Deal Score0
Deal Score0

वरुणादि क्वाथ के बारे में तो अधिकतर आयुर्वेद प्रेमियों ने सुना होगा | दर:शल वरुणादि क्वाथ मूत्र संसथान के विकारों में विशेष लाभकारी आयुर्वेदिक दवा है | पत्थरी, प्रोस्टेट एवं मूत्र विकारों में प्रमुखता से प्रयोग की जाने वाली औषधि है |

वरुण का पौधा इस औषधि का मूल द्रव्य है अर्थात वरुण या जिसे वरना भी कहा जाता है | आज इसी औषधीय वनस्पति के बारे में हम बात करेंगे | तो चलिए आपको बताते है वरुण के बारे में आयुर्वेदिक विवरण

वानस्पतिक परिचय / Botanical Introduction of Varuna

हिंदी – वरुण, वरना

संस्कृत – वरुण, त्रिपर्ण, तिक्तशाक, बिल्वपत्र, बहुपुष्प, भ्रमरप्रिय, अश्मरीघन, वृंतफल |

मराठी – वायवरना

English – Three Leaved Caper

लैटिन – Cretaeva Nurvala Buch.

Family – Capparidaceae

इसे गुल्म आदि रोगों का नाश करने के लिए इस्तेमाल की जाती है इसलिए इसे वरुण कहते है | आयुर्वेदिक चरक संहिता में वरुण का उल्लेख “दशेमानी” में नहीं किया गया है | लेकिन सुश्रुत संहिता में ‘वरुणादिगण’ में अश्मरी और मूत्रकृछ की चिकित्सा के अंतर्गत वरुण का उल्लेख मिलता है |

वानस्पतिक वर्णन – वरुण का पौधा सम्पूर्ण भारतवर्ष में मिल जाता है | यह अधिक जलीय स्थानों पर अधिक होता है | इसका पौधा 25 से 30 फीट तक मध्यम आकार का होता है | पौधे की त्वचा धूसर रंग की एवं शाखाओं का रंग सफ़ेद चिन्ह युक्त होता है |

वरुण के पते बिल्व के पतों की तरह ही होते है | इसके पतों को मसलने पर एक तीव्र प्रकार की गंध आती है |

पुष्प पीले रंग के सुगन्धित एवं गुछाकर मंजरियो में लगते है |

वरुण के फल कागजी निम्बू के समान गोलाकार, पकने पर लालरंग का होता है उसकी फलमज्जा पीले रंग की, जिसमे कई बीज होते है |

वरुण का पुष्पकाल फरवरी एवं मार्च में और फल अगस्त माह में लगते है |

वरुण के औषधीय गुण धर्म

वरुण: पित्तलो भेदीश्लेष्मकृच्छशममारुतान ||

निहन्ति गुल्मवातास्त्रकृमिश्चोश्नोअग्निदीपन: |

कषायो मधुरस्तिक्त: कटुको रुक्ष्को लघु: ||

भा. नि. वटादिवर्ग

रस – तिक्त, कषाय, मधुर

गुण – लघु, रुक्ष

विपाक – कटु

वीर्य – उष्ण

प्रभाव – अश्मरीहर

दोषकर्म – कफ एवं वातशामक, पित्तवर्द्धक

वरुण के फायदे या स्वास्थ्य लाभ / Health Benefits of Varuna in Hindi

  • गुल्म रोग में यह दीपन, अनुलोमन एवं भेदन, कृमिघन होने से अग्निमंध्य, गुल्म एवं यकृतविकार में प्रयोग करते है |
  • अश्मरी अर्थात पत्थरी में मूत्रल एवं भेदन गुणों के कारण वरुण काफी लाभदायक सिद्ध होता है | साथ ही मूत्रल होने के कारण पेशाब की रूकावट में भी फायदा देता है |
  • नेत्र रोगों में इसकी छाल को पीसकर आँखों के बहार लेप करने से लाभ मिलता है |
  • रक्तविकार – तिक्त रक्त से रक्तशोधन गुणों से युक्त होती है | यह वातरक्त, गण्डमाला आदि रोगोंफ़ में इसकी छाल का क्वाथ बना कर सेवन करवाने से लाभ मिलता है |
  • मोटापे में भी यह फायदेमंद है | यह मेदक्षरण का कार्य करती है |
  • वरुण के पतों का क्वाथ बना कर बवासीर के रोगी को अवगाहन करवाना चाहिए |
  • गण्डमाला में इसकी जड़ के क्वाथ में शहद मिलकर सेवन करवाना फायदेमंद रहता है |
  • प्रोस्टेट (BPH) की समस्या में वरुण क्वाथ के साथ गोखरू चूर्ण का सेवन करवाने से लाभ मिलता है |
  • वरुण की छाल का चूर्ण वरुनादी क्वाथ के साथ प्रयोग करवाने से पत्थरी मिटती है |

प्रयोज्य अंग और मात्रा

वरुण की जड़, छाल एवं पतों का प्रयोग औषध उपयोग में लिया जाता है | सेवन के रूप में इसके चूर्ण को 1 से 2 ग्राम, क्वाथ 50 से 100 मिली तक किया जा सकता है |

इसके योग से बनने वाली विशिष्ट आयुर्वेदिक औषधियां

वरुणादि क्वाथ, वरुणादि घृत, वरुणादि तेल आदि |

आपके लिए अन्य महत्वपूर्ण सूचनाएं

गोखरू के फायदे

अकरकरा के औषधीय गुण धर्म

अश्वगंधा के फायदे

सितोपलादि चूर्ण के उपयोग

धन्यवाद ||

Mr. Yogendra Lochib

Mr Yogendra Lochib is a experienced and qualified Ayurveda Nurse & Pharmacist. He was Graduated (2009-2013) from Dr Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur.He has Good Knowledge about Ayurvedic Herbs, Medicine, Panchkarma Procedure & Naturopathy. The Author believes in sharing the knowledge of Ayurveda (As it was shared 5000 years ago orally) using online platforms, and he is doing well.

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0
      Open chat
      Hello
      Can We Help You