तेज दिमाग (यादाश्त बढाने) के लिए 7 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां |

प्रतियोगिताओं के इस युग में हर कोई अपनी स्मरण शक्ति बढ़ाना चाहता है | आगे बढ़ने की इस होड़ में तेज दिमाग होना बहुत जरुरी है | नौकरी पाने से लेकर प्रमोशन, व्यावसाय बढाने एवं बच्चों के क्लास रूम में भी बहुत प्रतिस्पर्धा है | अगर आपकी यादाश्त अच्छी है तो आपको जीवन के हर मोड़ पर उसका लाभ मिलता है | वर्तमान समय में नौकरी पाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है | लेकिन मेहनत काफी नही है अगर आपकी स्मरण शक्ति कमजोर है |

मानसिक क्षमता कमजोर होने से आप हर जगह पीछे रह जाते हैं | बहुत मेहनत के बावजूद भी उचित परिणाम नही मिल पाता | और आपका साथी जिसका तेज दिमाग है कम मेहनत करके भी आपसे आगे निकल जाता है | दिमाग तेज करके आप अपनी स्मरण शक्ति (यादाश्त) बढ़ा सकते हैं | इस लेख में हम आपको ऐसी सात आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में बतायेंगे जो आपकी मानसिक क्षमता को दोगुना कर सकती हैं | आइये जानते हैं तेज दिमाग करने वाली जड़ी बूटियों के बारे में |

इन 7 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से पायें तेज दिमाग एवं बढ़ाये स्मरण शक्ति !

आयुर्वेद दुनिया की सबसे प्राचीन चिकित्सा प्रणाली है | यह एक दैवीय वरदान है जो हमें स्वस्थ एवं उत्कृष्ट जीवन प्रदान करता है | आयुर्वेदानुसार मानसिक क्षमता तीन कारको पर निर्भर करती है |

  • धी :- सीखने एवं समझने की शक्ति, यह वात दोष पर निर्भर करती है |
  • धृति:- स्मरण करने एवं याद रखने की प्रक्रिया, यह पित्त दोष पर निर्भर करती है |
  • स्मृति :- स्मरण शक्ति या यादाश्त, यह कफ दोष से प्रभावित होती है |

इस प्रकार स्पष्ट है की आपके शरीर में त्रिदोषो का संतुलन बहुत जरुरी है | इसी पर आपकी यादाश्त निर्भर करती है | आपका दिमाग तेज हो इसके लिए जरुरी है की तीनो दोष संतुलित हों | आयुर्वेदानुसार उचित खान-पान, दिनचर्या एवं अच्छी नींद दिमाग को तेज बनाने के लिए बहुत जरुरी है | आइये अब जानते है दिमाग तेज करने वाली जड़ी-बूटियों के बारे में :-

1. ब्राह्मी से पायें तेज दिमाग :- जाने कैसे आपकी स्मरण शक्ति बढ़ा शक्ति है ब्राह्मी |

ब्राह्मी प्रकृति का अनमोल वरदान है | भारत में सर्वत्र पाया जाने वाला यह पौधा कई रोगों का रामबाण इलाज है | यह स्मरण शक्ति वर्धक, आयुवर्द्धक, स्वर सुधारक एवं रक्त शोधक गुणों वाली होती है | आइये जानते हैं ब्राह्मी किन किन रोगों में उपयोगी है :-

  • आमवात :- ब्राह्मी स्वरस का उपयोग करें |
  • स्मरण शक्ति वर्धक:- तेज दिमाग पाने के लिए ब्राह्मी से बना सारस्वत चूर्ण का सेवन 2 महीने तक करें |
  • शितपित :- काली मिर्च को 12 घंटे तक ब्राह्मी रस में खरल करके सेवन करें |
  • उन्माद :- ब्राह्मी रस को मधु के साथ सेवन करें |
  • अपस्मार एवं शोकोंमाद :- ब्राह्मी स्वरस को बचकूट एवं शंखपुष्पी के साथ मधु से दे |
ब्राह्मी
ब्राह्मी

