Dyspepsia / अजीर्ण की स्थिति में आहार – जानें इसके कारण, लक्षण एवं उपचार

अजीर्ण / Dyspepsia in Hindi

अजीर्ण को आयुर्वेद में रोगों का मूल कहा गया है | जो मनुष्य अनात्मवान होकर पशुओं की तरह अत्यधिक मात्रा में गरिष्ठ भोजन करते उन्हें अजीर्ण (अपच) रोग हो जाता है | इस रोग को साधारण भाषा में अजीर्ण / अपच / Indigestion या आधुनिक चिकित्सा विज्ञानं में Dyspepsia रोग कहा जाता है |

Dyspepsia in hindi

Dyspepsia पाचन संस्थान का प्रमुख विकार होता है और यह अनेक अन्य विकारों का जनक भी माना जाता है | अजीर्ण से तात्पर्य खाए हुए आहार का सम्यक रूप से पाक न हो पाना | इसका कारण जठराग्नि का मंद होना होता है | जब शरीर की जठराग्नि मंद होती है तो खाए हुए आहार का पाचन नहीं हो पाता एवं अपक्व अर्थात अध् पचा हुआ आहार शरीर में आम दोष की उत्पति करता है | यह आम दोष शरीर की अन्य धातुओं को दूषित करता है अनके रोगों को जनम देता है |

अजीर्ण के प्रकार / Types of Dyspepsia in Hindi

आयुर्वेद में अजीर्ण को 7 प्रकार का माना है जो निम्न है –

  1. आमाजिर्ण
  2. विदग्धाजीर्ण
  3. विष्ट्ब्धाजीर्ण
  4. रसशेषाजीर्ण
  5. दिनपाकी जीर्ण
  6. प्राकृत अजीर्ण
  7. अन्नविष अजीर्ण

आधुनिक अनुसार Dyspepsia के निम्न प्रकार है – 1. Organic Dyspepsia – जब पाचन संस्थान के किसी अंग में दोष उत्पन्न हो जाता है एवं इसकी रचना एवं बनावट में कोई अवांछित परिवर्तन आ जाता है , जिसके कारण पाचन क्रिया सुचारू रूप से संपन्न नहीं होती है तो इसे organic dyspepsia या देहात्मक अजीर्ण कहते है | 2. Functional Dyspepsia – जब पाचन संस्थान की रचना एवं बनावट में परिवर्तन आकर अजीर्ण की समस्या उत्पन्न होती है तो इसे functional dyspepsia या क्रियात्मक अजीर्ण कहते है |

अजीर्ण के कारण / Reasons of Dyspepsia in Hindi

अपच के बहुत से कारण हो सकते है | अपच होने की स्थिति में उदर की पेशियों में दर्द, जलन एवं कष्ट होने लगता है | Dyspepsia के निम्न कारण हो सकते है –

causes of dyspepsia
  1. अधपका या अनुचित ढंग से पकाए गए भोजन के सेवन से अजीर्ण रोग हो सकता है |
  2. अधिक निम्न ताप पर भोज्य सामग्री को तलने से वे अधिक मात्रा में वसा को अवशोषित कर लेता है | अधिक वसीय पदार्थ परिणाम स्वरुप देरी से पचते है |
  3. अधिक उच्च ताप पर तल कर बनाये गए भोज्य पदार्थ भी dyspepsia (अजीर्ण) का कारण बन सकते है , क्योंकि अधिक ताप पर वसा में जलन उत्पन्न करने वाले कणों का निर्माण हो जाता है | अत: बाजार में बार – बार गरम किये गए भोज्य पदार्थो के सेवन करने से अजीर्ण की समस्या उत्पन हो जाती है |
  4. जल्द बाजी में किया गया भोजन अर्थात अच्छी तरह न चबा कर भोजन करने से भी अजीर्ण की समस्या हो जाती है |
  5. असंतुलित आहार के सेवन से भी यह रोग हो सकता है |
  6. अधिक गरिष्ठ भोजन , तले हुए भोज्य पदार्थ, अधिक वसा एवं मिर्च मसाले वाले पदार्थों का सेवन भी इसका एक कारण बन सकता है |
  7. अनियमित समय पर भोजन भी इसका एक कारण माना जा सकता है |
  8. अत्यधिक कॉफी एवं चाय के सेवन से |
  9. आंतो में किसी प्रकार के संक्रमण के कारण हानिकारक जीवाणु पाचन क्रिया को खराब कर देते है | परिणाम स्वरुप dyspepsia in hindi की समस्या उत्पन्न हो जाती है |
  10. मानसिक विकार जैसे – अत्यधिक क्रोध, चिंता, इर्ष्या एवं काम वेग भी इसका कारण बन सकता है |
  11. शरीर में अत्यधिक पित की व्रद्धी होने से |

