शंख भस्म / Shankh Bhasma – बनाने की विधि, फायदे एवं सेवन विधि

शंख भस्म – यह आयुर्वेद की क्लासिकल दवा है जिसका प्रयोग डायरिया (पतले दस्त), लीवर के बढ़ने, अपच, मुंह पर होने वाले किल – मुंहासे एवं भूख की कमी में किया जाता है | यह आयुर्वेद के भस्म प्रकरण की दवा है जिसका निर्माण समुद्री घोंघे के बहरी खोल से किया जाता है |

आयुर्वेद ग्रंथो में इसको शीतल एवं क्षार की श्रेणी में रखा गया है | शंख भस्म के गुण कपर्दिका (कौड़ी) भस्म से काफी मिलते है लेकिन दोनों में अंतर है | शंख भस्म अधिक ग्राही एवं स्तंभक गुणों से युक्त होती है | इसीलिए इसे अतिसार में अधिक उपयोगी माना जाता है | यह अन्न का ठीक ढंग से पाचन नही होने की के कारण होने वाले विकारों में भी प्रमुखता से प्रयोग करवाई जाती है |

अपने ग्राही एवं स्तम्भनकारी गुणों के कारण यह पैतिक कोष्ठ शूल (पित्त के कारण होने वाले पेट दर्द), पित्तज अतिसार, एवं खट्टी डकारों में लाभदायक औषधि है |

शंख भस्म में कैल्शियम की काफी मात्रा रहती है अत: कैल्शियम की कमी से होने वाले रोगों में यह बहुत लाभप्रद होती है | अब चलिए जानते है इसके घटक एवं बनाने की विधि

शंख भस्म बनाने की विधि / Method of Preparation Shankha Bhasma in Hindi

शंख भस्म
शंख भस्म

घटक द्रव्य : शंख भस्म के घटक में मुख्य शुद्ध शंख, निम्बू (शोधन के लिए), ग्वारपाठे का गुदा (भस्म निर्माण के समाय)

इसका निर्माण शुद्ध शंख से किया जाता है | शंख भस्म बनाने से पहले शंख को शोद्धित किया जाता है | शंख को शोद्धित करने के लिए सबसे पहले बिना छिद्रों वाले वजनदार शंख के टुकड़े लिए जाते है | इन्हें घड़े में डालकर निम्बू एवं जल से भर दिया जाता है | इसके पश्चात घड़े को मंदआंच पर रख कर 1 घंटा पकाया जाता है | बाद में निकालकर गर्म जल से धोकर सुखा लिया जाता है | इस प्रकार से शंख शुद्ध हो जाता है |

शंख भस्म बनाने की निर्माण विधि : भस्म बनाने के लिए सबसे पहले शंख के छोटे – छोटे टुकडो को ग्वारपाठे के गुदा मिलाकर एक मिटटी की हांड़ी में रख संधिबंध करके गजपुट में फुक दिया जाता है | ठन्डे होने के पश्चात निकालकर सहेज लिया जाता है | अब अगर परिक्षण के पश्चात भस्म कच्ची रह जाती है तो इसमें निम्बू स्वरस मिलाकर मर्दन करके छोटी – छोटी टिकया बना ली जाती है |

इन टिकया को फिर से गजपुट में आंच देकर भस्म तैयार कर ली जाती है | इस प्रकार से बनी भस्म खूब मुलायम एवं सफ़ेद बनती है |

दूसरी विधि

शुद्ध शंख के टुकडो को कोयले की तेज अग्नि पर अच्छी तरह तपाकर निम्बू के रस में बुझा दिया जाता है | इसके पश्चात इन टुकड़ों को खरल में डालकर मर्दन करके शंख भस्म तैयार कर ली जाती है |

शंख भस्म के फायदे / Health Benefits of Shankh Bhasma in Hindi

इस भस्म का प्रयोग विभिन्न रोगों में चिकित्सार्थ किया जाता है | यह गृह्यी एवं स्ताम्भंकारी गुणों से युक्त औषधि है | अत: अतिसार, उदरशूल (पेटदर्द), गृहणी रोग जैसे रोगों में विशेष लाभ करती है | शंख भस्म के फायदे निम्न बिन्दुओं से समझ सकते है |

  • अतिसार (पेचिस) जब न रुकते हो तो सुहागे का फुला 2 रति, जायफल का चूर्ण 1 रति में शंख भस्म मिलाकर शहद के साथ सेवन करने से अतिसार रुक जाता है |
  • गृहणी रोग में जिसमे बार – बार दस्त लगते हों, पेट में दर्द हो एवं दर्द के साथ पतला दस्त भी हो, एसी स्थिति में शंख भस्म का प्रयोग करना बहुत लाभदायक होता है | क्योंकि शंख भस्म में ग्राहक गुण होते हैं जो दस्त को रोकते है |
  • शंख भस्म के सेवन से पेट का आफरा, दर्द एवं खट्टी डकारों से राहत मिलती है | यह इन रोगों में बहुत फायदेमंद औषधि है |
  • अन्न के अच्छे से न पचने से पेट में दर्द होने लगता है | एसी स्थिति शंख भस्म को निम्बू के रस के साथ घृत में मिलाकर देने से लाभ होता है | यह दीपन पाचन का कार्य भी करती है |
  • यकृत एवं प्लीहा वृद्धि में शंख भस्म का प्रयोग बहुत फायदेमंद है | यह यकृत वृद्धि को कम करती है |
  • शंखभस्म को हिंग्वाष्टक चूर्ण के साथ प्रयोग करवाने से गैस, आफरा एवं पेट दर्द से आराम मिलता है |
  • युवक एवं युवतियों में किशोरावस्था में होने वाले पिम्पल्स की समस्या शंख भस्म के सेवन से ख़त्म हो जाती है |
  • शंख भस्म में रोपण गुण के कारण यह नेत्र के फुले की समस्या में शंख भस्म के अंजन से फुले नष्ट होते है |
  • अन्न का ठीक ढंग से पाचन न होता हो या भूख न लगती हो तो एसे में भी शंख भस्म अन्य औषध योगों के साथ लाभदायक है |
  • काले नमक, भुनी हिंग और त्रिकटु चूर्ण के साथ शंख भस्म देने से चमत्कारिक लाभ मिलते है | यह प्रयोग पक्वातिसार एवं संग्रहणी रोग में फायदेमंद है |

सेवन विधि

इसका सेवन 2 से 4 रति (250 – 500mg) तक विभिन्न अनुपानो के साथ सेवन की जाती है | आयुर्वेद में इसका प्रयोग अन्य औषधियों के साथ योग रूप में किया जाता है | वैद्य के परामर्श शंख भस्म का सेवन करना चाहिए | हालाँकि यह औषधि नुकसान रहित है | लेकिन उचित मात्रा एवं वैद्य परामर्श अवश्य लेना चाहिए |

आपके लिए अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां

त्रिवंग भस्म के फायदे

अभ्रक भस्म के फायदे एवं बनाने की विधि

लौह भस्म स्वास्थ्य उपयोग

स्फटिका भस्म क्या है जानें

कुक्कुटांडत्वक भस्म

गोदंती भस्म के बारे में जानकारी लें

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You