सारस्वत चूर्ण एवं मेधावर्धक चूर्ण से बढ़ाएं अपनी यादाश्त :-

ब्राह्मी शीत वीर्य गुणों वाला होता है | यह मानसिक विकार एवं उन्माद को कम करता है | जिससे दिमाग तंदरुस्त रहता है एवं मानसिक क्षमता बढती है | आइये जानते हैं इनके बारे में :-

सारस्वत चूर्ण :-

  • घटक :- ब्राह्मी स्वरस, शंखपुष्पी, काला जीरा, सफ़ेद जीरा, त्रिकुट, पाठा एवं अश्वगंधा
  • उपयोग:- यह मानसिक विकारों, कमजोर यादाश्त, उन्माद एवं कमजोरी के लिए उत्तम औषधि है |
  • सेवन:- तेज दिमाग पाने के लिए 2 ग्राम सारवस्त चूर्ण रोजाना शहद के साथ सेवन करना चाहिए |

मेधावर्धक चूर्ण :-

  • घटक :- ब्राह्मी, अमृता, जटामांसी, अश्वगंधा, मंडूकपर्णी
  • उपयोग :- दिमाग तेज करने के लिए, मानसिक कमजोरी में, यादाश्त बढाने के लिए
  • सेवन :- रोजाना 5 ग्राम 2 महीने तक

2. बादाम:- यादाश्त बढ़ाने के लिए कैसे उपयोगी है बादाम ?

इसे संस्कृत में वाताद एवं वातखैरी के नामों से भी जाना जाता है | आइये जानते हैं इसके गुण :-

  • इसका वीर्य उष्ण होता है |
  • यह पित्त एवं वात नाशक है |
  • रस मधुर होता है |
  • विपाक भी मधुर होता है |
  • यह शुक्र वर्धक, रक्तपित नाशक, पुष्टिवर्धक एवं स्मरण शक्ति वर्धक होता है |
तेज दिमाग
बादाम

यूँ तो आप सभी बादाम से परिचित हैं | सर दर्द एवं यादाश्त बढाने के लिए इसका उपयोग सर्वविदित है |आइये जानते हैं इसके उपयोग :-

  • मधुमेह में :- बिना शक्कर की खीर बना कर खिलाएं |
  • दिमाग की ताजगी के लिए :- गाय के घी के साथ बादाम, मिश्री, एला, कंकोल एवं शहद मिलाकर सेवन करें |
  • तेज दिमाग :- यादाश्त या स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए बादाम भिगोकर खाएं |
  • सर दर्द :- बादाम एवं केसर को गाय के घी में खरल करके खाएं |इसके तेल से मालिश करें |
  • कान में दर्द :- बादाम का तेलकान में डालें |
  • दिमाग की शक्ति बढ़ाने के लिए :- भिगोई हुयी बादाम, असगंध, पीपल, गाय का घी एवं मिश्री की खीर बनाकर खाएं |

3. पिप्पली से बढ़ाये स्मरण शक्ति एवं दिमाग को करें तेज

छोटी पीपल या पिप्पली भारत के उष्ण प्रदेशों में पाई जाने वाली वनस्पति है | इसके फल एवं मूल औषधिय प्रयोग में लिए जाते हैं | आइये जानते है इसके गुण एवं उपयोग :-

  • वीर्य :- अनु उष्ण होता है |
  • रस :- कटू होता है |
  • त्रिदोष प्रभाव :- वात एवं कफ शामक है |
  • विपाक :- मधुर होता है |
पिप्पली
पिप्पली

पिप्पली का उपयोग बहुत से रोगों की दवा तैयार करने के लिए किया जाता है | जानते है उन रोगों एवं दवाओ के बारे में :-

