खून साफ करने के लिए चमत्कारिक रक्त शोधक क्वाथ

खून साफ करने के लिए चमत्कारिक रक्त शोधक क्वाथ

खून की खराबी त्वचा विकारों एवं अन्य कई शारीरिक समस्याओं की जननी होती है | गलत आहार – विहार के सेवन एवं रसज धातुओं की विकृति , अधारणीय वेगों को धारण करने से (मल एवं मूत्र का वेग रोकने से) रक्त में कई अशुद्धियाँ मिल जाती है , जिससे रक्त अशुद्ध हो जाता है |

खून की खराबी

रक्त हमारे शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति करने एवं शरीर के निर्माण में सहयोग का कार्य करता है | लेकिन दूषित रक्त शरीर में विकृति फैलता है | इसका पहला असर हमारी त्वचा पर दिखाई देता है , जैसे चेहरे पर फोड़े – फुंसियाँ होना , त्वचा पर खुजली , दाद आदि | इन सभी समस्याओं को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक दवा , स्किन क्रीम आदि का प्रयोग करते है लेकिन फिर भी ये जल्दी से ठीक नहीं होते |

क्योंकि इन सभी समस्याओं में रक्त की विकृति मुख्य होती है , अत: आज हम आपके लिए एक रक्त शोधक क्वाथ की जानकारी लेकर आयें है जिसका प्रयोग करने से आप की सभी प्रकार की रक्त विकृति दूर होती है एवं फोड़े – फुंसियों की समस्या से निजात मिलता है |

रक्त शोधक क्वाथ 

इसके लिए निम्न औषधियों की आवश्यकता होगी जिन्हें आप किसी पंसारी की दुकान से आसानी से खरीद सकते है |

चोपचीनी – 5 ग्राम

उन्नाव – 5 ग्राम

आंवला – 5 ग्राम

हरड – 5 ग्राम

बहेड़ा – 5 ग्राम

सफ़ेद चन्दन – 5 ग्राम

लाल चन्दन – 5 ग्राम

ब्रह्मदंडी – 5 ग्राम

इन सभी को ऊपर बताई गई मात्रा में ले आवें | अब इनको हल्का कूटकर दरदरा कर ले | आधा लीटर पानी में रात भर के लिए इनको भिगों दे |  सुबह पानी को आग पर गरम करे , जब पानी एक चौथाई बचे तो इसे उतार कर ठंडा करले | इस क्वाथ को छान कर रोगी को पीना चाहिए |

सेवन की विधि – रक्त अशुद्धि से पीड़ित को 50 ग्राम की मात्रा में इस क्वाथ का प्रयोग सुबह एवं शाम कुच्छ समय के लिए करना चाहिए | अगर आप क्वाथ को सीधा न पी सके तो इसमें 10 ग्राम शहद मिलाकर सेवन कर सकते है |

रक्त शोधक क्वाथ के फायदे 

खून की खराबी अर्थात रक्त अशुद्धि मे इस क्वाथ का प्रयोग करने से जल्द ही रक्त शुद्ध होने लगता है | रक्त की अशुद्धि के कारण होने वाली खुजली, चेहरे की फोड़ा – फुंसी, दाद, पिम्पले आदि सभी विकार दूर होते है | साथ ही खून शुद्ध होने से कब्ज, चर्म रोग, शारीर में बढ़ा हुआ पीत, कमजोर शरीर एवं चक्कर आना आदि समस्याएँ जड़ से खत्म हो जाती है |

अगर आप रक्त की अशुद्धि से झुझ रहें है तो निश्चित ही यह योग आपके काम आयेगा |

धन्यवाद |

 

Related Post

मधुमेह की आयुर्वेदिक दवाईयां – मधुमेह का आयु... मधुमेह की आयुर्वेदिक दवाइयाँ एवं इसका आयुर्वेदिक उपचार शुगर अथवा मधुमेह से पीड़ितों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है | इस रोग से पीड़ित व्यक्ति सहज जीव...
इस सब्जी के पानी से बाल हो जायेंगे काले – डा...   बालों को काला करने के घरेलु उपाय  वर्तमान समय में बालों से परेशान रहने वाले लोगों की संख्या दिनों - दिन बढती जारही है | बालों की समस्याओं में...
सिंहनाद गुग्गुलु – जाने इसके फायदे, निर्माण ... सिंहनाद गुग्गुलु (Singhnad Guggulu) - आयुर्वेद की यह दवा वातदोषों के उपचारार्थ उपयोग में ली जाती है | इसका प्रयोग आमवात , वातरक्त, रुमाटाइड पेन एवं सं...
अशोकारिष्ट / Ashokarishta – के फायदे, स्वास्... अशोकारिष्ट / Ashokarishta in Hindi - यह एक आयुर्वेदिक फीमेल टॉनिक है | इसका प्रयोग महिलाओं की मासिकधर्म की समस्याओं में प्रमुखता से किया जाता है | मास...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.