इलायची / Elaichi – इलायची के इन घरेलु प्रयोगों से रहेंगे स्वस्थ

इलायची / Elaichi

इलायची से आप सभी परिचित है | भारतीय रसोई में इसकी विशिष्ट महता है | इसे मसाले या माउथ फ्रेशनर के रूप में काम में लिया जाता है | वैसे इलायची की दो किस्मे है – छोटी इलायची और बड़ी इलायची  | बड़ी इलायची का प्रयोग लजीज व्यंजनों और आयुर्वेदिक औषधियों के निर्माण के लिए किया जाता है , वहीँ छोटी एला का इस्तेमाल मिठाइयों , चाय , दूध का जयका बढाने और आयुर्वेदिक औषधि निर्माण  के लिए किया जाता है | लेकिन इसके आलावा एला के कई घरेलु प्रयोग है जिसका इस्तेमाल करके हम कई रोगों में राहत प्राप्त कर सकते है |

इलायची/एला  का क्षुप बहुवर्षायु  होता है जो सदा हरा – भरा देखा जा सकता है | इसका पौधा 5 से 10 फीट तक लम्बा हो सकता है | इसके भूमिशायी शाखायुक्त काण्ड से अनेक काण्ड निकलते है जिन पर इसके पते लगे रहते है | इलायची के पत्र 1 से 3 तक लम्बे हो सकते है , ये  एकांतर , अंडाकार और कोषमय पत्र होते है जिनकी आकृति बरछे के सामान होती है | इसके पुष्प 2 से  4 फीट लम्बे पुष्प वृंत पर लगते है जो सीधे काण्ड के मूलभाग से निकलते है | ये फुल 1.5 इंच लम्बे  – हलके  श्वेत और हरे रंग के होते है |

इलायची
इलाइची

एला (इलाइची) के फल को ही औषध उपयोग और अन्य घरेलु प्रयोगों में लिया जाता है | ये त्रिकोष्ठीय ,  अंडाकार होते है जिनका रंग हल्का हरा या पीला होता है | फलो के अन्दर गहरे भूरे काले रंग के कोणीय बीज निकलते है | जिनसे हम सभी परिचित है |

इलायची का रासायनिक संगठन

इलाइची के बीजो में 2 से 8% उड़नशील तेल पाया जाता है , इसके आलावा पोटेशियम लवण 3% , स्टार्च – 3% , पिच्छिल द्रव्य 2% , पीत रंजक द्रव्य – 2% और भस्म 6 से 10% तक पायी जाती है |

इलायची के गुण – धर्म

इसका रस कटु और मधुर होता है | गुणों में यह लघु और रुक्ष होती है एवं इसका विपाक मधुर होता है | एला शीत वीर्य की होती है | एला  का इस्तेमाल कर के आयुर्वेद में कई औषधियां बनाई जाती  है जैसे –  एलादीचूर्ण , एलाध्रिष्ट, एलाध्यमोदक, एलादिक्वाथ और एलाध्यगुटिका आदि |

इलायची के पर्याय – इलायची को एला , त्रिपुटा , त्रुटी , सुक्ष्मैला द्राविड़ी आदि नामों से भी जाना जाता है |

इलायची के फायदे और घरेलु प्रयोग

निम्न रोगों में आप एला का घरेलु नुस्खो के द्वारा प्रयोग करे , निश्चित ही वर्णित रोगों में लाभ मिलेगा |

केले का अजीर्ण हो तो करे इलायची का प्रयोग

कई व्यक्तियों को केला हजम नहीं होता और उन्हें इससे अपच जैसी शिकायत हो जाती है | अगर आपके साथ भी कभी एसा हो तो केला खाने के बाद एक इलायची खाले | केले से होने वाली अजीर्ण ख़त्म हो जाएगी | इस प्रयोग को मैंने भी आजमाया हुआ है | दरशल मुझे भी केले खाने के बाद अजीर्ण की शिकायत हो जाती है | इसलिए केला खाने के बाद एक एला अच्छी तरह चबाकर खाए , तुरंत राहत मिलेगी |

अच्छी माउथ फ्रेशनर है इलाइची

एला  की भीनी खुशबु किसे नहीं भाती | अगर आप अपने मुंह की दुर्गन्ध से परेशान है तो इलायची इसमें मददगार साबित हो सकती है | खाना खाने , प्याज – लहसुन खाने के बाद आप एक इलायची रोज खाने की आदत डालले | आपके मुंह की दुर्गन्ध दूर चली जाएगी | इलायची में एक सुगन्धित तेल पाया जाता है जो आपके मुंह की बदबू के आलावा पेट से आने वाली दुर्गन्ध को भी काबू में करने में कारगर है |

मुंह के छाले

अगर मुंह में छाले हो गए हो तो एक इलायची के दाने निकाल कर इनको पीसले | पीसे हुए दानों में आधा चम्मच शहद मिलाकर मुंह में लगाये | तीन या चार प्रयोग में ही मुंह के छाले ठीक हो जायेंगे  |

हिक्का ( हिचकी )

हिचकी वैसे तो कोई रोग नहीं है , यह हमारे दूषित भोजन पदार्थ का सेवन करने पर डाईजेसन का एक इशारा मात्र है | लेकिन अधिक समय तक अगर हिचकी आये तो जीना मुस्किल कर देती है | इसलिए अगर आप भी कभी हिचकी से परेशान हो तो बड़ी एला के आधा चम्मच दाने निकाल ले | इसमें 2 चम्मच चीनी मिलाकर पीस ले | तैयार चूर्ण की आधा घंटे के अन्तराल से आधा चम्मच की मात्रा में फंकी ले | जल्द ही हिचकी बंद हो जायेगी |

घबराहट में

शरीर में गर्मी और पित्त की अधिकता के कारण घबराहट होने लगती है | घबराहट होने पर एक एला  को पीस ले और इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से घबराहट जाती रहती है |

गर्मी के रोग में इलायची के फायदे

चार इलायची एवं दो चम्मच सौंफ को एक गिलास पानी में उबाल ले | उबाले हुए पानी को ठंडा कर के छान ले और इसमें शक्कर मिलकर पिने से गर्मी और गर्मी जन्य व्याधियों में आराम मिलता है |   एला  और सौंफ दोनों शीत वीर्य की होती है अत: इनके इस्तेमाल से शरीर में गरमी की शिकायत नहीं होगी |

अधिक प्यास लगने की शिकायत में इलायची के फायदे

बहुत अधिक प्यास लगने की शिकायत हो तो 12 छोटी एला के छिल्को को एक गिलास पानी में उबाले | जब पानी आधा रह जाए तो इसके चार हिस्से कर ले | हर एक हिस्से को तीन घंटे के अंतराल से पी ले | इससे अधिक प्यास लगने की शिकायत मिटेगी और पेट स्वस्थ होकर भूख भी खुल कर लगेगी |

 

कृपया हमारे फेसबुक पेज को भी Like करे , ताकि आप तक  हमारी सभी महत्वपूर्ण पोस्ट की अपडेट पंहुचती रहे | हम किसी भी प्रकार से  spam आदि को बढ़ावा नहीं देते , आयुर्वेद की  Authentic जानकारियों के लिए आप हमसे ब्लॉग सब्सक्रिप्शन और Facebook के जरिये जुड़ सकते है | हमारे  Facebook पेज का लिंक आपको यंही निचे स्क्रोल करने से मिल जावेगा | 

 

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You