त्रिकटु चूर्ण – जानें इसके फायदे , घटक द्रव्य एवं घर पर तैयार करने की विधि

त्रिकटु चूर्ण / Trikatu Churna (त्र्युषण)

पिप्पली श्रंगवेरं च मरिचं त्र्युष्ण विदु: | 

अर्थात शुंठी, कालीमिर्च एवं पिप्पली इन तीनो के मिश्रण को त्रिकटु कहा जाता है | यहाँ त्रिकटु का मतलब तीन कटू द्रव्यों का योग भी माना जा सकता है | शुंठी, कालीमिर्च एवं पिप्पली इन तीनों की तासीर उष्ण (गरम) होती है तभी इसे आयुर्वेद चिकित्सा में त्र्युषण के नाम से भी पुकारा जाता है |

त्रिकटु चूर्ण वात एवं कफ शामक होता है | इसका उपयोग पाचन एवं सभी प्रकार के आम दोषों में प्रमुखता से किया जाता है | अग्निमान्ध्य, अरुचि, पाचन विकार, श्वास, कास, गुल्म, प्रमेह, मेदोरोग एवं त्वचा विकारों में त्रिकटु चूर्ण के सेवन से रोगों का शमन होता है |

यह चूर्ण एंटी वायरल एवं एंटीइन्फ्लामेटरी जैसे औषधीय गुणों से युक्त होता है , जो इसे वायरस एवं शारीरिक सुजन आदि से छुटकारा दिलाने में उपयोगी बनाते है |

त्रिकटु चूर्ण के घटक द्रव्य एवं घर पर बनाने की विधि 

इस चूर्ण के निर्माण के लिए तीन प्रमुख घटक द्रव्य इस्तेमाल किये जाते है –

  1. शुंठी (सुखी हुई अदरक)
  2. कालीमिर्च 
  3. पिप्पली 

इस आयुर्वेदिक चूर्ण को आप घर पर भी आसानी से तैयार कर सकते है | वैसे ये सभी घटक द्रव्य आसानी से घर पर ही उपलब्ध हो जाते है लेकिन अगर घर पर नहीं मिले तो इन्हें बाजार से खरीद लावें | अब चूर्ण का निर्माण करने के लिए सबसे पहले मात्रा का निर्धारण करलें | जैसे की कितने ग्राम चूर्ण का निर्माण करना है ? अगर आपको 150 ग्राम त्रिकटु चूर्ण का निर्माण करना है तो सभी औषध द्रव्यों को 50 – 50 ग्राम की मात्रा में लेना है |

ध्यान दे त्रिकटु चूर्ण के निर्माण में सभी द्रव्यों का अनुपात समान होना चाहिए | तीनो द्रव्यों को बराबर मात्रा में लेने के पश्चात इन सब का अलग – अलग कपडछान चूर्ण बना ले अर्थात इन्हें महीन पीसलें | सभी द्रव्यों का महीन चूर्ण बनाने के पश्चात इन्हें आपस में मिलादें | इस प्रकार से आपका त्रिकटु चूर्ण तैयार हो जाता है | इस चूर्ण को सीलन से बचाने के लिए डब्बे में बंद करके रखें |

त्रिकटु

बाजार में पतंजलि, बैद्यनाथ, डाबर एवं अन्य कई कम्पनियों का त्रिकटु चूर्ण उपलब्ध है | लेकिन प्रमाणिकता के लिए इसे आप घर पर तैयार करे यह लाभदायक रहता है | घर पर निर्मित त्रिकटु चूर्ण अधिक प्रभावी भी सिद्ध होता है |

मात्रा एवं सेवन विधि 

इस चूर्ण का उपयोग चिकित्सक की दिशा – निर्देशनुसार 3 से 6 ग्राम तक की मात्रा में सेवन किया जा सकता है | अनुपान स्वरुप शहद का इस्तेमाल करना अधिक लाभदायक होता है | वैसे आयुर्वेद में कहा गया है की जो व्यक्ति इसका नियमित सेवन करना चाहते है उनको उतने रत्ती ही चूर्ण लेना चाहिए जीतनी रोगी की उम्र है | उदहारण के लिए जैसे मेरी उम्र 28 साल है तो अगर मुझे इस चूर्ण का नियमित सेवन करना है तो 28 रत्ती चूर्ण का सेवन साधारण पानी के साथ करूँगा |

