जम्बीर द्राव (Jambir Drav) : फायदे, घटक एवं बनाने की विधि

शरीर के अंदर दूषित विषों को निकालने के लिए जम्बीर द्राव बहुत गुणकारी औषधि है | इसके सेवन से यकृत विकार, उदर रोग, गुल्म, प्लीहा, कृमि जनित रोग, वात एवं कफ दोष नष्ट हो जाते हैं | यकृत, गुल्म एवं उदर रोगों के लिए जम्बीर द्राव जितनी गुणकारी औषधि दूसरी नहीं है | शरीर में जितने भी दूषित अवयव होते हैं इसके सेवन से पेशाब पसीने और मल के साथ बाहर निकल जाते हैं |

जम्बीर द्राव क्या है / What is Jambir drav ?

इस औषधि में प्रधान द्रव्य जम्बिरी निम्बू का रस होता है | यह आसव प्रकरण की आयुर्वेदिक औषधि है | इसका उपयोग मुख्यतः उदर विकार, कृमि जनित रोग, आमाशय एवं यकृत विकारों में किया जाता है | यह पाचन क्रिया को शुद्ध करता है और दूषित मल एवं विष को बाहर निकालता है | टाइफाइड, अतिसार, हैजा जैसे रोगों में भी इसके सेवन से अच्छा लाभ देखने को मिलता है |

जम्बीर द्राव के घटक द्रव्य / Jambir drav ingredients

इसमें प्रधान द्रव्य निम्बू का रस होता है इसके अलावा निम्न घटक द्रव्य उपयोग में लिए जाते हैं :-

  • निम्बू का रस – 5 सेर
  • हिंग – 8 तोला
  • सेंधा नमक, वायविडंग – चार चार तोला
  • सोंठ, मिर्च – दोनों चार चार तोला
  • सरसों – 16 तोला
  • सोंचर नमक – 16 तोला
  • पीपल और अजवायन – चार चार तोला

जम्बीर द्राव बनाने की विधि / Jambir drav kaise banaye

  • मिटटी के चिकने पात्र में निम्बू का रस डाल लें |
  • अब अन्य सभी जड़ी बूटियों का चूर्ण बना लें |
  • इस चूर्ण को निम्बू के रस में मिलाकर पात्र का मुख बंद कर दें |
  • अब इसे 21 से 30 दिन तक छोड़ दें |
  • इसके बाद छानकर अलग पात्र में रख लें |
  • इस विधि से जम्बीर द्राव तैयार हो जाता है |

जम्बीर द्राव के फायदे एवं उपयोग / Jambir drav uses and benefits

आमाशय के लिए जम्बीर द्राव अमृत तुल्य औषधि है | इसके सेवन से सभी प्रकार के कृमि जनित रोग नष्ट हो जाते हैं | यह रक्त में मिलने के बाद पानी एवं कार्बोलिक एसिड के रूप में परिवर्तित हो जाता है | इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है | जम्बीर द्राव भोजन पचाने वाला और जठराग्नि को प्रदीप्त करने वाली औषधि है | इसके निम्न फायदे हैं :-

  • यह कृमि नाशक औषधि है |
  • इसके सेवन से दूषित विष शरीर से बाहर निकलता है |
  • यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है |
  • यकृत विकार, उदर रोग, गुल्म एवं प्लीहा में जम्बीर द्राव बहुत उपयोगी है |
  • यह वात एवं कफ़ संबंधी रोग नष्ट करता है |
  • वायु विकार, नाभिशुल में भी इसके सेवन से फायदा होता है |
  • यह पाचन शक्ति बढाता है |
  • इसके सेवन से वजन बढाने में मदद मिलती है |

सेवन एवं अनुपान की विधि

एक से दो तोला पानी मिलाकर सुबह शाम सेवन कराएं |

यह भी पढ़ें :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार

स्वदेशी उपचार में आपका स्वागत है | कृप्या पूरा लेख पढ़ें अगर आपका कोई सवाल एवं सुझाव है तो हमें whatsapp करें

Holler Box