अजीर्ण के लक्षण / Symptoms of Dyspepsia in Hindi language

अजीर्ण की स्थिति में निम्न लक्षण प्रकट हो ते है –

dyspepsia symptoms in hindi
  1. खाना खाते ही पेट में भारीपन रहना एवं शरीर भी भारी – भारी महसूस होता है |
  2. पेट में दर्द रहना , जलन रहना एवं हृदय प्रदेश में भी जलन महसूस होना |
  3. जी मचलाना, चक्कर आना, मितली आदि की शिकायत महसूस होती है |
  4. अमाशय में HCL की अम्लीयता बढ़ जाती है |
  5. ज्वर एवं मूर्च्छा की स्थिति |
  6. भोजन में अरुचि होना |
  7. शारीरिक थकावट अर्थात आलस्य की स्थिति |
  8. पेट में आफरा रहना |
  9. जम्भाई, अंगो में दर्द एवं तृष्णा भी अजीर्ण के लक्षण होते है |
  10. पुरे दिन सिर भारी – भारी रहना एवं शिरशुल की समस्या |
  11. भ्रम |

अजीर्ण में रोगी का आहार / Diet in Dyspepsia 

इस रोग में रोगी को कम मिर्च मसाले भोजन दिया जाना चाहिए | भोजन नरम , कोमल एवं सुपाच्य हो | शरीर में अम्लीयता उत्पन्न करने वाले भोज्य पदार्थो से रोगी को पूर्णत: परहेज करना चाहिए | Dyspepsia के रोगी को हमेशां निम्न रेशे युक्त आहार देना चाहिए |

diet in dyspepsia in hindi

रोगी को पर्याप्त रूप से विश्राम दिया जाना चाहिए साथ ही मानसिक चिंता एवं संवेगाताम्क तनावों से भी दूर रहना फायदेमंद रहता है | भोजन में रूचि पैदा करने वाली औषधियां दी जानी चाहिए | भोजन में रूचि पैदा करने के लिए पोदीने की चटनी, जीरा, एवं छाछ आदि का इस्तेमाल किया जा सकता है | भोजन के बाद आयुर्वेदिक हिंग्वाष्टक चूर्ण, अविपतिकर चूर्ण , शिवाक्षार पाचन चूर्ण आदि औषधियों का प्रयोग करवाना चाहिए | अजीर्ण रोग में रोगी के एक दिन की आहार तालिका हमने निचे बताई है आप इसका इस्तेमाल अपने चिकित्सक के परामर्शनुसार कर सकते है

सुबह 6 बजेदूध, शक्कर या फलों का रस1 गिलास
8.30 बजे (नास्ता)ब्रेड / मक्खन या जैम / फल (पपीता, आम, सेब या अन्य मौसमी फल)4 स्लाइड्स / 2 चम्मच / 1 फल
11.00 बजेगाजर, टमाटर या पालक का सूप1 छोटा गिलास
1.30 बजे (दोपहर का खाना)रोटी / चावल का भात / लौकी की सब्जी / मुंग की दाल / दही / फलों का सलाद2 से 3 / 1 प्लेट / बाकि सभी एक कटोरी की मात्रा में लिए जा सकते है
4.30 बजेअनार का रस1 गिलास
5.30चाय / नमकीन बिस्किट1 कप / 2 बिस्किट
9.00 रात्रि का भोजनचावल / परवल / आलू / टमाटर की सब्जी / रोटी / दही का रायता / सेवई की खीर आदि1 प्लेट / 1 प्लेट / रोटी 2 से 3 / बाकि सभी 1 कटोरी
10.00 सोते समयदूध और शक्कर1 गिलास

टेबल क्रेडिट – आहार एवं पौषण विज्ञानं

अजीर्ण का इलाज / Dyspepsia Treatment in Hindi

अजीर्ण का इलाज करने से पहले इसके संभावित कारणों की खोज करनी चाहिए | सबसे पहले यह देखना चाहिए की रोगी को अजीर्ण की स्थिति किस वजह से उत्पन्न हुई है | इसके पश्चात इन कारणों को दूर करने का प्रयास करना चाहिए | रोगी को उचित आहार की जानकारी दी जानी चाहिए ताकि रोगी अजीर्ण को बढाने वाले आहार का सेवन बंद करदे एवं रोग जल्द ठीक हो जावे | अजीर्ण के घरेलु उपचार में आप इन निम्न उपायों को अपना सकते है – ♦ लवण भास्कर चूर्ण का इस्तेमाल

