कमर दर्द (Kamar Dard) का आयुर्वेद से इलाज कैसे करें |

Deal Score0
Deal Score0

दोस्तों, यह एक आम समस्या है जिससे हर कोई परेशान रहता है | कमर दर्द (Lower Back Pain) के बहुत सारे कारण हो सकते हैं | जिसमे मांस पेशियों में खिंचाव, सामान्य कमर दर्द का प्रमुख कारण है | (As an example muscle stiffness is one of the major cause of lower back pain.)

Post Contents

क्या है कमर दर्द (Kamar Dard) ? (What is Lower Back Pain)

पीठ के निचले हिसे में होने वाला दर्द “कमर दर्द ” होता है | जब हम कोई ऐसा काम करते हैं | जिसमे हमें झुक कर काम करना पड़ता है | आप कुर्सी पर बैठ कर काम करते हैं | ऐसे हालात में कमर दर्द(Kamar dard) होना आम बात है |

It is not only very common when we sit on chair for long time but it can lead to a serious problem.

सामान्यतः इस प्रकार का कमर दर्द आराम करने से ठीक हो जाता है | योग और व्यायाम से ठीक हो जाता है | लेकिन इसको अनदेखा करने से | यह समस्या गंभीर पीठ दर्द में बदल जाती है | जिसका इलाज आसानी से नहीं हो पाता है | आइये जानते हैं कमर दर्द के क्या कारण हो सकते हैं |

किन कारणों से होता है Kamar Dard ? (Lower Back Pain causes)

कमर दर्द क्यों होता है? इसके बहुत से कारण हैं | महिलाओं और पुरुषों में कमर दर्द के अलग अलग कारण होते हैं | वृधावस्था में आम तौर पर सभी कम या ज्यादा इस समस्या से पीड़ित रहते हैं | इस समस्या के निम्न कारण है |

  • एक ये कि आप क्या काम करते हैं |
  • दूसरा आप कितना काम करते हैं |
  • आप क्या खाते हैं |
  • ये भी की कैसे बैठते हैं |
  • यहाँ तक की आपके सोने का तरीका क्या है |

Your working or sleeping poses can also cause back pain.

सामान्य कारण (Common Causes Of Lower Back Pain)

  • ज्यादा वजन उठाने वाले कार्य करने से Kamar Dard हो सकता है |
  • खेलते समय या व्यायाम करते समय मांस पेशियों में खिंचाव आने से |
  • कमर पर चोट लगने या गिर जाने से पीठ दर्द (Lower Back Pain) हो सकता है |
  • अधिक समय तक बैठ कर काम करने से भी कमर में दर्द हो सकता है |
  • कुपित खान पान जिस से गैस की समस्या (Acidity) हो जाती है |
  • महिलाओं में मासिक धर्म (Periods) के दौरान कमर में दर्द आम समस्या है |
  • प्रेगनेंट महिलाओं को बहुत दिनों तक Kamar dard से झुझना पड़ता है |
  • वृद्धावस्था में यह आम तौर पर सभी को होता है |
  • मांस पेशियों में खिंचाव आ जाने से कमर दर्द पकड लेता है |

चोट लगने या अन्य कारण से भी हो सकता है “कमर दर्द ” (Disc Problem)

  • रीढ़ की हड्डी में चोट लग जाने पर बहुत ज्यादा दर्द होने की संभावना होती है |
  • इस से डिस्क के बाहर का कठोर भाग टूट सकता है |
  • जिस से (Which can cause lower back pain) उसमे मौजूद जैली (प्रोटीन) तंत्रिका तंत्र तक पहुच जाती है |
  • और उसमे सुजन पैदा हो जाती है |
  • बहुत तेज पीठ दर्द (Lower back Pain in Hindi) हो सकता है |
  • जन्म के समय डिस्क के बाहर प्रयाप्त मात्रा में पानी भरा होता है |
  • जैसे जैसे उम्र बढती है इसका ह्रास होता है |
  • जिससे डिस्क को प्रयाप्त चिकनाई वाला आवरण नही मिल पाता |
  • इस वजह से डिस्क खिसक जाती है |
  • यह भी कमर दर्द का बहुत बड़ा कारण है |
  • रीढ़ की हड्डी में संक्रमण बहुत कम होता है |
  • लेकिन ऐसा होने पर बहुत भयानक परिणाम होते हैं |
  • इसका इलाज सर्जिकल चिकित्सा से ही संभव है |
  • ये संक्रमण सर्जरी या इंजेक्शन की वजह से हो सकता है |
  • फोड़ा या ट्यूमर होने की वजह से भी कमर दर्द हो सकता हैं |
  • इसमें कैंसर जैसा खतरनाक रोग भी शामिल है | (it can also lead to cancer)

