गुर्दे की पत्थरी निकालने के लिए – आजमाए इन नुस्खो को

गुर्दे की पत्थरी का इलाज

पेशाब के साथ निकलने वाले क्षारीय तत्व जब किन्ही कारणवश मूत्र के द्वारा बाहर नहीं निकल पाते और ये मूत्राशय , गुर्दे और मूत्र नलिका में एकत्र होकर कंकड़ का रूप ले लेते है इसे ही पत्थरी कहा जाता है | यह रोग मूत्र संसथान से संबंधित रोग है | इस रोग से पीड़ित व्यक्तियों की संख्या लगातार बढ़ रही है | आयुर्वेद एवं घरेलु चिकित्सा पद्धति के द्वारा आप इस रोग से छुटकारा पा सकते है | निचे बताये गए नुस्खो को आजमा कर आप गुर्दे की पत्थरी से राहत प्राप्त कर सकते है |

गुर्दे की पत्थरी का इलाज
गुर्दे की पत्थरी का देशी इलाज

गुर्दे की पत्थरी में उपयोगी घरेलु नुस्खे

» गुर्दे की पथरी में कुल्थी का उपयोग रामबाण सिद्ध होता है | 250 ग्राम कुल्थी को 3 लीटर पानी में रात भर के लिए भिगो दे | सुबह इस पानी को आंच पर चढ़ा दे , जब पानी आधा रह जाए तब इसे निचे उतार कर ठंडा कर ले | अब 50 ग्राम गाय के देशी घी का इसमें छोंकन लगाये | छोंक में जायके के लिए सेंधा नमक , हल्दी , जीरा और काली मिर्च अल्प मात्रा में दाल सकते है | इस तैयार औषधि का उपयोग 250 ग्राम से 500 ग्राम की मात्रा में कर सकते है | इसका इस्तेमाल 1 से 2 सप्ताह तक लगातार करने से गुर्दे की कैसी भी पथरी हो गल कर निकल जायेगी |

» 250 ग्राम गाय के मट्ठे में 6 ग्राम जवाखार डालकर रोगी को सुबह शाम पिलाने से गुर्दे की पत्थरी के कारण होने वाले दर्द से छुटकारा मिलता है |

» 10 ग्राम इलायची के दाने , 10 ग्राम शिलाजीत एवं 6 ग्राम पीपल – इन सभी को बारीक़ पीसले | तैयार चूर्ण में 25 ग्राम की मात्रा में पीसी हुई मिश्री मिलाएं | इस चूर्ण का इस्तेमाल 1 – 1 चम्मच की मात्रा में सुबह – शाम करने से जल्द ही गुर्दे की पत्थरी से निजात मिलती है |

» गुर्दे की पत्थरी में मुली के बीज भी काफी फायदेमंद होते है | दो गिलास पानी में 30 ग्राम मुली के बीज डालकर आग पर अच्छी तरह उबाले | जब एक गिलास पानी बचे तो इसे छानकर दिन में दो बार सेवन करे | यह प्रयोग भी गुर्दे की पत्थरी में काफी लाभ देता है |

» गुर्दे की पत्थरी से होने वाले दर्द से बचने के लिए – काले लोहे की अंगूठी अपने सीधे हाथ की मध्यमा अंगुली में पहने | इससे गुर्दे की पत्थरी का दर्द कम होता है | दरश्ल मध्यमा अंगुली का दबाव बिंदु गुर्दे से संबंधित होता है | इसलिए अंगूठी पहनने से गुर्दे की पत्थरी के कारण होने वाले दर्द में आराम मिलेगा |

» पालक का रस एक कप एवं नारियल का पानी एक कप दोनो को मिलाकर नित्य 15 दिनों तक सेवन करने से गुर्दे की पत्थरी गल कर बाहर निकल जाती है |

» गाजर के बीज और शलजम के बीज – दोनों को 3 – 3 ग्राम की मात्रा में लेकर  एक मुली को अन्दर से खोखला कर के इसमें भर दे | इस मुली का मुंह गाजर की छीलन से भर दे और इसे उपलों की आग में दबा दे | जब मुली भुन जाए तब इसे उपलों की आग से बाहर निकाल कर इसमें से बीज निकाल ले | बीजो को 2 – 2 ग्राम की मात्रा में सुबह – शाम सेवन करने से मूत्र की वर्द्धि होगी एवं पत्थरी भी गल कर बाहर निकल जायेगी |

» गोखरू का चूर्ण 10 की मात्रा में 25 ग्राम शहद में मिलाकर चाटने से भी गुर्दे की पथरी में आराम मिलता है | इसके साथ में प्याज का 4 चम्मच रस सुबह और शाम पीना काफी फायदेमंद साबित होता है |

गुर्दे की पत्थरी में पथ्य और अपथ्य आहार

जिस व्यक्ति को गुर्दे की पत्थरी हो उसे शीघ्र पचने वाले आहार ग्रहण करने चाहिए | गेंहू और जौ की रोटी , हरी सब्जियां, मुंग की दाल , मौसमी फल और इसका रस , जौ और नारियल का पानी का सेवन करना चाहिए | इसके आलावा पुराने चावल , मुली , गाजर , अदरक , दूध , मट्ठा ,  दही और निम्बू का रस भी पथरी के रोगी के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होता है | अधिक पानी का सेवन करे ताकि मूत्र के आने की परवर्ती बढे और पथरी जल्दी ही बाहर निकले

मीठा , मक्खन , घी , तेल , चीनी , शराब , मांस , चाय , कोफ़ी और नशीले पदार्थो का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए | क्योकि इनके इस्तेमाल से पत्थरी और अधिक सख्त बनती है |

धन्यवाद |

Related Post

12 महीनों के आहार नियम – जिनका पालन करके आप ... 12 महीनों के आहार नियम वर्तमान समय की भाग दौड़ भरी जिंदगी में हम आहार के नियमो का पालन बिल्कुल भी नहीं करते और परिणाम स्वरुप हमारा शरीर बीमारियो...
गेंहू के जवारे : कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को ठीक ... गेंहू के बिज को जब मिटटी में बोया जाता है तो कुछ दिनों में जो छोटी - छोटी घास निकलती है वही गेंहू के ज्वारे कहलाते है अर्थात गेंहू के अंकुरित बिज ही...
इस सब्जी के पानी से बाल हो जायेंगे काले – डा...   बालों को काला करने के घरेलु उपाय  वर्तमान समय में बालों से परेशान रहने वाले लोगों की संख्या दिनों - दिन बढती जारही है | बालों की समस्याओं में...
भूख बढ़ाने के लिए अपनाये इन 9 आयुर्वेदिक दवा एवं 5 ... भूख बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक दवा : भूख न लगना या कम लगना एक सामान्य समस्या है | वैसे यह किसी गंभीर बीमारी का लक्षण भी हो सकता है, लेकिन अगर आपका स्वास्...
Content Protection by DMCA.com

One thought on “गुर्दे की पत्थरी निकालने के लिए – आजमाए इन नुस्खो को”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.