आयुर्वेदानुसार गर्भवती महिला के लिए आहार एवं औषध की व्यवस्था |

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने आहार का ध्यान रखना भी परम आवश्यक है | गर्भावस्था महिला के जीवन की एसी अवस्था होती है , जो गर्भवती एवं शिशु दोनों की वर्द्धि और विकास को प्रभावित करते है | इस अवस्था में महिला जिस प्रकार का आहार ग्रहण करती है, गर्भवती और शिशु दोनों पर इसका प्रभाव पड़ता है | गर्भावस्था के 9 महीने तक गर्भवती को संतुलित एवं पोषक तत्वों से युक्त आहार का सेवन करना चाहिए |

आयुर्वेद के अनुसार गर्भवती की डाइट प्लान

स्वदेशी उपचार की इस पोस्ट में हम आपको आयुर्वेद के अनुसार गर्भिणी माता के आहार के बारे में बताएँगे | आयुर्वेद के विभिन्न ग्रंथो में गर्भवती के लिए आहार की व्यवस्था हर महीने अनुसार बताई गई है | चलिए जानते है इस आहार व्यवस्था को |

आयुर्वेद के अनुसार गर्भवती महिला का आहार / What is The Diet for Pregnant Woman in Ayurveda ?

गर्भावस्था के पहले महीने में 

गर्भावस्था के पहले महीने में गर्भिणी स्त्री को ठंडे दूध या जल का सेवन करना चाहिए | साथ ही पौष्टिक और संतुलित भोजन को अपनाना चाहिए | आयुर्वेद के ग्रन्थ भावप्रकाश में पहले महीने में गर्भवती को मुलेठी, सोगौंन के बीज, अश्वगंधा और देवदार आदि औषधियों को दूध के साथ लेना चाहिए | जैसे ही गर्भ ठहरने का पता चले तो पहले महीने में गर्भवती द्वारा मधुर, शीत और द्रव्यों पदार्थो का सेवन करना आयुर्वेद के अनुसार फायदेमंद होता है |

दुसरे महीने में आहार का सेवन 

दुसरे महीने में गर्भिणी को मधुर गण की औषधियों (गेंहू, चावल, काकोली, द्राक्षा, महुआ आदि) से सिद्ध दूध का सेवन करना चाहिए | भावप्रकाश में अश्मंतक, तिल (काले) और शतावरी को दूध में मिलाकर गर्भिणी को सेवन करवाना लाभदायक होता है |

तीसरे महीने में गर्भिणी का आहार 

आयुर्वेद के ग्रन्थ चरक संहिता के अनुसार इस महीने में गर्भिणी महिला को दूध में घी व शहद मिलाकर सेवन करनी चाहिए | लेकिन घी और शहद को बराबर मात्रा में मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए , इनको हमेशां विषम मात्रा में लेना चाहिए | आचार्य सुश्रुत के अनुसार पहले महीने से लेकर तीसरे महीने तक महिला को मधुर , शीतल और लघु आहार को ग्रहण करना चाहिए |

गर्भावस्था के चौथे महीने में गर्भिणी का आहार 

चौथे महीने में गर्भ स्थिरता को प्राप्त कर लेता है | इस लिए इस महीने में स्त्री का शरीर अधिक भारी लगता है | इस महीने में गर्भ का हृदय भी बन जाता है इसलिए चौथे महीने से माता को दौहृद पुकारा जाता है | आचार्य चरक के अनुसार इस महीने में महिला को दूध में 2 तौला की मात्रा में मक्खन को मिलाकर सेवन करना चाहिए |

आचार्य सुश्रुत ने चौथे महीने से गर्भिणी को दूध एवं घी के साथ इच्छानुसार सात्म्य भोजन का सेवन करना चाहिए | इस महीने में गर्भिणी की इच्छा अलग – अलग प्रकार के भोजन करने की होती है , अत: एसे में अपनी इच्छानुसार भोजन करना चाहिए | लेकिन ग्रहण किया जाने वाला आहार आपके लिए फायदेमंद हो | महर्षि सुश्रुत ने कहा है की अगर इस समय अपनी इच्छा को दबाया जाए तो होने वाला बच्चा विकृत अंग वाला पैदा होता है |