Kamar Dard का कारण बन सकता है अनुचित खान – पान | (Un-Healthy Food can also Cause Back Pain)

  • ज्यादा मीठा (Sugar) खाने की आदत आपको Kamar dard जैसी बीमारी उपहार में दे सकती है |
  • प्रयाप्त मात्रा में खाना न खाने |
  • उचित पोषण नहीं होने की वजह से शरीर में कमजोरी आती है |
  • पीठ दर्द (Lower Back Pain in hindi) की समस्या हो सकती है |
  • सुजन बढाने वाले खाद्य पदार्थ |
  • जैसे लाल मांस Red meat, हॉट डॉग, बर्गर कमर दर्द का कारण हो सकते हैं |
  • Red meat and burger can cause lower back pain
  • वानस्पतिक तेल (Vegitable Oil) |
  • ज्यादा वसा वाले उत्पाद |
  • ज्यादा फैट वाले डेरी उत्पाद भी इसका कारण बन सकते हैं |

कितने प्रकार का होता है कमर दर्द (Kamar Dard) ? (Types of lower back pain in Hindi)

Kamar Dard को हम तीन प्रकार के दर्द में बाँट सकते हैं (Normally back pain can be devided into three parts) :-

  • सामान्य या पुराना दर्द (Common or Chronic Pain) :- कमर दर्द जो सामान्य कारणों जैसे ज्यादा देर तक बैठे रहें से | सामान्य चोट लगने से | ज्यादा वजन उठा लेने से | और मांस पेशियों में खिंचाव आ जाने के कारण होता है | इसको सामान्य उपचार या व्यायाम करके या फिर पीठ पर मालिश करके ठीक किया जा सकता है |
  • तीव्र कमर दर्द (Acute Pain) :- गंभीर चोट लग जाने या अन्य कारणों (जैसे प्रेगनेंसी, बच्चा पैदा होते समय ) से Kamar में बहुत ज्यादा दर्द होना | यह दर्द 6 महीने तक रह सकता है |
  • न्युरोपैथिक दर्द या तंत्रिका तंत्र के कारण होने वाला दर्द :- ऐसे Kamar Dard का कोई स्पष्ट कारण नही पता चलता | मांस पेशियों में किसी प्रकार की क्षति न होने के बावजूद भी वो मस्तिष्क को दर्द का संकेत भेजती हैं |

क्या है ” कमर दर्द ” का इलाज ? How to cure Lower Back Pain

सामान्य कमर दर्द आसानी से ठीक हो जाता है | इसे सामान्य व्यायाम या गर्म तेल से मालिश करके ठीक किया जा सकता है | लेकिन असामान्य परिस्थितियों में (जैसे तंत्रिका तंत्र में खराबी से उत्पन्न Kamar Dard) इसका उचित समय पर सही तरीके से उपचार करना बहुत आवश्यक है |

सबसे पहले तो हमें ये जान लेना जरुरी है कि हमें क्या उपाय करने चाहिए की हमें Kamar dard (कमर दर्द) हो ही न

  • उचित पोषण वाला खान पान अपनाये |
  • ज्यादा वसा या फैट वाला भोजन जैसे बर्गर, लाल मांस एवं वनस्पति तेल आदि से बचना चाहिए |
  • योग एवं व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिसा बनाये |
  • अधिक समय तक कुर्सी पर बैठे रहने से बचे |
  • मोटापा कमर दर्द की मुख्य वजह है |
  • ज्यादा वजन उठाने से बचे उठा भी रहें है तो ध्यान रखे की आपको झटका न लगे |
  • रोज रोज होने वाले सामान्य कमर दर्द को अनदेखा न करें |
  • सीढियों पर चढ़ते समय ध्यान रखें |
  • खेलते समय कमर पर चोट लगने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है, इसका ध्यान रखें |
  • आपके बैठेने एवं सोने का ढंग सही होना चाहिए |

