शिलाजीत के सम्पूर्ण फायदे हिंदी में जानें गुण एवं उपयोग भी | Shilajit Complete Benefits in Hindi

शिलाजीत के फायदे हिंदी में

शिलाजीत हिमालय के पहाड़ो में पाया जाने वाला एक प्राकृतिक द्रव है | यह हजारों सालों से दबे पौधों के साथ कुछ सूक्ष्म जीवों की क्रिया से बनता है | आम तौर पर शिलाजीत को लोग जड़ी बूटी समझ लेते हैं लेकिन असल में यह एक द्रव है जो अनेकों रासायनिक और जैविक क्रियाओं के बाद तैयार होता है | आम तौर पर आपने देखा होगा शिलाजीत का प्रचार एक पुरुष शक्तिवर्धक के रूप में किया जाता है जो कुछ हद तक सही भी है लेकिन इसके अलावा भी शिलाजीत के बहुत से फायदे और गुण हैं जिनका पूर्ण विश्लेष्ण इस लेख के द्वारा करने का प्रयास करेंगे |

शिलाजीत : एक परिचय (Introduction of Shilajit in hindi)

यह भारत और नेपाल में हिमालय के पहाड़ो पर पाया जाने वाला भूरे रंग का पाउडर या काला गाढ़ा द्रव है | उत्तर भारत में इसे शलाजित, शिलाजातु, मिम्मी आदि नामों से भी जाना जाता है | भारत और नेपाल के अलावा यह यूरोप, अफगानिस्तान में भी कुछ जगहों पर पाया जाता है | शिलाजीत का उपयोग प्राचीन समय से ही आयुर्वेद दवा के रूप में किया जाता रहा है | इसे एक शक्तिवर्धक एवं जीवनीय शक्ति वाली औषधि के रूप में जाना जाता है | हालाँकि इसके गुण इसकी उत्पति की जगह के हिसाब से बदल जाते हैं |

शिलाजीत की उत्पति (Origin of shilajit in hindi) :-

सालों से दबे पौधों के अवयवों को कुछ सूक्ष्म जीवों द्वारा क्रियान्वित करने से यह द्रव बनता है जिसे शिलाजीत कहते हैं | यह अपघटन सदियों बाद होता है और एक रिसाव के रूप में शिलाजीत चटानो से बाहर आ जाता है जिसे इक्कठा कर लिया जाता है | आयुर्वेद में इसे प्रकृति की उपज माना जाता है |

शिलाजीत की सरंचना (Composition of shilajit in hindi)

जैसा ऊपर बताया है कि शिलाजीत की उत्पति हजारों सालों से प्राकृतिक एवं जैविक क्रियाओं का नतीजा है | शिलाजीत में मुख्य रूप से फुल्विक एसिड होता है | इसके समस्त भाग का 60 से 80 प्रतिशत हिसा ह्यूमिक एसिड से बना होता है | इसके अलावा इसमें सेलेनियम और मिनरल्स होते हैं | इसमें सिलिका, कैल्शियम, मेग्निशिअम, आयरन, कॉपर एवं लिथियम जैसे प्रभावी मिनरल्स मौजूद रहते हैं |

शिलाजीत के फायदे

आयुर्वेदानुसार शिलाजीत के गुण (properties of shilajit according to ayurveda in hindi)

आयुर्वेद में शिलाजीत को प्रमुख शक्तिवर्धक औषधियों में सम्मिलित किया गया है | सुश्रुत संहिता एवं चरक संहिता में इसके गुणों का विस्तार से वर्णन मिलता है | आयुर्वेदानुसार इसके निम्न गुण है :-

  • बल्य
  • दीपन
  • पाचक
  • त्रिदोष नाशक
  • प्रमेह नाशक
  • जीवनीय शक्तिवर्धक
  • मेधा नाशक
  • रसायन
  • ज्वर नाशक
  • रोचक
  • योगवाही

शिलाजीत : उपयोग एवं फायदे हिंदी में (Shilajit benefits and uses in hindi)

अभी तक जितना आपने पढ़ा उससे आपको अंदाजा हो गया होगा की चटानो का रस बोले जाने वाले इस द्रव के फायदे इतने अधिक क्यों हैं | अभी हम आपको शिलाजीत फायदे हिंदी में और इसके उपयोग के बारे में बतायेंगे | जैसा आपने पढ़ा यह शक्तिवर्धक, शुक्रल एवं जीवनीय शक्ति वाला रसायन है इसलिए इसका उपयोग पुरुष शक्तिवर्धक दवा के रूप में बहुत किया जाता है | प्रमेह रोग, नपुंसकता, थकान एवं जोश की कमी जैसी समस्याओं में शिलाजीत बहुत फायदे वाली औषधि है |

इसके अलावा यह पीलिया, अपचन, रक्त विकार, त्वचा विकार, बवासीर, भूख की कमी, मूत्र विकार आदि में भी अत्यंत उपयोगी है | यह एक रसायन है यानि सम्पूर्ण शरीर को ताकत देने वाला | इसका उपयोग निम्न रोगों में किया जाता है :-

