दशमूलारिष्ट / Dashmoolarishta – बनाने की विधि , फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

दशमूलारिष्ट / Dashmoolarishta इन हिंदी – आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में आसव एवं अरिष्ट कल्पनाओं से निर्मित दवाओं का अपना एक अलग स्थान होता है | ये एक प्रकार के टॉनिक स्वरुप होते है एवं उत्तम गुणों के साथ – साथ दुष्प्रभाव रहित होते है | दशमूलारिष्ट में दशमूल के साथ कुल 69 औषधियों का योग होता है (औषधियों आभाव के आधार पर इन्हें घटाया भी जा सकता है) | स्त्री के स्वास्थ्य के लिए उत्तम औषधि है | प्रसव के पश्चात आई कमजोरी, गर्भाशय शोधन एवं सुजन जैसे विकारों में इसका प्रयोग प्रमुखता से किया जाता है | वात व्याधियां जैसे – जोड़ो का दर्द, सुजन, गठिया एवं अन्य सभी वात शूल में लाभदायक परिणाम देती है | कफज विकारों में भी इस दवाई का प्रयोग लाभदायक होता है | शारीरिक कमजोरी, शुक्राणुओं की कमी, धातु दुर्बलता, गुल्म एवं भगंदर जैसे अन्य रोगों में भी दशमूलारिष्ट के फायदे बहुत उपयोगी दवा है |

दशमूलारिष्ट

बाजार में विभिन्न कंपनियों जैसे पतंजलि, बैद्यनाथ, डाबर एवं धूतपापेश्वर आदि की दशमूलारिष्ट आसानी से उपलब्ध हो जाती है | यह लेख ज्ञानवर्द्धन के उद्देश्य से लिखा गया है, उपचार के लिए चिकित्सक का परामर्श आवश्यक है |

दशमूलारिष्ट बनाने की विधि

दशमूलारिष्ट का निर्माण दशमूल के साथ अन्य बहुत सी जड़ी – बूटियों के सहयोग से होता है | इसकी निर्माण विधि को समझने से पहले इसके घटक द्रव्यों को जानना आवश्यक है –

1.शालिपर्णी240 ग्राम
2.पृश्नीपर्णी240 ग्राम
3.वृहती240 ग्राम
4.कंटकारी240 ग्राम
5.गोक्षुर240 ग्राम
6.बिल्वमूल240 ग्राम
7.अग्निमंथ240 ग्राम
8.श्योनाक240 ग्राम
9.पाटला240 ग्राम
10.गम्भारी240 ग्राम
11.चित्रकमूल1.200 किलोग्राम
12.पुष्करमूल1.200 किलोग्राम
13.लोध्र त्वक960 ग्राम
14.गिलोय960 ग्राम
15.आमलकी768 ग्राम
16.यवाशक576 ग्राम
17.खदिरकाष्ठ384 ग्राम
18.विजयसार384 ग्राम
19.हरीतकी384 ग्राम
20.कुष्ठ96 ग्राम
21मंजिष्ठा96 ग्राम
22.देवदारु96 ग्राम
23.विडंग96 ग्राम
24.मधुयष्टी96 ग्राम
25.भारंगी96 ग्राम
26.कपित्थ96 ग्राम
27.विभितकी96 ग्राम
28.पुनर्नवा96 ग्राम
29.चव्य96 ग्राम
30.जटामांसी96 ग्राम
31.प्रियंगु96 ग्राम
32.सारिवा96 ग्राम
33.कृष्ण जीरक96 ग्राम
34.त्रिवृत96 ग्राम
35.रेणुका96 ग्राम
36.रास्ना96 ग्राम
37.पिप्पली96 ग्राम
38.सुपारी96 ग्राम
39.कचूर96 ग्राम
40.हरिद्रा96 ग्राम
41.शतपुष्पा96 ग्राम
42.पद्मकाष्ठ96 ग्राम
43.नागकेशर96 ग्राम
44.नागरमोथा96 ग्राम
45.इन्द्र्यव96 ग्राम
46.शुंठी96 ग्राम
47.जीवक96 ग्राम
48.ऋषभक96 ग्राम
49.मेदा96 ग्राम
50.महामेदा96 ग्राम
51.काकोली96 ग्राम
52.क्षीरकाकोली96 ग्राम
53.ऋदी96 ग्राम
54.वृद्धि96 ग्राम

क्वाथ के लिए जल = 100.608 लीटर (आठ गुना) अवशिष्ट क्वाथ     = 25.152 लीटर (चौथा भाग)


इसके अलावा द्राक्षा – 3.07 किलोग्राम और इसके क्वाथ के लिए 12.288 लीटर जिसका क्वाथ बनाने के पश्चात अवशिष्ट जल – 9. 216 किलोग्राम बचना चाहिए |


इन सब द्रव्यों के अलावा निम्न प्रक्षेप द्रव्य भी पड़ते है – प्रक्षेप द्रव्य

  1. मधु (शहद) – 1.536 KG
  2. गुड            – 19.200 किलोग्राम
  3. धातकीपुष्प  – 1.440 किलोग्राम
  4. शीतलचीनी  – 96 ग्राम
  5. श्वेत चन्दन  – 96 ग्राम
  6. जायफल      – 96 ग्राम
  7. लवंग          – 96 ग्राम
  8. दालचीनी     – 96 ग्राम
  9. इलायची      – 96 ग्राम
  10. तेजपता       – 96 ग्राम
  11. नागकेशर     – 96 ग्राम
  12. पिप्पली       –  96 ग्राम
  13. कस्तूरी        – 3 ग्राम
  14. कतक फल    – आवश्यकतानुसार

