और गुलाबी रंग के होते है | पापड़ा के पते गाजर के पतों की तरह ही खंडित और मृदु होते है | इसके फल छोटे एवं गोल चपटे होते है | स्वाभाव में यह हल्का, शीतल, वातकारक एवं कफ, ज्वर तृषा और दाह का नाश करने वाला होता है |

पित्तपापड़ा का रासायनिक संगठन 

इसके पंचाग में फ्युमेरिक एसिड, फ्युमेरिन एवं एलकेलाइडस आदि पाए जाते है |

गुण – धर्म एवं रोग प्रभाव 

पित्तपापड़ा का रस कटु एवं तिक्त होता है | गुणों में यह लघु एवं इसका वीर्य शीत होता है | पचने के बाद इसका विपाक कटु प्राप्त होता है | यह कफ एवं पित का शमन करने में कारगर होता है | सीके साथ ही मूत्रल, रक्तशोधन, रक्तपित शामक, दाहशामक, यकृदूतेजक एवं कामला, मूत्रकृच्छ, भ्रम और मूर्च्छा जैसी समस्याओं में लाभकारी होता है |

दोषों के हरण के लिए इसके पंचाग का इस्तेमाल किया जाता है | आयुर्वेद में इसके प्रयोग से षडंगपानीय, पर्पटादी क्वाथ , पञ्चतिक्त घृत आदि औषधियां तैयार की जाती है |

पित्तपापड़ा के चमत्कारिक लाभ 

रक्तशोधक एवं टोक्सिन नाशक 

पित्तपापड़ा रक्तशोधक होता है | यह दूषित रक्त हो शुद्ध करता है एवं शरीर से टोक्सिन को बाहर निकालता है | अंग्रेजी दवाइयों के इस्तेमाल से होने वाले साइड इफेक्ट्स को दूर करने के लिए पापड़ा का प्रयोग करना चाहिए | इसके इस्तेमाल से दवाइयों के गंभीर साइड इफेक्ट्स को भी कम किया जा सकता है |

ताजे पित्तपापड़ा को कुचल कर इसका दो चम्मच रस निकाल ले और कुच्छ दिनों तक नियमित सेवन करे , इससे रक्त शुद्ध होता है एवं साथ ही शरीर से टोक्सिन भी बाहर निकलते है | दवाइयों के साइड इफेक्ट्स में भी इसके रस का सेवन करना चाहिए |

पेट के कीड़े 

पेट के कीड़ों में भी यह चमत्कारिक लाभ देता है | अगर पेट में कीड़े पड़ गए हो तो पितपापड़ा के साथ वाय – विडंग को मिलाकर इनका काढ़ा तैयार कर ले | इस काढ़े के सेवन से जल्द ही पेट के कीड़े नष्ट होने लगते है |

ज्वर में पितपापड़ा का उपयोग 

गर्मी के कारण बुखार हो तो पित्तपापड़ा , गिलोय एवं तुलसी को मिलाकर इसका काढा बना ले | गर्मी जन्य बुखार में लाभ मिलेगा |

पितज्वर में पापड़ा, आंवला और गिलोय इन तीनो का क्वाथ तैयार कर के इस्तेमा करने से लाभ मिलेगा |

अगर बुखार सर्दी के कारण है तो पित्तपापड़ा के साथ कालीमिर्च मिलकर इसका काढ़ा तैयार करे जल्द ही सर्दी के कारण आई बुखार उतर जायेगी |

तृष्णा 

बार – बार प्यास लगती अर्थात तृष्णा से पीड़ित हो तो पित्तपापड़ा, रक्त चन्दन, नागरमोथा और खस इन तीनो का चूर्ण बना ले और इसमें मिश्री मिलाकर इसकी चटनी तैयार करले | इसका इस्तेमाल करने से तृष्णा खत्म होती है |

गर्भावस्था जन्य विकार 

पित्तपापड़ा, अतिस, सुगंधबाला, धनिया, गिलोय, नागरमोथा, खस, जवासा, लज्जालु, रक्तचन्दन और खिरैटी – इन सबका काढ़ा बनाकर पीने से गर्भावस्था जन्य सभी विकार दूर होते है |

इन्फेक्शन अर्थात संक्रमण 

पित्तपापड़ा सभी प्रकार के इन्फेक्शन को ठीक करता है | जैसे अगर शरीर के अन्दर कोई इन्फेक्शन है या कोई घाव है तो इसका प्रयोग क्वाथ के रूप में करे | लीवर, किडनी, फेफड़े आदि के संक्रमण एवं आंतरिक घाव को भरने में भी यह चमत्कारिक परिणाम देता है | इन सभी में पित्तपापड़ा के काढ़े का इस्तेमाल करना चाहिए |

एसिडिटी जैसी समस्याओं में ताजे धमगजरा को दांतों से कुचल कर खाने से तुरंत आराम मिलता है , साथ ही दांतों एवं मसूड़ों के सुजन में भी आराम मिलता है |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You