शिवाक्षार पाचन चूर्ण – रोगोपयोग एवं बनाने की विधि |

शिवाक्षार पाचन चूर्ण 

शिवाक्षार पाचन चूर्ण एक बेहतरीन दस्तावर औषधि है | मनुष्य में पेट के मध्यम से ही अधिकतर रोग पनपते है | अगर मनुष्य का पेट अर्थात पाचन प्रणाली सही नहीं है तो उसको जल्द ही अन्य रोग जकड लेते है | आयुर्वेद में कहा भी गया है कि स्वस्थ रहने का रास्ता पेट से होकर जाता है | शिवाक्षार पाचक चूर्ण गैस्ट्रिक एवं कब्ज की समस्या में रामबाण औषधी साबित होती है | आज कल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में गैस्ट्रिक और कब्ज एक आम समस्या हो गई है जो हर घर में देखने को मिलती है | गैस्ट्रिक की समस्या के कारण आपका पूरा दिन बेरंग रहता है | इसलिए आज की इस post में हम आपको गैस्ट्रिक और कब्ज की समस्या से निजत पाने के लिए एक घरेलु और प्रमाणिक औषधि का निर्माण और सेवन विधि बताएँगे |

शिवाक्षार पाचन चूर्ण बनाने की विधि 

शिवाक्षर पाचन चूर्ण बनाने के लिए हमें – 

हिंग                     –  10 ग्राम
कालीमिर्च             –  10 ग्राम
अजवायन             –   10 ग्राम
छोटी हरेड             –   10 ग्राम
शुद्ध सज्जीखार     –    10 ग्राम
सैंधव नमक         –    10 ग्राम 

की आवस्यकता होगी | इन सभी को एक बराबर मात्रा में ले कर | इनको अच्छी तरह कूट – पीसकर और कपडछान कर के साफ़ एवं (Air Tight ) मजबूत डक्कन वाली शीशी में भर लेवे , आपकी गैस्ट्रिक और कब्ज की रामबाण औषधि ” शिवाक्षार पाचक चूर्ण ” तैयार है |

मात्रा और सेवन विधि 

शिवाक्षार पाचन चूर्ण को दो तरह से ले सकते है –
घी के साथ – देशी गाय के घी के साथ आधा चम्मच रोज सुबह – शाम  सेवन करे |
गुनगुने पानी के साथ – शिवाक्षार चूर्ण को आधा चम्मच की मात्रा में रोज सुबह शाम सेवन करे |

लाभ 

यह चूर्ण वायु तथा वात के सभी प्रकार के रोगों को दूर करता है | इसके सेवन से पेट की अग्नि ठीक होती है |अपान वायु बहार निकल जाती है , कब्ज को भी जड़ से दूर करने में सक्षम है | यह चूर्ण बच्चो में भी लाभ कारी है |

Related Post

चर्म रोग : फोड़े -फुंसियो का घरेलु उपचार (pimple ha... चर्म रोग  खून में खराबी होने से चर्म रोग हो जाते है | यह खराबी अनियमित भोजन तथा प्रदूषित वातावरण में रहने के कारण होती है | अपने स्वभाव के...
आक के है इतने औषधिये गुण – आक (Calotropis g... आक  (Calotropis gigantea) आक को मदार या आकौआ भी कहते है | इस औशाधिये पौधे के विषय में हमारे समाज में यह भ्रान्ति फैली हुई है की यह पौ...
काकड़ासिंगी (कर्कटश्रंगी) – परिचय, गुणधर्म एव... काकडासिंगी (कर्कटश्रंगी) / Pistacia integerrima इसका वृक्ष 25 से 30 फीट तक ऊँचा होता है | भारत में पंजाब, पश्चिमी हिमालय, टिहरी गढ़वाल और हिमाचल प्रदे...
पुष्कर मूल के स्वास्थ्य लाभ – Health benefit... पुष्कर मूल के स्वास्थ्य लाभ - Health benefits of Pushkar mul ( Inula racemosa) आयुर्वेदिक चिकित्सा में इसे कुठ के नाम से भी जानते है | यह क...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.