  • श्वास एवं कास रोग में :- पिप्पली का चूर्ण मधू (शहद) के साथ दें |
  • तेज दिमाग के लिए :- स्मरण शक्ति बढाने के लिए पिप्पली, शंखपुष्पी एवं ब्राह्मी को समान मात्रा में मिलाकर चूर्ण बना लें | रोज दूध के साथ 1 ग्राम चूर्ण का सेवन करने से मानसिक क्षमता बढती है |
  • अनिद्रा :- पिप्पली एवं अश्वगंधा का चूर्ण भैंस के दूध के साथ लें |
  • ज्वर या बुखार में :- सोंठ(1 ग्राम ), अजवायन (6 ग्राम) एवं पिप्पली (3 ग्राम ) रात में भिगोकर छोड़ दें | इस पानी को गर्म करके छानकर पीलें |
  • कटीशूल या कमर दर्द :- सोंठ एवं पिप्पली से सिद्ध तेल से मालिश करें |
  • उदर रोग :- पिप्लयाशव का उपयोग करें |

4. ज्योतिष्मती है बुद्धि एवं मानसिक क्षमता बढाने वाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी

इसे स्थानीय भाषा में माल्कग्नी एवं अंग्रेजी में स्टाफ ट्री भी कहते हैं | यह एक लता या बेल होती है |यह हिमालय के उष्ण क्षेत्रो में पायी जाती है |आइये जानते है इसके गुण एवं उपयोग :-

  • रस :- कटू होता है |
  • वीर्य :- उष्ण होता है |
  • विपाक :- कटू होता है |
  • त्रिदोष :- कफ एवं वात नाशक है |
तेज दिमाग
ज्योतिष्मती

इस बेल के बीज एवं तेल औषधिय उपयोग में आते हैं | जानते हैं किन रोगों एवं औषधियों में उपयोग आती है ज्योतिष्मती :-

  • चर्म रोग :- ज्योतिष्मती के तेल का उपयोग करें |
  • वाजीकरण :- मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए इसका दुग्ध घृत के साथ सेवन करें |
  • तेज दिमाग के लिए :- मालकांगनी के तेल को (10 बूंद) गौ-घृत के साथ सेवन करें |
  • अनियमित मासिक धर्म :- अनार्तव, कष्टार्तव एवं अल्पार्तव में इसका तेल (15 बूंद) सुबह शाम दें |
  • मधुमेह में रामबाण :- ज्योतिष्मती तेल, रसायन, गो घृत, सार गंधक एवं आंवला समान मात्रा में लेकर उसका कल्प करा लें | 15 दिन तक 125 ग्राम सेवन करें |
  • बुद्धि बढाने के लिए :- मानसिक क्षमता बढाने के लिए इसके कृष्ण तेल का प्रयोग करें |

5. रसोन (लहसुन) है मानसिक क्षमता बढाने की आयुर्वेदिक दवा, जाने इसके उपयोग

लहसुन से आप सभी परिचित हैं | रक्तदाब वृद्धि, मानसिक क्षमता बढाने एवं जीर्ण ज्वर जैसे रोगों में रसोन बहुत लाभदायक होता है | लहसुन को कुछ लोग तामसिक बुद्धि बढाने वाला भी मानते हैं | क्योंकि इसका वीर्य उष्ण होता है | आइये जानते हैं रसोन या लहसुन के गुण :-

  • रस :- कटू होता है |
  • वीर्य :- उष्ण होता है |
  • विपाक :- कटू होता है |
  • त्रिदोष प्रभाव :- कफ एवं वात शामक है |
तेज दिमाग
रसोन

लहसुन के औषधिय गुणों के कारण इसका उपयोग बहुत से रोगों के लिए किया जाता है | आइये जानते हैं उन रोगों एवं एवं दवाओं के बारे में :-

  • चर्म रोग :- लहसुन को या इसके पेस्ट को घिसें |
  • कान में दर्द :- रसोन से पक्व तेल डालें |
  • दिमाग तेज करने के लिए :- लहसुन के उपयोग से मानसिक विकास होता है लेकिन यह तामसिक प्रकर्ति का है |
  • वाजीकरण :- यह उत्तेजना लाता है | इसके उपयोग से शीघ्रपतन , इन्द्रिय शिथिलता आदि में अच्छा लाभ मिलता है |
  • कफ विकार एवं श्वास रोग :- लहुसन का अवलेह बना कर खिलाएं |

