लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि

लक्षादी चूर्ण लक्षादी चूर्ण बनाने की विधि - सबसे पहले नील कमल के फूलो को लेकर इनको सुखा ले | अब नील कमल के सूखे फुलों के साथ - मुलहठ...

Continue reading

अग्निवर्द्धक चूर्ण बनाने की विधि

अग्निवर्द्धक चूर्ण विधि - पीसी हुई सोंठ 50 ग्राम , सेंधा नमक 150 ग्राम , काला नमक - 50 ग्राम , निम्बू का सत - 50 ग्रा...

Continue reading

कब्ज-हर चूर्ण बनाने की विधि

कब्ज-हर चूर्ण विधि - सोंठ - सौंफ - सनाय - छोटी हरेड और सेंधा नमक | इन सभी को बराबर की मात्रा में लेकर कूट-पीसकर चूर्ण...

Continue reading

वातहर चूर्ण बनाने की विधि

वात - हर चूर्ण विधि - अजमोदा , देवदारु , वाय-बिडंग , सेंधा नमक, पिपरामुल , पीपल , सौंफ और कालीमिर्च सभी 10-10 ग्राम ए...

Continue reading

शिवाक्षार पाचन चूर्ण – रोगोपयोग एवं बनाने की विधि |

शिवाक्षार पाचन चूर्ण शिवाक्षार पाचन चूर्ण एक बेहतरीन दस्तावर औषधि है | मनुष्य में पेट के मध्यम से ही अधिकतर रोग पनपते है...

Continue reading

हिंग्वाष्टक चूर्ण के फायदे और इसे बनाने की विधि

हिंग्वाष्टक चूर्ण - हमारे लिए आयुर्वेद का एक अमूल्य तोहफा है | हिंग्वाष्टक चूर्ण अजीर्ण , अपच और गैस की समस्या में एक रामबाण औषदी है | ...

Continue reading

चित्रकादि वटी – फायदे, उपयोग एवं बनाने की विधि |

चित्रकादि वटी आयुर्वेद में वटी औषधियों का बहुत बड़ा महत्व है | इस प्रकार की औषधियां रोगी को लेने में आसान होती है एवं रोग पर असर भी ज...

Continue reading

ब्राह्मी चूर्ण – परिचय, निर्माण विधि और सेवन के फायदे

⇐ ब्राह्मी चूर्ण ⇒ ब्राह्मी (Bacapa monnieri) एक औषधिये पौधा है | जो मुख्य रूप से हमारे भारत में उपजाऊ मैदानों में उगता है | यह जमीन...

Continue reading

त्रिफला चूर्ण – बनाने की विधि और सेवन के फायदे

त्रिफला चूर्ण हम जो कुछ खाते - पिते है , उसका प्रभाव हमारे मन , शरीर और आचार - विचार पर पड़ता है | इसलिए प्रकृति ने हमारे शरीर के लिए क...

Continue reading

12