अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण (महिलाओं के लिए जानकारी)

गर्भधारण एक महिला के जीवन का बहुत यादगार पल होता है | आधुनिक समय में जब गर्भधारण (प्रेगनेंसी) का पता लगाने के लिए बहुत से उपकरण आ गये हैं | एक माँ के लिए यह जान पाना की वह गर्भवती है या नहीं बहुत आसान हो गया है | लेकिन इन उपकरणों के अलावा भी ऐसे बहुत से शारीरिक लक्षण होते हैं जिनसे अंडा गर्भावस्था के बारे में पता लगाया जा सकता है |

इस लेख में हम ऐसे ही कुछ संकेतो के बारे में बात करेंगे जो अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण के तौर पर देखे जा सकते हैं | अंडा फटने का मतलब ovulation (ओवुलेशन) से होता है | पीरियड्स के 14 दिन पहले ओवुलेशन होता है | यह वो समय होता है जब महिला के अंडे ovary से फेलोपियन ट्यूब में जाते है | इस समय संबंध बनाने से प्रेग्नेंट होने की संभावना ज्यादा होती है | इसलिए जिन महिलाओं को गर्भधारण नहीं हो रहा होता है उन्हें अंडा फटने के बाद (ओवुलेशन पीरियड) सहवास करने की सलाह दी जाती है |

जब गर्भधारण होता है तो शुरुवाती दिनों से महिला के शरीर में कुछ बदलाव आना शुरू हो जाते हैं | हालांकि इन बदलावों से आप निश्चित तो नही कह सकते की यह गर्भावस्था या प्रेगनेंसी का ही लक्षण हैं लेकिन कुछ हद तक इससे गर्भावस्था का पता लगाया जा सकता है | ओवुलेशन पीरियड (अंडा फटने) के बाद गर्भावस्था का पता इन लक्षणों को समझ के लगाया जा सकता है |

Post Contents

अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के सभी लक्षणों की जानकारी (Symptoms of pregnancy after ovulation in hindi)

एक महिला के जब माँ बनने के लिए तैयार होती है तो उसके मन में यह जिज्ञासा होने लगती है की उसे कैसे पता चलेगा वह प्रेग्नेंट हुयी है या नहीं | आजकल प्रेगनेंसी का पता लगाने के लिए बहुत ही साधारण उपकरण आते हैं जिनसे आप घर पर ही कुछ समय में प्रेगनेंसी का पता लगा लेते हैं | लेकिन प्राकर्तिक तौर पर महिला के शरीर में भी ऐसे बहुत से बदलाव आते हैं जिनको जानकर गर्भवस्था के बारे में पता लगाया जा सकता है |

अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण

सामान्यतः अंडा फटने के बाद यानि ओवुलेशन पीरियड में प्रेग्नेंट होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि इस समय अंडे ovary से निकलकर फेलोपियन ट्यूब में जाते हैं | अंडा फटने के बाद सहवास करने या संबंध बनाने से गर्भधारण (प्रेगनेंसी) की संभावना बढ़ जाती है | इस पीरियड के बाद महिला को यह उत्सुकता रहती है की वह प्रेग्नेंट है या नहीं | इसका पता लगाने के लिए अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के कुछ लक्षणों की जानकारी होनी चाहिए | ये सभी लक्षण हम आपको इस लेख में बतायेंगे इसलिए आप इस लेख को पूरा पढ़ें :-

अंडा फटने के बाद गर्भावस्था का पहला लक्षण (First symptom) – पेशाब के रंग में परिवर्तन

यह सबसे पहला और निश्चित परिवर्तन होता है | गर्भधारण के बाद महिला के पेशाब का रंग बदल जाता है | अंडा फटने के बाद जब महिला गर्भधारण करती है तो उसके पेशाब का रंग बदल कर पीला हो जाता है | हालांकि पेशाब का रंग पीला होने के अन्य बहुत से कारण भी हो सकते हैं लेकिन अगर ओवुलेशन पीरियड के बाद अगर महिला के पेशाब का रंग बदल कर पीला हो जाये तो आप इसे गर्भधारण का संकेत समझ सकते हैं | यह इसलिए होता है क्योंकि गर्भधारण के बाद महिला की किडनी पेशाब का फ़िल्टर सही ढंग से नहीं कर पाती है |

दूसरा लक्षण (second symptom) – पाचन की समस्या होना (जैसे गैस कब्ज आदि )

जब महिला गर्भधारण करती है तो उसके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं | इनमे से एक है पाचन विकृति आना | गर्भधारण के बाद महिला को गैस, कब्ज एवं अपच जैसी समस्याएं हो जाती हैं | गर्भधारण के पश्चात् जैसे ही भ्रूण का विकास होना शुरू होता है महिला को ये पाचन समस्याएं होने लगती है | उसका कुछ भी खाने का मन नहीं करता है | इन सभी लक्षणों से आप समझ सकती हैं की यह प्रेगनेंसी के लक्षण हो सकते हैं |

चक्कर आना – अंडा फटने के बाद गर्भधारण का तीसरा लक्षण (Third Symptom)