6. मंडूकपर्णी (मांडूकी) से बनाये अपना तेज दिमाग :-

यह ब्राह्मी की तरह ही दिखता है | हरिद्वार क्षेत्र में इसे ब्राह्मी समझ कर बेचा भी जाता है |इसके पंचांग औषधिय गुणों से भरपूर होते हैं | आइये जानते हैं इसके आयुर्वेदिक गुणों के बारे में :-

  • रस :- तिक्त एवं कषाय होता है |
  • वीर्य :- शीत होता है |
  • विपाक :- मधुर होता है |
  • त्रिदोष प्रभाव :- कफ एवं पित्त शामक होता है |
मंडूकपर्णी
मंडूकपर्णी

भारत में ऊँचे प्रदेशो में जलाशयों के किनारे होने वाली इस औषधि के बहुत से स्वास्थ्य लाभ है | यहाँ पर जानते है उन रोगों एवं दवाओं के बारे में जिनमे इसका उपयोग होता है :-

  • जीर्ण आमवात :- मंडूकपर्णी का चूर्ण (500 मिली ग्राम ) रोजाना 10 दिन तक सेवन करें |
  • आयु बढाने के लिए :- इसका चूर्ण (2 ग्राम ) रोजाना दूध के साथ 41 दिन तक सेवन करें |
  • बुद्धि बढाने के लिए :- मंडूकपर्णी चूर्ण (2 ग्राम) गाय के दूध के साथ रोजाना 45 दिन तक सेवन करने से मानसिक क्षमता बढ़ जाती है एवं दिमाग तेज दोड़ने लगता है |
  • तोतलापन दूर करने में :- बच्चों का तोतलापन दूर करने के लिए इसके पत्ते चब्बाने को दें |
  • श्रवण शक्ति वर्धन के लिए :- इसके साथ ब्राह्मी , जटामांसी एवं मुलेठी को समान मात्रा में मिलाकर रोजाना 2 ग्राम खिलावें |

7. धान्यक (धनियाँ) से बढ़ाये अपनी मानसिक क्षमता एवं स्मरण शक्ति

धनियाँ या धान्यक के उपयोग से आप सभी परिचित है | मसालों में इसका अहम स्थान है | लेकिन इसके औषधिय गुणों के कारण मसालों के साथ आयुर्वेद में भी इसका बहुत सी औषधियों में उपयोग किया जाता है | इसके आयुर्वेदिक गुण इस प्रकार हैं :-

  • रस :- कषाय होता है |
  • वीर्य :- उष्ण होता है |
  • विपाक :- मधुर होता है |
  • त्रिदोष प्रभाव :- त्रिदोष नाशक है |
धान्यक
धान्यक

स्वादिष्ट व्यंजन एवं मसोलों के रूप में इसके उपयोग को आप सभी जानते है | इसके फल पंचांग एवं तेल का उपयोग औषधि के रूप में होता है | यहाँ पर हम बात करेंगे इसके औषधिय उपयोग क्या हैं ?

  • रक्तपित :- धनियाँ, किशमिश, बिही दाने का हिम एवं शक्कर मिला कर खिलाने से लाभ होता है |
  • अम्लपित्त :- धनियाँ एवं मिश्री का क्वाथ पिलायें |
  • बवासीर :- हरे धनिये की चटनी गर्म करके अर्श की सिकाई करें |
  • स्मृति बढ़ाने के लिए :- धनियाँ बिजमज्जा का क्षीर पाक बना कर खिलाने से दिमाग तेज होता है एवं स्मरण शक्ति बढ़ जाती है |
  • रक्तप्रदर :- धनियाँ के शीतकषाय का सेवन करें |

यहाँ पर दी गयी जानकारी कोई भी चिकित्सकीय सलाह नहीं है | किसी भी रोग में यहाँ बतायी गयी जानकारी का उपयोग चिकित्सकीय सलाह के उपरांत ही करें या उचित जानकारी अवश्य ले लेवें |

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You