गर्भावस्था के पांचवे महीने में आहार का सेवन – आयुर्वेद के अनुसार 

पांचवे महीने में गर्भ में चेतना की उत्पति हो जाती है | इस महीने में दूध एक साथ घी के सेवन का वर्णन मिलता है | भावप्रकाश के अनुसार पांचवे महीने में गर्भवती को वृहती, कंटकारी एवं वट आदि औषधियों का कल्क के साथ दूध का सेवन करना चाहिए |

छठे महीने में गर्भिणी का आहार 

आयुर्वेद के आचार्य सुश्रुत के अनुसार छठे महीने में गर्भवती को गोक्षुर (गोखरू) में पकाए घी और यवागू का सेवन करना चाहिए | आचार्य चरक के अनुसार इस महीने में मधुर गण की औषधियों से दूध को सिद्ध करके उसमे से निकाले गए घी का सेवन करना चाहिए |

वहीँ भावप्रकाश के अनुसार पृश्निप्रणी , सहिजन, गोक्षुर एवं गंभारी में से उपलब्ध किसी भी औषधि के कल्क के साथ दूध का सेवन करना चाहिए |

सातवें महीने में आहार की व्यवस्था – आयुर्वेदानुसार 

सातवे महीने में भी छठे महीने की तरह दूध के साथ घी का सेवन करना चाहिए | भावप्रकाश ने सातवें महीने में कमालविस, द्राक्षा, कसेरू, मुलेठी और मिश्री इन सभी औषधियों में से उपलब्ध औषधियों के कल्क का सेवन दूध के साथ करना चाहिए |

आयुर्वेद के अनुसार आठवें महीने में आहार का सेवन 

आठवें महीने में आचार्य सुश्रुत ने बिल्व के काढ़े में वातहर एवं स्निग्ध द्रव्यों का सेवन करना चाहिए | इस महीने में बिल्व के क्वाथ में बला, अतिबला, नमक, शहद, दूध या घी को मिलाकर गर्भिणी को सेवन करना चाहिए | इससे गर्भिणी के पुराने मल का शोधन होता है एवं वायु का अनुलोमन होता है | इन औषधियों के सेवन पश्चात दूध एवं मधुर गण की औषधियों से तैयार तैल से अनुवासन बस्ती दी जानी चाहिए |

नौवें महीने में आहार की व्यवस्था 

आचार्य चरक के अनुसार इस महीने में मधुर वर्ग की औषधियों से सिद्ध तेल से अनुवासन बस्ती देनी चाहिए | साथ ही इसी सिद्ध तेल से योनी में पिचु धारण करना चाहिए, ताकि योनी में स्निग्धता आ जाये और मांसपेशियां शिथिल हो जाएँ और प्रशव ठीक ढंग से हो | अनुवासन बस्ती से वायु का अनुलोमन होता है जिससे सामान्य प्रसव होता है |

भावप्रकाश में औषध ग्रहण के लिए मुलेठी, दूर्वा, अश्वगंधा और सफ़ेद सारिवा इन सभी द्रव्यों को शीतल पानी में पीसकर दूध के साथ 1 : 4 के अनुपात में ग्रहण करना चाहिए |

धन्यवाद |

Related Post

गोमुखासन – गोमुखासन करने की विधि , प्रकार और... गोमुखासन  गोमुखासन का अर्थ है गाय के मुख के समान आकृति वाला आसन। इस आसन में गाय के मुहं के समान एक सिरे पर पतला और दूसरे सिरे पर चैड़ा जैसी आकृति बनान...
जमालघोटा / Jamalghota – परिचय , फायदे और साव... जमालघोटा / jamalghota (Croton Tiglum) परिचय - जमालगोटा एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसका इस्तेमाल कब्ज , गंजेपन , जलोदर आदि में किया जाता है | मुख्य ...
विटामिन बी – इसके कार्य , कमी के प्रभाव और फ... विटामिन बी / Vitamin B Complex   "विटामिन 'बी" काॅम्पलेक्स वस्तुतः विटामिन B के बहुत से भागों का समुह है। इसीलिए इसे विटामिन बी समुह या कहा ज...
टाइफाइड (Typhoid Fever) – जाने इसके कारण, लक... टाइफाइड बुखार / Typhoid Fever in Hindi मियादी बुखार या टाइफाइड भारत में सामान्य रूप से होने वाली एक गंभीर बीमारी है | यह एक संक्रामक बीमारी है जो साल...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.