यह सबसे सामान्य लक्षण माना जाता है | अंडा फटने के बाद जब महिला गर्भवती हो जाती है तो उसके शरीर में बहुत से हार्मोनल बदलाव आते हैं, इन हार्मोन्स का स्राव होने से महिला को मितली आना एवं चक्कर आना जैसी समस्याएं होती हैं | अगर अंडा फटने के बाद आपने सहवास किया हो और उसके बाद आपको चक्कर आना जैसे लक्षण दिखाई दे तो आप समझ जाएँ की आप प्रेग्नेंट हो सकती हैं |

थकान एवं कमजोरी महसूस होना – चौथा लक्षण (Fourth symptom)

जब भी महिला गर्भवती होती है उसे बहुत थकान और कमजोरी महसूस होती है | यह गर्भधारण के कारण शरीर में होने वाले बदलावों के कारण होता है | इसमें शरीर में थकान बनी रहती है एवं अंगो में दर्द रहता है | ओवुलेशन पीरियड के बाद ऐसा होने पर इसे गर्भधारण का लक्षण समझा जा सकता है |

स्तनों में बदलाव आना – अंडा फटने के बाद गर्भावस्था का पांचवा लक्षण (Fifth symptom)

गर्भधारण के बाद महिला के स्तनों में बहुत बदलाव आते हैं | स्तन कठोर हो जाना, आकार में वृद्धि हो जाना स्तनों में दर्द महसूस होना जैसे लक्षण प्रेगनेंसी के बाद दिखाई देते हैं | प्रेगनेंसी के बाद प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन की वृद्धि के कारण स्तनों का आकार और कठोरता में वृद्धि होती है |

मासिक धर्म का बंद हो जाना – छठा लक्षण (Sixth symptom)

यह सबसे सटीक और ज्ञात लक्षण है | गर्भधारण के बाद महिला को मासिक धर्म आना बंद हो जाता है | अंडा फटने के बाद सहवास किया हो और उसके बाद उस महीने महिला को पीरियड न आये तो समझ लेना चाहिए की वः गर्भवती हो गयी है | हालांकि कभी कभी अन्य कारणों से भी पीरियड्स नही आते हैं लेकिन यह गर्भधारण का एक विशेष लक्षण है |

अंडा फट जाने के बाद गर्भावस्था का अनुमान लगाने के अन्य लक्षण (Other symptom) :-

  • शरीर का तापमान बढ़ जाना
  • खाने की प्रति रूचि में परिवर्तन
  • नींद नहीं आना
  • कमर दर्द होना
  • कमर का निचला हिस्सा भारी होने लग जाना
  • पेट में मरोड़ उठना
  • सिर दर्द होना
  • चक्कर आना
  • मूड में परिवर्तन
  • यौन इच्छा बढ़ जाना
  • बार बार पेशाब लगना

ओवुलेशन (अंडा फटने) के बाद प्रेगनेंसी के लक्षण कैसे पहचाने ?

अंडा फटने के बाद गर्भधारण हो जाने के एक सप्ताह बाद उपर बताये गये लक्षण दिखने लग जाते हैं | इन लक्षणों को जानकर आप अनुमान लगा सकती हैं की आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं | हालांकि इन लक्षणों से आप शत प्रतिशत निश्चित नही हो सकती की आप प्रेग्नेंट हैं लेकिन एक शुरुवाती अनुमान हो जाता है | इसके बाद आप प्रेगनेंसी किट से टेस्ट कर के प्रेगनेंसी का पता लगा सकती हैं |

FAQ / सवाल – जवाब

अंडा फटने का क्या मतलब है ?

ओवुलेशन पीरियड में महिला की ओवरी से अंडे निकल कर फेलोपियन ट्यूब में जाते हैं जिसे अंडा फटना बोलते हैं |

अंडा फटने का समय क्या होता है ?

मासिकधर्म आने से 14 दिन पहले का समय ओवुलेशन पीरियड (अंडा फटने) होता है |

अंडा फटने के बाद गर्भधारण से क्या मतलब है ?

ओवुलेशन पीरियड के में गर्भधारण की संभावना अधिक होती है | इसलिए इस समय सहवास करने पर महिला गर्भवती हो सकती है |

क्या गर्भधारण सिर्फ अंडा फटने के दिनों में हो सकता है ?

ऐसा नहीं है, गर्भधारण कभी भी हो सकता है | लेकिन ओवुलेशन पीरियड में ज्यादा संभावना होती है |

अंडा फटने के बाद गर्भधारण का सबसे सटीक लक्षण क्या है ?

पेशाब के रंग में बदलाव, चक्कर आना, थकान आदि |

अंडा फटने के बाद प्रेगनेंसी के लक्षण कितने दिनों में दिखाई देते हैं ?

लगभग एक सप्ताह बाद |

क्या अंडा फटने के बाद गर्भधारण निश्चित होता है ?

नहीं, पर संभावना अधिक होती है |

निष्कर्ष / Conclusion

गर्भधारण एक महिला के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण पल होता है | प्रेगनेंसी का टेस्ट करने से पहले कुछ लक्षणों को जानकर गर्भधारण का पता लगाया जा सकता है | ये सभी लक्षण अंडा फटने (ओवुलेशन) के बाद गर्भधारण हो जाने पर देखने को मिलते हैं | इसलिए इन लक्षणों को समझ कर एक शुरुवाती अनुमान लगाया जा सकता है |

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published.