रुद्राक्ष के औषधीय गुण, फायदे एवं उपयोग

रुद्राक्ष के नाम से आप सभी परिचित होंगे | आम धारणा के अनुसार यह एक दैवीय शक्तियों वाला वृक्ष है | माना जाता है की रुद्राक्ष की माला धारण करने से व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक शक्ति बढती है | इसे भुत प्रेतों और बुरी शक्तियों से बचाने वाला माना जाता है | आयुर्वेद में रुद्राक्ष के औषधीय गुण एवं फायदों के बारे में बताया गया है | इसका उपयोग मानसिक और शारीरिक कमजोरी को दूर करने और त्वचा विकारों में किया जाता है |

रुद्राक्ष क्या है, इस के औषधीय गुण, फायदे एवं उपयोग

संस्कृत में इसे भूतनाशक के नाम से जाना जाता है | यह मध्यम आकार का वृक्ष है जो भारत में बिहार, बंगाल और आसाम में पाया जाता है इसके अलावा यह नेपाल में भी पाया जाता है | आम तौर पर रुद्राक्ष की माला बना के पहनी जाती है और इसे सभी रोग और दुःख हरने वाला माना जाता है | लेकिन आयुर्वेद ग्रंथो के अनुसार यह औषधीय गुणों से भरपूर होता है | इसकी फ्लास्थि का उपयोग अनेकों रोगों में किया जाता है |

रुद्राक्ष के फायदे

रुद्राक्ष का botanical और अन्य भाषाओँ में नाम / Botanical name of rudraksh :-

  • Botanical name/ जैविक नाम – Elaeocarpus serratus Linn.
  • Indian name/ सामान्य नाम – रुद्राक्ष 
  • English name/ अंग्रेजी नाम – Utrasum bead tree
  • Sanskrit name / संस्कृत नाम – भूतनाशक

रुद्राक्ष के औषधीय गुण क्या हैं / Rudraksh Medicinal properties

रुद्राक्ष शीत वीर्य एवं वात पीत शामक गुणों वाला होता है | इसके औषधीय गुण :-

  • रस – मधुर
  • गुण – स्निग्ध
  • वीर्य – शीत
  • विपाक – मधुर
  • त्रिदोष प्रभाव – वात एवं पित्त शामक

रोगानुसार रुद्राक्ष के उपयोग एवं फायदे / Rudraksh uses and benefits

इसका उपयोग अधिकतर त्वचा विकारों में किया जाता है | फोड़े फुंसी और उनके दागों को ठीक करने के लिए बहुत उपयोगी होता है | इसके अलावा अपस्मार, अनिद्रा एवं दाह रोग में इसका उपयोग किया जाता है |

रुद्राक्ष के उपयोग

दाह रोग में रुद्राक्ष के फायदे :-

दाह या जलन की समस्या होने पर व्यक्ति बेचैन हो जाता है | इस अवस्था में इसको पीस कर दही के साथ लेप बना कर लगाने पर विशेष लाभ होता है | इसमें दाहशामक गुण होते हैं |

फोड़े फुंसी और चेचक के दाग कम करने के लिए रुद्राक्ष का उपयोग कैसे करें :-

रक्त अशुद्ध हो जाने और अन्य कारणों से फोड़े फुंसी हो जाते हैं | इनके ठीक हो जाने पर इनके दाग रह जाते हैं जो बहुत समय तक बने रहते हैं | इनको ठीक करने के लिए रुद्राक्ष को चंदन के साथ लेप बना कर लगाना चाहिए |

मानसिक विक्षोभ/ अपस्मार में रुद्राक्ष के फायदे :-

तंत्रिका तन्त्र में विकार या मानसिक कमजोरी से मिर्गी आना, बेचैनी और मानसिक अशांति जैसे रोग हो जाते हैं | ऐसा होने पर रुद्राक्ष की माला धारण करने से बहुत लाभ होता है | साथ ही इसका हिम बना कर पिलाने से भी फायदा होता है |

वात एवं पित्त विकारों में रुद्राक्ष के उपयोग :-

रुद्राक्ष में वात एवं पीत शामक गुण होते हैं | वात पित्त बढ़ जाने पर इसको घिस कर पिलाने से बहुत लाभ होता है |

त्वचा विकारों में लाभदायक है रुद्राक्ष :-

रुद्राक्ष को घीस कर शहद में मिलाकर लगाने से फोड़े फुंसी और अन्य त्वचा रोग ठीक हो जाते हैं |

धन्यवाद

यह भी पढ़ें :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You