टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा एवं उपचार

टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा – टाइफाइड बैक्टीरिया जनित बीमारी है | यह सालमोनेला बैक्टीरिया से पनपती है | इसका जीवाणु जल, मल-मूत्र, गंदगी एवं एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति में पहुँचता है | जब बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश कर जाता है तब इसके लक्षण प्रकट होने लगते है | वैसे आयुर्वेद में टाइफाइड नाम की किसी बीमारी का वर्णन नहीं है |

यह विदेशों से भारत में आई बीमारी है | अत: प्राचीन समय के ग्रंथों में इस बीमारी का उल्लेख नहीं है | लेकिन इसके लक्षण आन्तरिक ज्वर के समान होते है अत: आयुर्वेद में वर्णित आन्तरिक ज्वर की चिकित्सा के अनुसार ही इसका उपचार किया जाता है एवं यह उपचार प्रभावी साबित होता है |

टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा

Typhoid होने पर रोगी को बुखार, सिरदर्द, भोजन में अरुचि, पेटदर्द, कब्ज एवं दस्त जैसी समस्याएं हो जाती है | इस बीमारी का उपचार आयुर्वेद के माध्यम से आसानी से किया जा सकता है | आयुर्वेद की कृमिघन औषधियां, लंघन चिकित्सा, शोधन चिकित्सा एवं अन्य आयुर्वेदिक औषधियों से इस व्याधि का उपचार आसानी से हो जाता है |

आयुर्वेद अनुसार टाइफाइड / Typhoid According Ayurveda

आयुर्वेद में भी टाइफाइड को जीवाणु जनित व्याधि माना है | इसे आन्तरिक ज्वर या मंथरक ज्वर के नाम से जानते है | इसे एक विशेष प्रकार की त्रिदोषज औप्सर्गिक (जीवाणु जनित) ज्वर कहते है | इस व्याधि में तीनों दोषों के प्रकोप होने के कारण तीनों दोषों के लक्षण प्रकट होते है | इसमें जब जिस दोष की प्रबलता होती है उस समय वैसे ही लक्षण प्रकट होते है |

जैसे अगर टाइफाइड में वात प्रबल है तो बुखार के साथ अंगमर्द रहता है | आयुर्वेद चिकित्सा में इस व्याधि के शमन के लिए निदान परिवर्जन, शोधन विधि एवं आयुर्वेदिक दवाओं का प्रयोग किया जाता है |

टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा / Typhoid Ayurvedic Medicine in Hindi

इस आर्टिकल के माध्यम से हम टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा के बारे में आपको बताएँगे कि कौन – कौन सी आयुर्वेदिक दवाएं टाइफाइड में रोगी को दी जाती है | ध्यान दें – यह आर्टिकल महज आपके ज्ञान वर्द्धन के लिए है | अत: उपचार से पहले आयुर्वेदिक डॉ की सलाह लेना आवश्यक है |

क्योंकि रोग के शमन के लिए आयुर्वेद में विभिन्न आयुर्वेदिक दवाओं का योग बना कर दिया जाता है | ये दवाएं रोग की तीव्रता, रोगी की स्थिति एवं प्रकृति पर निर्भर करती है | अत: इन दवाओं का स्वयं द्वारा उपयोग कोई अधिक लाभ नहीं देता | साथ ही आयुर्वेद सिर्फ दवा देने की चिकित्सा नहीं है | इसमें आहार – विहार, निदान परिवर्जन, उत्तम परिचर्या एवं लंघन जैसी विधाएं सम्मिलित है जो रोग को कारण सहित ख़त्म करने में सहायक सिद्ध होती है |

तो चलिए जानते है टाइफाइड में काम आने वाली आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में

1. संजीवनी वटी है टाइफाइड में उपयोगी

संजीवनी वटी

संजीवनी वटी आयुर्वेद चिकित्सा की शास्त्रोक्त दवा है | इसका निर्माण वायविडंग, सोंठ, पीपल, बच आदि जड़ी – बूटियों के सहयोग से किया जाता है | यह किसी भी प्रकार की बुखार में अतिआवश्यक आयुर्वेदिक दवा है | कीटाणु मारने वाली, पेशाब साफ लाने वाली, पसीना लाने वाली यह दवा टाइफाइड में उपयोग करने से अत्यंत लाभ मिलता है |

