पंचकर्म – अपनी गाड़ी की तरह अपने शरीर की सर्विसिंग भी करवाए

पंचकर्म / Panchkarma

updated – 29/10/2017

बाइक या कार का उपयोग आप सभी करते है तो आपको ये भी पता होगा की अपनी कार को अच्छी तरह से मेन्टेन रखने के लिए हम हर महीने या एक निश्चित दुरी तय करने के बाद उसकी किसी सर्विस सेण्टर से सर्विस करवाते है ताकि गाडी के कल-पुर्जे अच्छी तरह काम करते रहे | आप ने ध्यान दिया हो तो गाड़ी के सर्विस करने के बाद वह चलने में और बेहतर हो जाती है | लेकिन अगर इसके विपरीत हम गाडी को खरीदने के बाद एक बार भी सर्विसिंग न करवाए तो क्या उस मशीन का उपयोग हम लम्बे समय तक कर सकते है ? आपका उतर होगा नहीं | क्योकि मशीनरी में बैगर तेल या सर्विसिंग के उसके कल – पुर्जे काम करना बंद कर देते है या वे ख़राब हो जाते है |

पंचकर्म

हमारा शरीर भी यांत्रिक मशीन की तरह काम करता है, फर्क सिर्फ इतना है की यह सजीव है और अपनी हीलिंग अपने – आप करता रहता है लेकिन जीवित रहने के लिए हम आहार ग्रहण करते है और वर्तमान समय में खाना या वातावरण कितना शुद्ध है ये सभी को पता है | आजकल जो हम खाते है उनमे से 90 % पद्धार्थो में केमिकल या अन्य विजातीय तत्व मिले हुए होते है , जब हम इनका उपयोग करते है तो ये हमारे शरीर में इकट्ठा होते रहते है और कालांतर में जाकर निश्चित ही किसी रोग का कारण बनते है | अब प्रश्न आता है की इनसे बचे कैसे तो इनसे बचना तो मुस्किल है लेकिन इन तत्वों को शरीर से बहार निकालना हमारे लिए आसान है और जिस पद्धति से इनको बहार निकाला जा सकता है वह है – आयुर्वेद की पंचकर्म चिकित्सा पद्धति |

आइए अब समझते है पंचकर्म के बारे में

पंचकर्म दो शब्दों से मिलकर बना है – पञ्च + कर्म | यंहा पञ्च मतलब – पांच और कर्म से तात्पर है – कार्य |

आयुर्वेद में – “क्रियते अनेन इति कर्म:” क्रिया या कर्म को चिकित्सा भी कहते है |

पंचकर्म में पांच कर्म किये जाते है जो इस प्रकार है –

  1. वमन – उल्टी करवाना
  2. विरेचन – दस्त लगवाकर अशुद्धियों को बाहर निकलना |
  3. अनुवासन – एनिमा देना (मेडिकेटिड घी)
  4. निरुह – एनिमा देना (औषध क्वाथ)
  5. नश्य – नाक के माध्यम से औषध देना |

कैसे किया जाता है पंचकर्म ? ( पंचकर्म की विधि )

मुख्यत: पंचकर्म तीन चरणों में किया जाता है –

  1. पूर्व कर्म – पाचन / स्नेहन / स्वेदन
  2. प्रधान कर्म – पांचो कर्म
  3. पश्चात कर्म – संसर्जन कर्म / रसायन / रोग का शमन

पंचकर्म का पूर्वकर्म

जिस प्रकार मलिन वस्त्र (गंदे) पर रंग नहीं चढ़ता , रंग चढाने के लिए पहले उसे साफ़ करना पड़ता है उसी प्रकार पंचकर्म करने से पूर्व शरीर को सुध किया जाता है ताकि पंचकर्म का पूर्ण लाभ हो | पूर्वकर्म में निम्न लिखित कर्म किये जाते है |

  • पाचन – सबसे पहले पाचन क्रिया ठीक की जाती है क्योकि पाचन ठीक होगा तो ही पंचकर्म ठीक तरीके से होगा
  • स्नेहन – यह दो प्रकार से किया जाता है –
  1. बाह्य स्नेहन – इसमें औषद तेल से शारीर की मालिस की जाती है |
  2. अभ्यंतर स्नेहन – इसमें मेडिकेटिड घी ये तेल रोगी को पिलाया जाता है |
  • स्वेदन – इसमें औषधियों की भाप से शारीर में पशीना लाया जाता है जिससे की शरीर में इकठ्ठा हुए मल छूटकर कोष्ठों ( अमाशय ) में एकत्रित हो जावे |