lavan-bhaskar

बाजार में मिलने वाले लवण भास्कर चूर्ण के इस्तेमाल से अजीर्ण या अपच की समस्या से छुटकारा मिल सकता है | सुबह एवं शाम के भोजन के पश्चात एक चम्मच की मात्रा में लवण भास्कर चूर्ण का इस्तेमाल करे | चूर्ण के अनुपन स्वरुप शीतल जल, मट्ठा या अर्क अजवाइन के साथ लिया जा सकता है | ♦ Dyspepsia में चित्रकादी चूर्ण या वटी का प्रयोग

chitrakadi-vati

चित्रकादी वटी या चूर्ण उत्तम पाचन गुणों से युक्त होता है | इसके इस्तेमाल से रोगी का पाचन सुधरता है एवं अजीर्ण की समस्या जाती रहती है | चित्रकादी वटी को आप किसी भी आयुर्वेदिक दवाखाने से प्राप्त कर सकते है | इस औषधि के कोई साइड एफ्फेक्ट्स् नहीं है अत: आप इसे बेझिझक इस्तेमाल कर सकते है | इसका प्रयोग एक चम्मच सुबह – शाम या वटी के रूप में दो – दो गोली सुबह शाम इस्तेमाल की जा सकती है | इस औषधि के इस्तेमाल से भोजन में रूचि बढती है एवं पाचन सुधर कर अपच या अजीर्ण की समस्या का नाश होता है |

♦ Dyspepsia (अजीर्ण) में जामुन का सिरका

jamun-vinegar-sirka

इसे आप किसी भी आयुर्वेदिक औषधालय से खरीद सकते है | 10 ML की मात्रा में पानी के अनुपन के साथ सुबह एवं शाम सेवन किया जा सकता है  | यह उत्तम पाचन गुणों से युक्त होने के कारण अजीर्ण, अपच, Indigestion, उदर – शूल, मन्दाग्नि, आफरा आदि समस्याओं में लाभ देता है |

अजीर्ण के लिए घरेलु नुस्खे / Home Remedies for Dyspepsia

dyspepsia treatment in hindi
  • अजीर्ण या indigestion की समस्या में दो लौंग, एक हरड का चूर्ण एवं थोडा सा सेंधा नमक मिलाकर पीने से अजीर्ण की समस्या में आराम मिलता है |
  • घर पर आसानी से मिल जाने वाले मसालों से जैसे – 10 ग्राम धनिया, 5 कालीमिर्च एवं दो चुटकी काला नमक , इन सभी को बारीक़ पीसकर चूर्ण बना ले | इस चूर्ण का इस्तेमाल गुनगुने जल के साथ करे |
  • 10 ग्राम जीरा, 5 ग्राम कालीमिर्च, 5 ग्राम सोंठ एवं 3 ग्राम सेंधा नमक – सभी को बारीक़ पीसकर चूर्ण बना ले | नित्य भोजन के पश्चात इस चूर्ण का इस्तेमाल करने से जल्द ही अजीर्ण की समस्या में लाभ मिलता है |
  • पोदीना – 10 ग्राम , अजवायन – 10 ग्राम एवं देशी कपूर – 5 ग्राम इन सभी को मिलकर चटनी बना ले | इसका प्रयोग भी dyspepsia रोग में लाभदायक होता है |
  • मूली का थोडा सा रस निकाल ले , अब इसमें थोड़ी मात्रा में शक्कर मिलाकर सेवन करने से भी अजीर्ण (Dyspepsia) में आराम मिलता है | इसका इस्तेमाल अन्य उदर विकार जैसे – गैस, आफरा आदि में किया जा सकता है |
  • पिप्पल के चूर्ण में थोडा सा निम्बू का रस मिलाकर सेवन करने से भी लाभ मिलता है |
  • कुल्थी के पतों का रस निकाल ले एवं एक चम्मच की मात्रा में नित्य सेवन से कुच्छ ही दिनों में अजीर्ण की समस्या जाती रहती है |
  • सोंठ, कालीमिर्च, काली जीरी – इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर इनका चूर्ण बना ले | इस चूर्ण के प्रयोग से भी अजीर्ण की समस्या जाती रहती है |
  • टमाटर का रस निकाल कर इसमें थोडा सा काला एवं जीरा डालकर सेवन करें |
  • जामुन के पेड़ की छाल निकाल ले एवं इसे अच्छी तरफ सुखा ले | सूखने के बाद इसका चूर्ण बना ले एवं नित्य प्रयोग करें | अजीर्ण रोग जल्द ही ठीक हो जाता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
क्या आप जानते है कौनसी जड़ी-बूटी क्या काम आती है ?
Open chat
Hello
Can We Help You