ज्वरनाशक संजीवनी वटी आमदोष को पचाती है और उससे उत्पन्न होने वाले उपद्रवों जैसे बुखार आदि का नाश करती है | संजीवनी वटी में वत्सनाभ प्रधान जड़ी – बूटी होती है अत: यह उष्ण, स्वेदन एवं मूत्रल गुणों की आयुर्वेदिक दवा है | अपने इन्ही गुणों के कारण पसीने एवं पेशाब के माध्यम से बुखार के लिए जिम्मेदार कारणों को शरीर से बाहर निकाल कर रोग का शमन करती है |

2. महासुदर्शन घन वटी

यह एंटीवायरल आयुर्वेदिक दवा है | मलेरिया, वायरल फीवर, एवं कफवात प्रधान ज्वर में महासुदर्शन घन वटी बहुत उपयोगी दवा है | यह एंटीवायरल होने के साथ – साथ रोगप्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने का कार्य करती है | आयुर्वेद के प्राचीन ग्रन्थ भैसज्य रत्नावली में इसका वर्णन मिलता है | इसे विषम ज्वर (कभी कम – कभी ज्यादा बुखार साथ ही नाड़ी गति भी विषम रहती है), संतत ज्वर (लगातार चलने वाली बुखार), सन्निपातज ज्वर (त्रिदोष प्रधान) में दिया जाता है | टाइफाइड की आयुर्वेदिक दवा के रूप में इसे उपयोग किया जाता है |

3. संसमनी वटी टाइफाइड की बुखार में उपयोगी

गिलोय सत्व, लौह भस्म, अभ्रक भस्म एवं सुवर्णमाक्षिक घटक द्रव्यों से बनने वाली यह आयुर्वेदिक दवा टाइफाइड फीवर में कारगर है | संसमनी वटी को संतत (लगातार) चलने वाले ज्वर, जीर्ण ज्वर, खून की कमी, धातुक्षीणता एवं निर्बलता आदि में उपयोग करवाई जाती है | टाइफाइड में रहने वाली हल्की बुखार को संसमनी वटी के सेवन से दूर किया जा सकता है |

बुखार ख़त्म करने के साथ – साथ निर्बल शरीर में बल का संचार करती है | धातुओं की क्षीणता, कमजोर स्मरण शक्ति एवं व्याकुलता को दूर करने में प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है |

4. त्रिफला चूर्ण

त्रिफला चूर्ण तीन प्रकार के आयुर्वेदिक फलों का मिश्रण है | इसमें आंवला, हरड एवं बहेड़ा सामान मात्रा में होता है | प्रमुखत: यह कब्ज एवं पाचन के लिए प्रयोग होता है | लेकिन इस दवा में उपस्थित एंटीबैक्टीरियल गुण इसे टाइफाइड बुखार में भी उपयोगी बनाते है | त्रिफला का सेवन करने से इस रोग का बक्टिरिया कमजोर होने लगता है | रोगी को साफ मल त्याग होता है एवं शरीर की आन्तरिक सफाई होती है |

5. चन्द्रामृत रस

यह अतिप्रभावशाली सिद्ध औषधि है | वातपित्त प्रधान, वातश्लेश्मक प्रधान कास (खांसी), सुखी खांसी, कफ युक्त खांसी, स्वांस, दाह (जलन), प्लीहा एवं यकृत की विकृति, कृमि एवं जीर्ण ज्वर को ठीक करने वाली दवा है | टाइफाइड रोग में अगर फेफड़ों में कफ संचित हो गया है एवं बुखार भी हल्का – हल्का रहता है | एसे में चन्द्रामृत रस का सेवन अन्य औषध योगों के साथ करने से जल्द ही इन समस्याओं से राहत मिलती है |

6. स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण

टाइफाइड होने पर रोगी को मलबद्धता अर्थात कब्ज के लक्षण भी प्रकट होते है | रोगी को निरंतर कब्ज रहता है जिसके कारण अनिद्रा हो जाती है एवं नाड़ी गति भी मंद पड़ जाती है | एसी परिस्थिति में स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण या अन्य आयुर्वेदिक कब्ज नाशक योग जैसे पञ्चसकार चूर्ण, तरुणीकुसुमाकर चूर्ण आदि में से किसी एक का प्रयोग करवाना चाहिए |