त्रिकटु चूर्ण के चिकित्सकीय उपयोग 

इसका उपयोग आयुर्वेद चिकित्सा में निम्न रोगों के शमनार्थ किया जाता है –

  1. अग्निमंध्य (भूख न लगना)
  2. अजीर्ण (पाचन विकार)
  3. अपच
  4. श्वास (अस्थमा)
  5. कास (खांसी)
  6. पीनस (पुराना जुकाम)
  7. गुल्म (वायु गोला) / आफरा
  8. प्रमेह (वीर्य विकार)
  9. मेदोरोग (मोटापा)
  10. त्वचा के विकार – जैसे हाथीपाँव में उपयोगी

त्रिकटु चूर्ण के फायदे या स्वास्थ्य प्रयोग , लाभ 

सन्निपातज बुखार में त्रिकटु के साथ त्रिफला, पटोल पत्र, नीम छाल, चिरायता एवं गिलोय मिलाकर इसका काढ़ा बना कर सेवन करने तुरंत आराम मिलता है |

श्वास एवं खांसी की समस्या में त्रिकटु चूर्ण को दिन में दो या तीन बार शहद के साथ मिलाकर चाटने से जल्द ही खांसी ठीक हो जाती है |

पाचन विकार एवं विबंध (कब्ज) रोग में त्रिकटु चूर्ण के साथ पांचो प्रकार के लवण मिलाकर रात्रि में सोते समय लेने से सुबह कब्ज के रोग से छुटकारा मिलता है |

जुकाम अगर पक गया हो या पुराना हो गया हो तो त्रिकटु का क्वाथ बना कर सेवन करने से लाभ मिलता है |

आफरे की समस्या या पेट में पानी भर जाने की दिक्कत में इस चूर्ण के साथ सेंधानमक मिलाकर छाछ में डालकर सेवन करें , जल्द ही इन सभी समस्याओं से निजत मिलेगी |

त्रिकटु के सेवन में सावधानियां 

  1. मस्से या बवासीर से ग्रसित व्यक्तियों को इस चूर्ण का सेवन नहीं करना चाहिए | अगर आवश्यकता हो तो वैद्य से परामर्श अवश्य लेना चाहिए |
  2. पित्त प्रकृति या उष्ण प्रकृति के लोगों को भी त्रिकटु का सेवन वैद्य से परामर्श लेकर ही करना चाहिए | गर्मियों की ऋतू में इससे परहेज करना लाभदायक है |
  3. गर्भवती महिलाओं को वैद्य के परामर्शनुसार उपयोग करना चाहिए |
  4. त्रिकटु चूर्ण को अधिक मासिक धर्म की समस्या से ग्रसित महिलाओं को भी चिकित्सक के देख रेख में ही सेवन करना चाहिए |
  5. इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से नुकसान हो सकते है | पेट में जलन, शरीर में उष्णता एवं एसिडिटी की समस्या उत्पन्न हो सकती है |

धन्यवाद |

Related Post

मलेरिया / Malaria || इसके लक्षण, कारण, इलाज, प्रका... मलेरिया / Malaria in Hindi - उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में मलेरिया अधिक सामान्य बीमारी है | इस बीमारी से प्रतिवर्ष कई व्यक्ति पीड़ित रहते है एवं कईयों की...
काली / कुकर खांसी – कारण , लक्षण और काली खां... कुकर / काली खांसी (Pertussis) / Whooping cough कुकर खांसी को साधारण भाषा में कुत्ता खांसी या काली खांसी भी कहते है | यह ज्यादातर बसंत या शरद ऋतू में ...
भूमि आंवला (भू धात्री) की पहचान, सेवन विधि एवं फाय... भूमि आंवला (भुई आमला) की पहचान, सेवन विधि एवं फायदे परिचय - प्राय: सम्पूर्ण भारत में उगने वाला एक औषधीय पौधा है | यह वर्षा ऋतू अर्थात सावन के महीने म...
सेमल (Bombax ceiba) – मर्दानगी, प्रदर एवं खु... सेमल (Bombax Ceiba)  परिचय : सेमल के पेड़ को कॉटन ट्री भी कहा जाता है | इसके फलों के पकने पर उसमे से मुलायम रुई प्राप्त होती है जिसका प्रयोग गद्दे या ...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.