  • पुरुषों की कमजोरी
  • प्रमेह रोग
  • डायबिटीज
  • श्वास रोग
  • पाचन विकार
  • रक्त विकार
  • त्वचा विकार
  • अर्श
  • पीलिया
  • मूत्र विकार
  • High altitude problems

हिंदी में जानें शिलाजीत के फायदे और उपयोग की रोगानुसार जानकारी

डायबिटीज में फायदे : डायबिटीज के रोगियों के लिए शिलाजीत एक गुणकारी औषधि है | यह रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित करता है एवं शरीर को बल प्रदान करता है | इसलिए अन्य दवाओं के साथ शिलाजीत का उपयोग इस रोग में किया जाता है | यह डायबिटीज को कण्ट्रोल करने में मदद करता है एवं इससे होने वाली कमजोरी को भी दूर करता है | इसलिए इस रोग के रोगियों के लिए शिलाजीत के फायदे (हिंदी में ) बहुत है |

पौरुष शक्तिवर्धक के रूप में शिलाजीत के फायदे (हिंदी में) : शिलाजीत एक शक्तिवर्धक रसायन है | पुरुषों को होने वाली यौन कमजोरी में इसका उपयोग प्राचीन काल से ही किया जाता रहा है | आज भी सभी वाजीकारक औषधियों में शिलाजीत का उपयोग किया जाता है | यौन कमजोरी होने पर पुरुषों को इसका सेवन करना चाहिए |

श्वास विकार में फायदे : यह अनुलोमन गुण वाली औषधि है | इसलिए breathing की समस्याओं इसका उपयोग फायदेमंद रहता है | जिन व्यक्तियों को जल्दी साँस फूल जाती है या अस्थमा रहता है उन्हें शिलाजीत का सेवन करना चाहिए |

बवासीर रोग में शिलाजीत फायदे (हिंदी) : अर्श या बवासीर एक कष्टदायक रोग है | यह रोग पाचन विकारों की वजह से होता है | शिलाजीत में अर्श नाशक गुण होते हैं एवं यह पाचन को भी सुधरता है इसलिए इसका उपयोग बवासीर रोग में अन्य दवाओ के साथ करना फायदेमंद होता है |

मूत्र विकारों में फायदे : शिलाजीत मूत्रल गुणों वाला द्रव है | मूत्र विकारों में इसका उपयोग प्राचीन काल से ही किया जाता रहा है | पेशाब में जलन, जननांगो के विकार आदि होने पर शिलाजीत का उपयोग लाभदायक होता है |

दिल के रोगों में शिलाजीत के फायदे क्या हैं जाने हिंदी में : शिलाजीत का प्रभाव दिल के रोगों में सकारात्मक होता है | इसके सेवन से हृदय को बल मिलता है | यह दिल दिमाग दोनों का वेग शांत करने वाली दवा है | इसमें एंटी ओक्सिडेंट गुण होते हैं जो दिल के रोगों में इसे और भी फायदेमंद बनाता है |

मानसिक तनाव करे : यह वात एवं पित्त दोष का दमन करता है जिससे सेरोटोनिन की मात्रा कण्ट्रोल में रहती है | इसके सेवन से मानसिक तनाव कम होता है एवं शांति का अनुभव होता है |

जीवनीय शक्ति बढाने वाला : शिलाजीत बढती उम्र को कम करने वाली औषधि है | यह सम्पूर्ण शरीर को शक्ति प्रदान करता है | इसके सेवन से रक्त रस मांस मज्जा एवं अस्थि व शुक्र सभी की वृद्धि होती है | बढती उम्र में इसका सेवन करने से उम्र के कारण होने वाले रोगों को दूर रखा जा सकता है |

टेस्टोस्टेरोन बढाने में फायदे हिंदी में : शिलाजीत शुक्रल एवं शक्तिवर्धक गुणों से युक्त है | इसके साथ यह मानसिक तनाव को भी कम करती है | इसके कारण टेस्टोस्टेरोन के लेवल को बढ़ाने में शिलाजीत बहुत उपयोगी है |

अल्सर में फायदे : अल्सर बहुत ही भयानक रोग है | यह दैनिक जीवन से जुड़ा रोग है जिससे व्यक्ति बहुत परेशानी झेलता है | शिलाजीत अपने पाचन और दीपन गुणों के कारण इस रोग में बहुत फायदेमंद रहता है | इसके सेवन से घाव कम होते हैं एवं अल्सर में फायदेमंद है |

शोथनाषक के रूप में फायदे : शिलाजीत सुजन को कम करता है | आर्थराइटिस जैसे रोगों में इसका उपयोग बहुत उपयोगी है | वात दोष के कारण होने वाले रोगों में इसके सेवन से विशेष फायदा होता है क्योंकि यह वात का शमन करता है |

