मांसरोहिणी / Mansrohini क्या है ? फायदे एवं नुकसान

Deal Score+1
Deal Score+1

मांसरोहिणी एक जंगली वृक्ष है जो आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में पुरातन समय से ही उपयोग होते आया है | इसे विभिन्न नामों से पुकारा जाता है जैसे रोहिणी, रोहण आदि | चरक संहिता में मांसरोहिणी को बल्य माना गया है |

मांसरोहिणी
मांसरोहिणी का पौधा

पर्याय

हिंदी – मांसरोहिणी, रोहन एवं रोहिनी

संस्कृत – अतिरुहा, वृन्ता, चर्मकशा, प्रहारवल्ली, विक्षा, वीरवती आदि |

मराठी – रोहिणी

अंग्रेजी – Red Wook Tree

लेटिन – Soymida febrifuga A. Juss.

मांसरोहिणी का वानस्पतिक परिचय

इसका वृक्ष बहुत ऊँचा होता है | तने की त्वचा अर्थात छाल 1/3 इंच मोटी होती है | इसकी छाल का रंग नीलापन लिए कुछ धूसर रंग की देखने को मिलती है | त्वक को काटने पर लाल रंग का तरल पदार्थ निकलने लगता है | और शायद इसी कारण इसका नाम मांसरोहिणी पड़ा |

पते 9 से 18 इंच लम्बे पक्ष्वत एवं पत्रक 2 से 4 इंच लम्बे अंडाकार एवं चिकने होते है | पौधे पर छोटे, हरिताभ स्वेत फुल लगते है जो पकने के पश्चात काले रंग में बदल जाते है |

रासायनिक संगठन देखा जाये तो इसमें Lupeol, Sitasterol, Febrifugin, Methyl angolensate आदि होते है |

मांसरोहिणी के औषधीय गुण – धर्म / Properties

मांसरोहिणी वृष्या सरा दोषत्रयापहा: |

भा.वि. गुदुच्यादी वर्ग

रस – कटु एवं कषाय

गुण – लघु एवं रुक्ष

विपाक – कटु

वीर्य – शीत

दोषकर्म – त्रिदोषहर

अन्य कर्म – वृष्य, पौष्टिक, संधानीय, घावभरने वाल

मांसरोहिणी के फायदे या स्वास्थ्य उपयोग / Mansrohini ke Fayde

यह औषधीय वनस्पति बहुत ही गुणकारी है | यह मधुर, तिक्त , कषाय एवं शीत होने के साथ – साथ शरीर में बल का वर्द्धन करने वाली, घावों को ठीक करने वाली, रुचिकारक, एवं कंठशोधक गुणों से युक्त होती है |

विभिन्न रोगों में इसका प्रयोग फायदेमंद रहता है | यहाँ निचे हमने विभिन्न रोगों में इसके फायदों एवं उपयोगों का वर्णन किया है |

  • जीर्णज्वर – मलेरिया जैसे रोगों में मांसरोहिणी अच्छे परिणाम देती है | इसकी छाल का 1 ग्राम चूर्ण गुनगुने जल के साथ सेवन करवाने से मलेरिया रोग में आराम मिलता है |
  • अतिसार – अर्थात दस्त की समस्या में आधा ग्राम इसकी छाल का चूर्ण ठन्डे जल के साथ किया जाता है तो अतिसार में लाभ मिलता है |
  • मूत्र विकारों – मूत्र विकारों में इसकी छाल के चूर्ण में थोड़ी मात्रा में सेंधा नमक मिलाकर सेवन करवाने से आराम मिलता है |
  • स्तन्य विकारों में – स्तन्य विकार दूर करने के लिए इसके क्वाथ का 10 मिली की मात्रा में सेवन करने से लाभ मिलता है |
  • गठिया रोग में भी इसकी छाल का क्वाथ बनाकर सेवन करने से अत्यंत लाभ मिलता है |
  • घाव भरने के लिए – इसके क्वाथ से घाव को धोने से घाव जल्दी भरता है |

नुकसान / Side Effects

वैद्य के दिशानिर्देशों में इसका सेवन करना चाहिए | बताई गई मात्रा से अधिक सेवन नहीं करना चाहिय | वैसे इस औषधीय पौधे के कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है लेकिन फिर भी अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से विपरीत प्रभाव हो सकते है |

आपके लिए अन्य औषधीय पौधों की जानकारी

भल्लातक क्या है एवं इसके फायदे

गोरोचन क्या है एवं फायदे

कस्तूरी के फायदे

शालपर्णी के फायदे एवं नुकसान

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0
      Open chat
      Hello
      Can We Help You