जड़ी बूटी मंजिष्ठा के फायदे | Rubia cordifolia Linn. (Manjishtha) Benefits in Hindi

मंजीठ या मंजिष्ठा नाम से पहचाने जाने वाली आयुर्वेदिक जड़ी – बूटी है | यह मंजिष्ठ पौधे की जड़ है जिसका प्रयोग रक्तविकारों में प्रमुखता से किया जाता है | मंजिष्ठा के फायदे अगर देखें तो यह आयुर्वेदिक जड़ी – बूटी महत्पूर्ण रक्तशोधक है अर्थात रक्त की विकृति एवं असुद्धि में इसका प्रयोग आयुर्वेदिक चिकित्सक बताते है |

आज इस आर्टिकल में हम आपको मंजिष्ठा के बारे में सामान्य जानकारी उपलब्ध करवाएंगे | आचार्य चरक ने इस औषधि को वर्ण्य, विष्घन, ज्वरघन गणों में गिना है | साथ ही आचार्य सुश्रुत ने इस जड़ी – बूटी को पित्तसंशमन द्रव्यों में गणना की है | सामान्य रूप से देखा जाये तो यह त्वचा विकार, बुखार एवं रक्तविकारों में उपयोगी औषधि है |

मंजिष्ठा के अन्य नाम | Different Names of Manjishtha

मंजिष्ठा के फायदे

इसे विकसा, जिंगी, समंगा, कालमेषिका, मंडूकपर्णी, भंडिरी, भंडी, योजन्नवल्ली, रसायनी, अरुणा, काला, रक्तांगी, रक्तयष्टिका, भंडीतकी, गंडरी एवं वस्त्ररंजिनी आदि नामों से भी इसे जाना जाता है | ये सभी नाम मंजिष्ठा के पर्याय है |

नाम क्यों कहा जाता है ?
मंजिष्ठा क्योंकि यह खुबसूरत होती है |
विकसा अनेक गण समूहों को समाहित रखती है |
जिंगी यह शरिर में फ़ैल जाती है |
समंगा रोगों को नष्ट करने के लिए शरिर में चारो और प्रसारित हो जाती है |
कालमेषी रसायनी होने के कारण काल से स्पर्धा करती है |
मंडूकपर्णी इसके पते मेंढक के सामान होते है |
भंडीरी यह उत्तम रंग बनाती है |
भांडी उत्तम वर्ण एवं अनेक गुणों को धारण करती है |
योजनवल्ली इसकी लता बहुत लम्बी एक योजन तक जा सकती है |
वस्त्ररंजिनी यह वस्त्रों को रंजने के काम आती है |

मंजिष्ठा के औषधीय गुण | Medicinal Properties of Manjishtha

मंजिष्ठा मधुरा तिक्ता कषाया स्वरवर्ण कृत |

गुरुरुक्षना विषश्लेष्मशोथोयोन्यक्षीकर्णरुक |

रक्तातिसारकुष्ठस्त्रवीसर्पवर्णमेहनुत ||

भावप्रकाश निघंटु (हरितक्यादी वर्ग)

औषधीय कर्म

दोषकर्म: कफ-वात शामक

अन्यकर्म: वर्ण्य, स्वर्य, विषघ्न, रक्तप्रसादन

रोगघनता: रक्तातिसार, शोथ, योनी, अक्षि, कान के विकार, कुष्ठ, विसर्प, व्रण, मेह एवं मूत्रकृच्छ

मंजिष्ठा रसपंचक

  1. रस – मधुर, तिक्त, कषाय
  2. गुण – गुरु, रुक्ष
  3. विपाक – कटु
  4. वीर्य – उष्ण

मंजिष्ठा के फायदे | Benefits of Manjishtha

त्वचा विकार (मंजिष्ठा पाउडर फॉर फेस) – यह औषधीय जड़ी – बूटी उत्तम रक्तशोधक की श्रेणी में आती है | रक्त शुद्ध होने से त्वचा सम्बन्धी विकार भी अपने आप ठीक होने लगता है | कुष्ठ जैसी असाध्य बिमारियों में भी पुराने से समय से इसका उपयोग होते आया है | आचार्य सुश्रुत ने इसे कुष्ठ के लिए भी उत्तम माना है |

घाव में मंजिष्ठा के फायदे – आग से जलने पर त्वचा में घाव हो जाते है | इन घावों में मंजिष्ठा घृत का उपयोग बाह्य प्रयोग के रूप में किया जाता है | यह औषधीय जड़ी – बूटी घावों को ठीक करने के साथ – साथ घाव में होने वाली जलन आदि को तीव्रता से ठीक करती है | मंजिष्ठादि तेल के उपयोग से भी घाव में आराम मिलता है |