वजन कम करने में सहायक है : शिलाजीत का उपयोग वजन कम करने के लिए भी किया जाता है | इसके सेवन से अधिक भूख लगने की समस्या समाप्त होती है | नित्य इसका सेवन करना मोटापा कम करने में सहायक होता है |

रक्त की कमी एवं पीलिया में फायदे (हिंदी में) : रक्त की कमी एवं पीलिया रोग में शिलाजीत का उपयोग किया जाता है | शिलाजीत में ह्यूमिक एसिड एवं आयरन भरपूर मात्रा में होता है इसलिए इन दोनों में रोगों में इसका उपयोग बहुत लाभदायक होता है |

अब जाने क्या इसके कुछ नुकसान भी हैं क्या ? (side effects in hindi)

आधुनिक अध्ययन से भी यही पता चला है की शिलाजीत में 80 से भी ज्यादा मिनरल्स हैं जो बहुत गुणकारी एवं शक्तिवर्धक है | यह सम्पूर्ण शरीर को बल देने वाला रसायन है | लगभग सभी रोगों में इसका परिणाम सकारात्मक होता है | लेकिन फिर भी बिना चिकित्सक की सलाह के इसका सेवन करना हानिकारक हो सकता है |

क्योंकि कुछ विशेष परिस्थितियों में यह एलर्जी उत्पन्न कर सकता है एवं अधिक मात्रा में सेवन पर सर दर्द, उल्टी-दस्त, जी मतलाना आदि समस्याएं हो सकती हैं |

शिलाजीत के सेवन की मात्रा (हिंदी में) जानें / doses of shilajit in hindi

शिलाजीत का सेवन करना बहुत लाभदायक है लेकिन कितनी मात्रा में इसका सेवन किया जाये यह जान लेना बहुत जरुरी है | हर व्यक्ति की शारीरिक प्रकृति एवं रोग की अवस्था एवं पाचन शक्ति अलग अलग होती है इसलिए इसका सेवन व्यक्ति व्यक्ति की अवस्था पर निर्भर करता है |

इसकी 200 से 300 ग्राम मात्रा का सेवन दिन में दो बार किया जा सकता है या एक कैप्सूल (एक्सट्रेक्ट) सुबह एक शाम को सेवन करें | खाली पेट भी इसका सेवन किया जा सकता है | सावधानी के रूप में चिकित्सक की सलाह से ही इसका सेवन करें |

शिलाजीत के फायदे और उपयोग से जुड़े आपके सवालों के जवाब हिंदी में / FAQ in hindi

क्या शिलाजीत आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है ?

शिलाजीत एक प्राकृतिक द्रव है जो सालो से दबे पेड़ पौधों और सूक्ष्म जीवों के क्रिया से बनता है |

क्या शिलाजीत बवासीर में फायदेमंद है ?

अर्श याबवासीर में शिलाजीत का उपयोग अन्य दवाओं के साथ करना फायदेमंद होता है |

क्या डायबिटीज में शिलाजीत का सेवन किया जा सकता है ?

यह रक्त में ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित करता है | इसलिए डायबिटीज में इसका उपयोग बहुत गुणकारी होता है |

क्या इसके सेवन से उम्र कम होती है ?

शिलाजीत जीवनीय शक्तिवर्धक रसायन है | बढती उम्र को कम करने में यह फायदेमंद है |

शिलाजीत कहाँ पर पाया जाता है ?

शिलाजीत भारत और नेपाल में हिमालय की पहाडियों पर मिलता है | इसके अलावा यह यूरोप एवं अफगानिस्तान में भी पाया जाता है |

पुरुषों के लिए शिलाजीत के क्या फायदे हैं ?

शिलाजीत पौरुष शक्तिवर्धक एवं प्रमेह नाशक गुणों वाला द्रव है | यौन कमजोरीयों एवं बलवर्धक दवा के रूप में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है |

निष्कर्ष (conclusion in hindi)

शिलाजीत एक सुरक्षित एवं शक्तिवर्धक आहार पूरक है | इसका उपयोग लगभग सभी रोगों में किया जाता है | यह सम्पूर्ण शरीर को बल प्रदान करता है | इसके सेवन से रस रक्त मांस मज्जा एवं अस्थि सभी को बल मिलता है | आधुनिक रिसर्च के अनुसार अल्जाइमर रोग में इसके सेवन से विशेष फायदा होता है | चिकित्सा के क्षेत्र में शिलाजीत का एक औषधि के रूप में बहुत योगदान है | आयुर्वेद के साथ आज एलॉपथी दवाओं में भी इसको सम्मिलित किया जा रहा है | इसलिए हम कह सकते हैं की शिलाजीत सबसे प्रभावी औषधियों में से एक है |

धन्यवाद ||

Reference :-

Shilajit: A Natural Phytocomplex with Potential Procognitive Activity

Effect of shilajit on the heart of Daphnia: A preliminary study

Leave a Reply

Your email address will not be published.