ऊँटकटारा का वानस्पतिक परिचय – इसके औषधीय गुण एवं फायदे |

ऊंटकटारा / ब्रह्मदंडी / उष्टकंटक 

परिचय – यह एक बहुशाखाओं युक्त पौधा होता है, जिसकी शाखाएं जड़ों से फूटती है | भारत में यह मध्यभारत , राजस्थान एवं दक्षिणी प्रान्तों में अधिक पाया जाता है | पौधे पर पीले रंग के ढोडे लगते है जिन पर चारों तरफ लम्बे काँटे होते है एवं काँटों के बिच गुलाबी रंग के फुल लगते है | राजस्थान में ऊँटों का यह प्रिय भोजन माना जाता है | पौधे की जड़ें लम्बी एवं गहरी होती है | आयुर्वेद चिकित्सा में जड़ की छाल का चूर्ण अधिकतर प्रयोग में लिया जाता है |

ऊँटकटारा
क्रेडिट – कॉमन्स विकिमीडिया

पर्याय 

हिंदी – ऊंट कटारा |

संस्कृत – उष्टकंटक, कंतफल, कर्भादन, वृत्तगुच्छ |

मराठी – ऊँटकटीरा |

बंगाली – ठाकुरकांटा |

गुजराती – शुलियों |

अरबी – स्तरखर |

अंग्रेजी – Thistle |

लेटिन – Echinops Echinatus |

ऊँटकटारा के औषधीय गुण 

आयुर्वेद चिकित्सानुसार ऊंटकटारा रस में कडवी एवं तिक्त होती है | यह अग्निवर्द्धक, ज्वरविनाशक, उत्तेजक, क्षुधावर्द्धक एवं कामोदिपक गुणों से युक्त होती है | यह स्नायु को बल देती है एवं पौष्टिक होती है | प्रमेह का नाश करने वाली एवं वीर्य का स्तम्भन करने के गुणों से युक्त होती है | साथ ही आयुर्वेद में इसे मूत्रनिस्स्सारक माना जाता है |

ऊँटकटारा के फायदे एवं उपयोग

  1. अगर गर्भवती को कष्टकारक एवं निराशाजनक प्रसव की स्थिति हो तो इसकी जड़ को पानी में घिसकर एक तोला प्रसूता को पिलाने से तुरंत प्रसव की स्थिति बनती है |
  2. ऊंटकटारा की जड़ की छाल तीन माशे, गोखरू 3 माशे और मिश्री छ: माशे ले – इन तीनो को बारीक़ चूर्णकरके सवेरे एवं शाम दूध के साथ सेवन  करने से प्रमेह की समस्या का नाश होता है |
  3. वीर्यव्रद्धी एवं पुरुषार्थ के लिए ऊँटकटारे की जड़ की छाल को पीसकर एवं छानकर रख लेना चाहिए | इस चूर्ण में मुगली वेदाना एक तोला छानकर एवं इसके चूर्ण में मिलकर पीना चाहिए | इस योग के सेवन से पुराने से पुराना प्रमेह मिटता है एवं वीर्य की व्रद्धी होकर व्यक्ति पुरुषार्थ गुणों से परिपूर्ण होता है |
  4. ऊँटकटारे की जड़ की छाल का चूर्ण एवं छुहारे की गुठली का चूर्ण तीन – तीन माशे लेकर फंकी लेने से मन्दाग्नि में लाभ होता है |
  5. इसकी जड़ की छाल के चूर्ण को पान ने रखकर खाने से कफ के कारण आने वाली खांसी में  आराम मिलता है |
  6. तालमखाना एवं मिश्री के साथ इसकी जड़ की छाल की फंकी देने से मूत्रकृछ (पेशाब का रुक – रुक कर आना) में आराम मिलता है |
  7. सर्प एवं बिच्छु के दंश में ऊंटकटारा की जड़ को पानी में घिस कर लगाने एवं पिने से जहर उतरने लगता है |
  8. इसकी जड़ की छाल एक तोला लेकर उसे कुचलकर पोटली में बाँधकर आधा सेर गाय का दूध और के सेर पानी में खोलायें | उसमे चार खारक भी साथ डालदें | जब पानी जलकर दूध मात्र रह जाय तब उस पोटली को मिलाकर उस दूध को पी लें | यह दूध अत्यंत कामशक्ति वर्द्धक दवा साबित होता है |
  9. पाचनशक्ति को बढाने के लिए इसकी जड़ की छाल के चूर्ण के साथ छुहारे का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से अत्यंत लाभ मिलता है |
  10. ग्रामीण इलाकों में पुराने समय में इसकी जड़ के लेप को इन्द्रिय पर लगाया जाता था जो वीर्य स्तम्भन एवं सहवास के समय को बढाने का काम करता था |

 

धन्यवाद | 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.