स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण मृदु विरेचक है | अत: आंतों की सफाई करने में अत्यंत लाभदायक है | टाइफाइड का जीवाणु आंतों में भी इन्फेक्शन करता है | अत: स्वादिष्टविरेचन चूर्ण का प्रयोग करने से आँतों की सफाई होती है एवं साथ ही टाइफाइड के कारण कब्ज की समस्या से भी राहत मिलती है |

7. शिलाजत्वादी लौह टाइफाइड की कमजोरी में उपयोगी

शिलाजत्वादी लौह शिलाजीत, लौह भस्म, सुवर्णमाक्षिक भस्म, मुलैठी, मरिच, सौंठ आदि द्रव्यों से निर्मित होने वाली रसायन बाजीकरण औषधि है | यह शरीर में नविन उर्जा का संचार करती है | टाइफाइड होने पर शरीर में काफी कमजोरी आ जाती है | इसके सेवन से शरीर में बल एवं वीर्य की वृद्धि होती है अर्थात रोगप्रतिरोधक क्षमता का वर्द्धन होता है |

यह दवा टाइफाइड में आई कमजोरी को दूर करने के साथ – साथ ज्वर को उतारती है, रक्त की कमी को दूर करती है, श्वांस रोग एवं प्रमेह में भी उपयोगी है |

टाइफाइड रोग का आयुर्वेदिक उपचार है उचित आहार – विहार

इससे पहले बताई गई सभी आयुर्वेदिक दवाएं टाइफाइड में लाक्षणिक प्रयोग करवाई जाती है | अर्थात रोग में जैसे लक्षण प्रकट हो रहें है उसी प्रकार से दवा का प्रयोग आयुर्वेदिक वैद्यों द्वारा करवाया जाता है | इन दवाओं के साथ – साथ आहार – विहार (Diet & Lifestyle) का टाइफाइड के उपचार में बहुत महत्व है |

यहाँ हम आपको टाइफाइड में उचित आहार – विहार के बारे में बताएँगे |

  • निदान परिवर्जन एवं नियमित सफाई का विशेष ध्यान दिया जाना चाहए |
  • हाथों को साबुन से धोना चाहिए |
  • उबला हुआ साफ पानी पीना चाहिए |
  • रोगी को अपने बर्तनों को अन्य से अलग रखना चाहिए |
  • अधिक रेशेदार फल एवं सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए |
  • बाजार के खाद्य पदार्थों का प्रयोग बिलकुल बंद कर देना चाहिए |
  • घरेलु संतुलित आहार को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए |
  • डिब्बा बंद भोजन, कोल्ड ड्रिंक्स, शराब, सिगरेट से परहेज करें |
  • ठन्डे भोजन से बचना चाहिए | जितना हो सके ताजा बना गरम भोजन ही अपने आहार में शामिल करना लाभदायक रहता है |
  • अनार, मौसमी, पपीता एवं चीकू को नियमित आहार में लेना बहुत फायदेमंद है |
  • देर से पचने वाले आहार से बचना चाहिए |
  • एकसाथ भरपेट भोजन के बजाय बार – बार कम मात्रा में भोजन करना लाभदायक है |
  • रोगी को आराम करना चाहिए एवं शारीरिक श्रम एवं व्यायाम आदि से बचना चाहिए |
  • पानी में तुलसी के पते डालकर एवं उबाल कर बार – बार सेवन करना लाभदायक रहता है |

टाइफाइड में काम आने वाली आयुर्वेदिक दवाओं की सूचि

रस औषधियां वटी औषधियां आयुर्वेदिक चूर्ण भस्म प्रकरण की दवाएं
चन्द्रामृत रस संजीवनी वटी त्रिफला चूर्ण शिलाजत्वादी लौह
सूतशेखर रस सुदर्शन घन वटी गिलोय चूर्ण गोदंती भस्म
कर्पुर रस संसमनी वटी बिल्वचूर्ण लौह भस्म
महावातविध्वंसक रस मधुरान्तक वटी सितोपलादि चूर्ण अभ्रक भस्म
प्रवाल पंचामृत सौभाग्य वटी स्वादिष्ट विरेचन चूर्ण
वातचिंतामणि रस पंचसकार
चिंतामणि चतुर्मुख रस नागकेशर चूर्ण
तलिशादी चूर्ण

आपके लिए अन्य महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक जानकारियां

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published.