प्रधान कर्म

  • वमन – इस कर्म में निपुण चिकित्सक की देख – रख में औषधियों के द्वारा वमन ( उलटी ) करवाई जाती है | जिससे की अमाशय में इकट्ठी हुई गंदगिया वमन के द्वारा शारीर से बहार निकल जावे |
  • विरेचन – निपुण चिकित्सक की देख-रेख में औषधियों के द्वारा रोगी को दस्त लगवाये जाते है , जिसके कारन गुदा मार्ग में स्थित दोष शारीर से बहार निकलते है |
  • अनुवाशन – इस कर्म में शारीर में औषधी घी या तेल से एनिमा लगाया जाता है | इसका कार्य शारीर को उर्जा देना और गंदगी को शारीर से बहार निकलना होता है
  • निरुह बस्ती – इसमें भी शारीर में एनिमा दिया जाता है जो औषधी काढ़े रूप में होता है और इसका कार्य भी शारीर में स्थित दोषों को बाहर निकालना है |
  • नश्य – साइनस, एलर्जी आदि रोगों में नाक के द्वारा औषधि दी जाती है | यह औषधि घी , तेल या अन्य किसी रूप में हो सकती है |

पंचकर्मा के पश्चात कर्म

प्रधान कर्म के बाद किया जाने वाला कार्य पश्चात कर्म कहलाता है |

  • संसर्जन कर्म – पूर्वकर्म और प्रधान कर्म के बाद शरीर शुद्ध हो जाता है उसे बनाए रखने के लिए संसर्जन कर्म किया जाता है |
  • रसायन कर्म – इस कर्म में व्यक्ति को Rejuvanation अर्थात शारीर की कायाकल्प करने के लिए , व्यक्ति की प्रकृति और रोग के अनुशार रसायन का सेवन करवाया जाता है |
  • शमन कर्म – इसमें रोगी के रोग का पूर्ण रूप से रोग का शमन कर के उसे सामान्य जीवन जीने के लिए तैयार कर दिया जाता है |

पंचकर्म क्यों जरुरी है ?

जिस प्रकार एक गंदे कपड़े पर अगर हम रंग चढ़ाना चाहेंगे तो रंग सही तरीके से नही चढ़ेगा लेकिन जब उसी कपड़े को धोकर साफ़ करने के बाद रंग चढ़ावे तो रंग भली प्रकार चढ़ेगा | यही सिद्धांत हमारे शारीर पर लागु होता है | क्योकि दवा का असर उस समय होता है जब हमारा शरीर उसे स्वीकार करे अगर शरीर में पहले से ही गंदगी ( विकृत दोष ) पड़ी है तो दवा अपना असर नहीं करेगी |

आयुर्वेद के ऋषि मुनिओ ने इसे पहचान लिया और उन्होंने दवा से पहले शरीर के शोधन को प्राथमिकता दी | यही शोधन चिकित्सा अब पंचकर्म कहलाती है | अत: रोग के शमुल नाश के लिए पहले शारीर का शोधन जरुरी होता है और आयुर्वेद में रोगी को पूर्ण स्वास्थ्य लाभ के लिए पंचकर्म पद्धति अपनाइ जाती है | पंचकर्म को कोई भी करवा सकता है इसके लिए उसे रोगी होना जरुरी नहीं क्योकि यह शोधन पद्धति है इसलिए हर कोई इसे अपना सकता है |

यह पंचकर्म का संक्षिप्त परिचय है | सम्पूर्ण विश्व आज पंचकर्म के चमत्कारिक लाभों के कारण इसके पीछे भाग रहा है और हम इससे अनभिज्ञ है | इसलिए आप सभी से निवेदन है की इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करे ताकि अन्य लोगो को भी आयुर्वेद और इसकी चिकित्सा पद्धतियों के बारे में जानकारी मिले और वे इससे लाभान्वित हो सके |

धन्यवाद

external link

Related Post

अस्थमा रोग से छुटकारे के लिए योग एवं प्राणायामों क... अस्थमा के लिए योग एवं प्राणायाम  अस्थमा की समस्या आज दिन प्रतिदिन बढती जा रही है | शहर हो या गाँव आज सब जगह इस रोग से पीड़ितों की संख्या में आये दिन इ...
शीघ्र स्खलन का आयुर्वेदिक उपाय – मालकांगनी य... शीघ्र स्खलन (शीघ्र पतन) क्या है ? / What is Premature Ejaculation in Hindi ? शीघ्र स्खलन या शीघ्रपतन कोई रोग नहीं है | सहवास के समय स्त्री और पुरुष द...
लौंग / लवंग – लौंग के फायदे और देसी नुस्खे... लौंग / लवंग / Clove / Caryophyllus aromaticus : परिचय  लौंग भारतीय रसोई घर का एक अभिन्न मसाला जिसे कौन नहीं जनता ? भारत में सभी घरो मे...
लवण भास्कर चूर्ण बनाने की विधि – इसके स्वास्... लवण भास्कर चूर्ण / Lavan Bhaskar Churna in Hindi आयुर्वेद में रोगों के इलाज के लिए सबसे अधिक चूर्ण का इस्तेमाल किया जाता है | लवण भास्कर चूर्ण भी आयु...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.