कैसे बनाया जाता है

सबसे पहले क्रम संख्या 1 से लेकर 54 तक की सभी जड़ी – बूटियों को दरदरा कूट कर यवकूट कर लेते है | अब लगभग 100 लीटर पानी में (1 से 54 तक के द्रव्यों का आठ गुना जल) इन जड़ी – बूटियों को डालकर मन्दाग्नि पर क्वाथ (चौथा भाग बचने पर) का निर्माण किया जाता है | अब किसी अन्य पात्र में द्राक्षा का क्वाथ बनाया जाता है | द्राक्षा का क्वाथ बनाने के लिए द्राक्षा के कुल वजन का चार गुना जल लेकर मन्दाग्नि पर पाक करते है , जब एक तिहाई पानी बचे तब इसे निचे उतार कर ठंडा कर लिया जाता है | फिर संधान पात्र में दोनों क्वाथों को डालकर उसमे गुड को घोल कर मिश्रित किया जाता है | प्रक्षेप द्रव्यों का भी यवकूट चूर्ण कर लिया जाता है | संधान पात्र के तैयार घोल में प्रक्षेप द्रव्यों के यवकूट चूर्ण को डालकर इसका मुंह अच्छी तरह बंद कर दिया जाता है | इसे 1 महीने तक किसी निर्वात स्थान पर रख देते है | महीने भर पश्चात् संधान परिक्षण के माध्यम से परीक्षित करके इसे महीन छलनी से छान लिया जाता है | इस प्रकार से दशमूलारिष्ट का निर्माण होता है | सेवन मात्रा सामान्यत: इसका सेवन 20 से 30 ml सुबह एवं शाम भोजन करने के पश्चात समान मात्रा में जल मिलाकर चिकित्सक के परामर्श अनुसार किया जाता है | किसी भी औषधि को ग्रहण करने से पहले चिकित्सक से दिशा निर्देश अवश्य लेना चाहिए, क्योंकि रोग एवं रोगी की प्रकृति के अनुसार औषध योग का निर्धारण होता है |

दशमूलारिष्ट के फायदे

  • दशमूलारिष्ट के सेवन से प्रसूता स्त्रियों में गर्भाशय का शोधन एवं स्तनों में दूध की व्रद्धी होती है |
  • यह सभी प्रकार की वात व्याधियों में लाभदायक औषधि है |
  • वात के कारण होने वाले रोग जैसे गठिया, आमवात, संधिवात आदि में इसके सेवन से फायदा मिलता है |
  • कफज विकारों को दूर करने में कारगर आयुर्वेदिक दवा है |
  • श्वास , कास आदि रोगों में सेवन से लाभ मिलता है |
  • महिलाओं को प्रसवोतर होने वाले सभी समस्याओं में इसका सेवन फायदा देता है |
  • गर्भपात (पढ़ें बार – बार गर्भपात का आयुर्वेदिक इलाज) से पीड़ित महिलाओं के लिए दशमूलारिष्ट फायदेमंद होती है | निश्चित समय के लिए चिकित्सक के निर्देशानुसार सेवन करने से गर्भपात की सम्भावना कम हो जाती है |
  • अस्थमा के रोगियों को भी दशमूलारिष्ट का सेवन करवाने से लाभ मिलता है |
  • शरीर में वायु के कारण होने वाले सभी प्रकार के दर्द से राहत देता है |
  • भूख न लगने या भोजन में अरुचि की समस्या को भी इसके सेवन से सुधार जा सकता है |
  • पुरुषों के लिए भी यह फायदेमंद होता है | जिन पुरुषों में शुक्र के विकार या धातुक्षय की समस्या है वे इसके चिकित्सकीय सेवन से अपनी समस्याओं को दूर कर सकते है |
  • गृहणी की समस्या में भी यह फायदेमंद साबित होती है | क्योंकि पाचन को बढ़ा कर यह मन्दाग्नि को ठीक करती है जिससे गृहणी रोग में भी फायदा मिलता है |
  • रक्त की कमी के रोग जैसे पांडू में भी इसका चिकित्सकीय सेवन किया जाता है |
  • शरीर को बल प्रदान करने वाली औषधि है |
  • रक्त अशुद्धि में फायदेमंद है |
  • शुक्रशोधन के लिए भी इसका सेवन किया जाता है |

दशमूलारिष्ट के चिकित्सकीय उपयोग या स्वास्थ्य प्रयोग 

निम्न रोगों में इसका चिकित्सकीय प्रयोग किया जाता है –

  • गर्भप्रद अर्थात गर्भाशय शोधन एवं गर्भ को ताकत देने में |
  • पुष्टिकारक – शरीर को पौषित करने के लिए |
  • बल्य
  • शुक्रल
  • धातुक्षय में
  • श्वास
  • वातज कास
  • अरुचि
  • संग्रहणी
  • गुल्म
  • भगंदर
  • समस्त वात व्याधि
  • क्षय
  • छ्र्दी
  • पांडू
  • कामला
  • कुष्ठ
  • अर्श
  • प्रमेह
  • मन्दाग्नि
  • मूत्रकृच्छ
  • अश्मरी
  • उदर विकारों में
  • प्रसूता ज्वर

और पढ़ें

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You