विसर्प रोग – मंजिष्ठा का उपयोग विसर्प रोग में फायदेमंद होता है | यह शतधौतघृत के साथ अगर प्रयोग की जाए तो विसर्प जैसे रोग तीव्रता से नष्ट होते है |

मधुमेह रोग – मंजिष्ठा क्वाथ का प्रयोग करना फायदेमंद है | यह क्वाथ पित्तशामक एवं रक्तशोधक होने से मधुमेह एवं प्रमेह में चाहे वह रक्तज हो या पित्तज सभी फायदे देता है |

योनी रोग में मंजिष्ठा के फायदे – यह उष्णवीर्य वाली औषधि है | अत: गर्भाशयोतेजक एवं शोधन का कार्य करती है | कष्टार्तव (माहवारी का रुक – रुक के आना), अनार्तव (माहवारी का न आना), प्रसव पश्चात (बच्चे के जन्म के पश्चात) गर्भाशय का शोधन करने में उपयोगी साबित होती है |

रक्तशोधक – अर्थात यह औषधीय जड़ी बूटी रक्तप्रसादन का कार्य करती है | यह अपने तिक्त, कषाय एवं मधुर रस के कारण खून की खराबी को ठीक करने का कार्य करती है | यह रक्त में उपस्थित सभी तीनो दोषों का हरण करती है | साथ ही रक्तगत विष का शोधन भी करती है | रक्तगत विष से अभिप्राय खून में उपस्थित गंदगियाँ |

कैंसर रोग में मंजिष्ठा के फायदे – मंजीठ में कैंसर रोधी तत्व विद्यमान रहते है | यह कैंसर की कोशिकाओं के विस्तार को रोकने का कार्य करती है | इसमें Mollugin नामक यौगिक होता है | जो कौलन कैंसर से रक्षा करता है | कैंसर सेल की बढ़ोतरी को रोकने के लिए यह लाभदायक है |

आँखों के लिए है फायदेमंद – आँखों में होने वाली जलन, दर्द एवं सुजन में मंजिष्ठा बहुत फायदेमंद है | इसका लेप बनाकर आँखों पर लगाने से आँखों में होने वाली जलन, दर्द एवं सुजन में आराम मिलता है |

मंजिष्ठा का पौधा कैसा होता है ?

यह लता श्रेणी का पौधा है अर्थात इसकी बेल होती है | यह शाखा प्रशाखायुक्त अरोहिनी लता है जो दूर तक बहुत विस्तार में फैलती है | इसका काण्ड अर्थात तना कई योजन लम्बा एवं खुरदरा होता है | जड़ की तरफ से यह कठोर होता है आगे – आगे हल्का मालूम पड़ता है |

इसकी त्वचा सफ़ेद रंग की होती है | आगे का भाग लाल रंग में होता है | मंजिष्ठा के पते ग्रंथि पर चार – चार के चक्करों में लगते है | जिसमे से दो बड़े होते है | इनकी लम्बाई 1 से 4 इंच तक लम्बी हो सकती है | बेल पर फुल सफ़ेद रंग के गुच्छों में लगते है |

मंजिष्ठा के फल रंग में काले चने के आकार के गोलाकार, मांसल, बैंगनी एवं दो बीज युक्त होते है |

मंजिष्ठा की जड़ लम्बी एवं गोल ताजा अवस्था में लाल रंग की एवं सूखने पर कुछ काली हो जाती है | औषध उपयोग में इसकी जड़ों का ही इस्तेमाल होता है | जिसकी सहायता से विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं का निर्माण किया जाता है |

कौन – कौन से आयुर्वेदिक योगों में मंजिष्ठा का प्रयोग होता है ?

इसके उपयोग से आयुर्वेद में महामंजिष्ठादी क्वाथ, मंजिष्ठारिष्ट, खदिरारिष्ट, महामंजिष्ठाध्यासव आदि का निर्माण किया जाता है | साथ ही मंजिष्ठा चूर्ण का निर्माण भी मंजिष्ठा की जड़ों को पीसकर किया जाता है |

सेवन की मात्रा एवं नुकसान

इसका सेवन वैद्य सलाह से ही करना चाहिए | सेवन के लिए इसकी मूल का चूर्ण उपयोग में लिया जाता है | यह औषधि अभ्यंतर एवं बाह्य दोनों रूपों में प्रयोग में ली जाती है | वैद्य सलाह से ही इसका सेवन करना अधिक फायदेमंद साबित होता है | मंजिष्ठा के फायदे के साथ – साथ कुछ नुकसान भी हो सकते है | अत: निर्देशित मात्रा एवं अनुपान अनुसार ही इस औषधि को ग्रहण करना चाहिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *