महास्तंभन वटी इन हिंदी | Mahastambhan Vati in Hindi

महास्तंभन वटी इन हिंदी : यह आयुर्वेदिक प्रिपरेशन है | जिसका इस्तेमाल आयुर्वेद में स्तंभन दोष को दूर करने के लिए किया जाता है | इसे स्तंभन बढ़ाने के लिए शास्त्रोक्त औषधि कहा जा सकता है |

पुरुषों में होने वाली यौन कमजोरियों जैसे शीघ्रपतन, नपुंसकता एवं सहवास में लम्बे समय तक नहीं टिक पाने जैसी समस्याओं में महास्तंभन वटी एक कारगर औषधि साबित होती है |

कामी पुरुष भी सहवास में लम्बे समय तक आनन्द बढ़ाने के लिए इसका सेवन कर सकते है | इसका सेवन करने के पश्चात लम्बे समय तक स्खलन से मुक्ति मिलती है एवं लम्बे समय तक सहवास का सुख प्राप्त होता है |

महास्तंभन वटी के घटक द्रव्य / Ingredients of MahaStambhan Vati in Hindi

और पढ़ें : स्तंभन दोष की आयुर्वेदिक दवाएं

और पढ़ें : मर्दाना ताकत बढ़ाने की दवाएं

बनाने की विधि

महास्तंभन वटी को बनाने के लिए सबसे पहले धतूरे के बीजों का शोद्धन करना होता है | बीजों को शोद्धित करने के लिए सबसे पहले गौमूत्र या त्रिफला क्वाथ में इनको 24 घंटे के लिए भिगो दिया जाता है | इसके पश्चात निकाल कर धुप में सुखा कर घी चोपड़ कर तवे पर भुन लिया जाता है | इस प्रकार से धतूरे के बीज शुद्ध हो जाते है |

महास्तंभन वटी
महास्तंभन

इसके पश्चात सभी काष्ठ औषधियों को खरल में डालकर काफी समय तक मर्दन किया जाता है | अच्छी तरह मर्दन होने के पश्चात इसमें शिद्धमकरध्वज, भंग एवं केशर डालकर फिर से खरल में मर्दन किया जाता है | जिससे महीन चूर्ण बन जाता है |

अब इस तैयार चूर्ण में भंग स्वरस को डालकर खरल में भावना दि जाती है | जब यह वटी बनाने लायक हो जाता है तो इससे 125 mg की गोलियां बना ली जाती है एवं छांया में सुखाकर रख लिया जाता है | यही महास्तंभन वटी है |

ध्यान दें

भले ही औषधि शास्त्रोक्त है लेकिन इसका निर्माण घर पर नहीं करना चाहिए | यह आर्टिकल महज ज्ञान वर्धन के लिए लिखा गया है | इसे चिकित्सा सलाह न माने | दूसरा सबसे महत्वपूर्ण इसमें धतूरे के बीज और भांग का इस्तेमाल होता है | अत: अधिकतर यह औषधि वर्जित है | पुराने आर्ष ग्रंथो के अनुसार इसका निर्माण निपुण वैद्य द्वारा राजा – महाराजाओं एवं कामीपुरुषों के लिए किया जाता था | अधिकतर आयुर्वेदिक फार्मसियाँ इसका निर्माण नहीं करती |

महास्तंभन वटी के लाभ / फायदे | Benefits of Mahastambhan Vati

  • जिनकी सहवास की क्षमता कमजोर है उनके लिए यह लाभदायक दवा है |
  • सहवास में लम्बे समय तक बने रहने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है |
  • पुरुषों में यह वीर्य को गाढ़ा करने एवं नपुंसकता को दूर करने में फायदा देती है |
  • स्वपनदोष की समस्या को ख़त्म करती है |
  • शीघ्रपतन में फायदेमंद है |
  • इसके सेवन से लम्बे समय तक व्यक्ति स्खलित नहीं होता |
  • शरीर को मजबूत एवं हष्ट-पुष्ट बनाती है |
  • भूख को बढाती है |
  • इसके सेवन से अच्छी नींद आती है |
  • पाचन को सुधारने में भी लाभदायक है |

नुकसान / Side Effects in hindi

बिना वैद्य सलाह इसका सेवन नहीं करना चाहिए | क्योंकि इसमें कुच्छ मादक एवं विषऔषधियां है जो नुकसान कर सकती है | अधिकतर इस प्रकार की औषधियों को वैद्य निर्देशित नहीं करते एवं इन्हें सुरक्षित नहीं मानते | महास्तंभन वटी का इस्तेमाल लम्बे समय तक नहीं करना चाहिए | क्योंकि शरीर इसका आदि हो सकता है एवं समस्या और अधिक गंभीर हो सकती है |

अत: वैद्य भी अगर इसकी सलाह देते है तो निश्चित अन्तराल तक ही इसका सिमित सेवन करवाते है |

सवाल – जवाब / FAQ

क्या महास्तंभन वटी शीघ्रपतन में फायदेमंद है ?

निश्चित रूप से यह शीघ्रपतन को खत्म कर देती है | क्योंकि इसमें भांग एवं धतूरे का समावेश है अत: शीघ्रपतन को दूर करती है |

क्या बैगर वैद्य सलाह सेवन की जा सकती है ?

जी नहीं बैगर आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के इसका सेवन वर्जित है | चिकित्सक से परामर्श लें एवं अगर निर्देशित करते है तो निर्देशानुसार सेवन करें |

महास्तंभन वटी के घटक क्या है ?

इसमें ईरानी अकरकरा, लौंग, इलायची, दालचीनी, भांग, धतुरा, केसर, मकरध्वज आदि घटक द्रव्य है |

क्या लम्बे समय तक सेवन की जा सकती है ?

जी नहीं इसका सेवन लम्बे समय तक नहीं करना चाहिए |

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें ब्रह्म रसायन के फायदे चमत्कारिक आयुर्वेदिक औषधि

सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए अत्यंत लाभदायी औषध है | आयुर्वेद में इसे रसायन एवं वाजीकरण औषधियों में गिना जाता है

Open chat
Hello
Can We Help You