जानें आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से कमर दर्द का इलाज (Ayurvedic Medicine for back pain)

आयुर्वेद विश्व की सबसे पुरानी चिकित्सा पद्धति है | संभवतः हर रोग का इलाज इसकी सहायता से किया जा सकता है | हमारे आयुर्वेदाचार्यों ने जड़ी बूटियों का ऐसा खजाना हमें दिया है | जिस से सभी रोगों का इलाज बड़ी आसानी से संभव है | आज हम बात करेंगे उन जड़ी बूटियों की जो कमर दर्द में रामबाण साबित होती हैं | इन जड़ी बूटियों का सेवन करके या इनका तेल बना कर लगाने से पीठ दर्द में काफी राहत मिलती है |

इन जड़ी बूटियों से हो सकता है कमर दर्द का इलाज (List of Herbs used in Lower back Pain)

1. अश्वगंधा (Withania Somnifera) से कमर दर्द को भगाएं |

  • Ashwagandha (Withania Somnifera) का आयुर्वेद में बहुत महत्व है |
  • इसमें बहुत सारे औषधीय गुण होते है |
  • जिसके कारण इसका उपयोग भिन्न भिन्न रोगों की दवा बनाने में किया जाता है |
  • यह हमारे तंत्रिका तंत्र को दर्द का संकेत (Signal) दिमाग तक भेजने से रोकता है |
  • जिस से कमर दर्द में राहत मिलती है |
  • इसके अलावा इसमें ऐसे गुण होते है जिस से सुजन (Anti Inflammatory Properties) कम होता है |
  • सुजन कम करके Kamar Dard को ठीक किया जा सकता है |
  • यह आर्थराइटिस जैसे रोग में बहुत कारगर औषधि है |
  • महिलाओं में प्रसूति के बाद होने वाले कमर दर्द के लिए
  • 4 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण में घी मिश्री 1 ग्राम सोंठ मिला कर देने से तुरंत राहत मिलती है |

2. चक्रमर्द स्त्रियो में कमर दर्द (Kamar Dard) की रामबाण औषधी |

  • स्त्रियों को कमर दर्द की परेशानी पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती है |
  • मासिक धर्म के समय |
  • प्रसव से पहले एवं प्रसूति के बाद कमर दर्द होना सामान्य है |
  • चक्रमर्द (Cassia Obtusifolia) जिसे स्थानीय भाषा में पवाड़ के नाम से भी जाना जाता है |
  • स्त्रियों में कमर दर्द की रामबाण औषधि है |
  • इसके बीजों को गुड़ के साथ मिलाकर उसके लड्डू बना ले |
  • इनको खिलाने से कमर दर्द (lower back pain or back pain) में राहत मिलती है |

It can be used similarly in Joint pain.

3. चन्द्रशूर (Lepidium sativum) से कैसे करें पीठ दर्द का इलाज (another useful herb in back pain) |

चन्द्रिका या चन्द्रशूर के बीज बहुत काम के होते हैं | इनका उपयोग बहुत से रोगों के उपचार के लिए किया जाता है | कमर के दर्द में इसके चूर्ण को निम्बू के साथ मिलाकर उसका लेप बना कर लगाने से तुरंत राहत मिलती है | महिलाओं में Kamar Dard के इलाज के लिए | इसके बीजों के चूर्ण को क्षीर पाक बना कर खिलाने से दर्द कम होता है |

4. रसोन का कंद एवं तेल दर्द (Kamar Dard) की लाजवाब औषधि |

रसोन (Allium Sativum) Liliaceae कुल का पौधा है | इसे जंगली लहसुन भी कहते हैं | कमर दर्द में इसके तेल से मालिश करने पर काफी रहत महसूस होती है | स्त्रीयों में कमर में दर्द होने पर इसके कंद का चूर्ण सेवन करना चाहिए |

कमर दर्द ठीक करने के लिए करें इन आयुर्वेदिक तेल का उपयोग | (Ayurvedic and Herbal Oil for Lower Back Pain)

