राम तुलसी : औषधीय गुण, उपयोग एवं फायदे

तुलसी एक दैवीय पौधा है | हिन्दू धर्म में तुलसी को माँ लक्ष्मी का रूप माना जाता है | लेकिन आयुर्वेद की नजर से देखें तो तुलसी एक बहुत ही गुणकारी पौधा है इसमें अनेकों औषधीय गुण पाए जाते हैं | तुलसी पांच प्रकार की होती है | राम तुलसी भी तुलसी का ही एक प्रकार है | इसमें एंटी बैक्टीरियल, एंटी ओक्सिडेंट और एंटी फ्लू गुण होते हैं | तुलसी के पांच प्रकार ये हैं :-

  • वन तुसली
  • निम्बू तुसली
  • राम तुलसी
  • विष्णु तुलसी
  • श्याम तुलसी

राम तुलसी क्या है / what is ram tulsi?

यह तुलसी प्रजाति का ही एक पौधा है | भारत में यह मुख्यतः उष्ण प्रान्तों में पायी जाती है | अंग्रेजी में इसे wild basil के नाम से जाना जाता है | इसका उपयोग पंच तुलसी अर्क में किया जाता है | राम तुलसी के बारे में जाने :-

  • कुल :- Lamiaceae
  • स्थानीय नाम – राम तुलसी
  • संस्कृत नाम – फणीज्जक, अर्जक
  • आकार (स्वरुप) – क्षुप, २ से ३ फीट ऊँचा होता है |
  • पत्ते – हरे रंग के सरल एवं अभिमुख होते हैं |
  • पुष्प – सफ़ेद रंग के होते हैं |
  • उत्पति स्थान – उष्ण प्रान्तों में
  • संग्रह काल – मार्च, अप्रैल

Ram tulsi (राम तुलसी) के औषधीय गुण

रामतुलसी अत्यंत लाभदायक एवं स्वास्थ्यवर्धक गुणों से युक्त होता है | इसके औषधीय गुण निम्न है :-

राम तुलसी के औषधीय गुण
  • रस – कटु, तिक्त
  • गुण – रुक्ष
  • वीर्य – उष्ण
  • विपाक – कटु
  • त्रिदोष प्रभाव – वात नाशक
  • उपयोग – कफ़ निस्सारक, कास एवं श्वास नाशक, दीपन, ज्वरनाशक, स्वेदजनक, कृमि नाशक

रोगानुसार राम तुलसी के फायदे एवं उपयोग

तुलसी एक औषधीय पौधा है | प्राचीन काल से ही इसका उपयोग अनेकों रोगों की दवा के रूप में किया जाता रहा है | इसमें एंटी बैक्टीरियल, एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी ओक्सिडेंट एवं एंटी बायोटिक तत्व पाए जाते हैं | इसका उपयोग शरीर से हानिकारक एवं अवांछित तत्वों को बाहर निकालने के लिए भी किया जाता है |

  • कान में दर्द होने पर तुलसी स्वरस गर्म करके कान में डाले |
  • शुक्रमेह, सुजाक होने पर इसके पत्तो का फांट दें |
  • ज्वर, खांसी, जुखाम आदि के लिए रामतुलसी के पत्र एवं बीजों का फांट दें |
  • सर दर्द होने पर तुसली बीज चूर्ण फायदेमंद होता है |
  • आमवात एवं पक्षाघात होने पर इसके तेल का उपयोग बहुत फायदेमंद रहता है |
  • महिलाओं में होने वाले प्रदर रोगों में इसके पत्र का स्वरस पिलायें |
  • गर्भवती महिलाओं को उल्टी होने की समस्या में तुलसी बीज चूर्ण शहद के साथ सेवन करायें |
  • मुहं में दुर्गन्ध आने पर इसके पत्तो एवं बीजों का सेवन करें |
  • शरीर से हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने के लिए इसके बीजो का चूर्ण सेवन करें |
  • यह कीटाणुनाशक भी होता है |

धन्यवाद !

हमारे अन्य स्वास्थ्य से जुड़े लेख :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
Open chat
Hello
Can We Help You