  • अश्वगंधा तेल (Ashwagandha Oil) :- आपने ऊपर पढ़ा की अश्वगंधा पीठ दर्द में काम आता है | अश्वगंधा तेल वात दोष को ठीक करता है | इसका उपयोग तंत्रिका तंत्र एवं मांस पेशियों में खिंचाव की वजह से होने वाले दर्द में बहुत कारगर रहता है |
  • महानारायण तेल (Mahanarayan Oil) :- यह आयुर्वेद में वर्णित पारंपरिक आयुर्वेदिक तेल है | इसका उपयोग जोड़ो में दर्द एवं कमर दर्द में किया जाता है | ये शरीर में रक्त संचार बढाता है और उत्तको में तनाव को दूर करता है |
  • कर्पुरादी तेल (Karpooradi Oil) :- कर्पुरादी तेल को गर्म करके दर्द वाली जगह पर मालिश करनी चाहिए | इस से Kamar dard में आराम मिलता है |
  • धन्वतरम तेल (Dhanvantarm Oil):- धन्वतरम तेल की मालिश करनी चाहिए | इस तेल में रक्त संचार बढाने वाले गुण होते हैं | यह आर्थराइटिस में बहुत गुणकारी होता है |
  • सरसों का तेल (Mustard Oil) :- सरसों का तेल हमारे घरों में आसानी से उपलब्ध हो जाता है | सरसों के तेल को गर्म करके उसकी मालिश करनी चाहिए |
कमर दर्द के तेल Kamar Dard Oil
कमर दर्द के तेल

कटी बस्ती उपचार (Kati basti Can also Treat back pain) से भी संभव है Kamar Dard का इलाज

आयुर्वेद में दर्द निवारण के बहुत से तरीके प्रचलित हैं | इनमे कटी बस्ती सबसे ज्यादा विश्वसनीय और प्रसिद्ध उपचार है | अगर कोई आपको बताये कटी बस्ती (Kati Basti) के बाद वह भूल गया की उसको कमर दर्द (Kamar Dard) भी था | तो आपको अचंभित नही होना चाहिए | इस आयुर्वेदिक उपचार से गंभीर से गंभीर दर्द से भी छुटकारा पाया जा सकता है |

कमर दर्द का कटी बस्ती से इलाज
कमर दर्द का इलाज

क्या है कटी बस्ती उपचार ? (What is Kati Basti Treatment ?)

कटी बस्ती कमर दर्द को ठीक करने का एक आयुर्वेदिक उपचार है | यहाँ कटी मतलब कमर का निचला हिस्सा है | बस्ती किसी चीज को एकत्र करने के लिए बनाई गयी जगह होती है | कटी बस्ती में व्यक्ति की कमर के निचले हिस्से में उड़द दाल के आटे से एक जगह तैयार की जाती है | जहा पर तेल भरा जा सके |

  • इसमें सबसे पहले रोगी को तैयार किया जाता है |
  • उसे उल्टा लेटा कर कमर के जिस हिस्से में दर्द होता है |
  • वहां पर उड़द की दाल के आटे वह पर एक हिस्सा तैयार किया जाता है |
  • जिसे आप ऊपर दी गयी तस्वीर में देख सकते हैं |
  • अब औषधीय गुणों वाले तेल को पानी में रख कर गर्म किया जाता है |
  • गर्म हो जाने के बाद | इस तेल को कमर पर तैयार हिस्से में भर दिया जाता है |
  • फिर इस तेल को कुछ समय बाद निकाला जाता है |
  • यह प्रक्रिया कई बार दोहरायी जाती है |
  • इस तरह से कटी बस्ती करवाने से Kamar Dard जड़ से ख़त्म हो जाता है |

योग एवं व्यायाम से हो सकता है Kamar dard का उपचार | ( Lower Back Pain treatment and relief by Yoga)

दोस्तों योग और व्यायाम के हमारे जीवन में बहुत अच्छे परिणाम होते है| योग न केवल उपयोगी है बल्कि इससे समस्या से छुटकारा भी मिलता है | स्वस्थ जीवन के लिए योग एवं प्राणायाम करना बहुत जरुरी है | इस से हमारा शरीर, दिमाग एवं मन स्वस्थ रहता है | बहुत सारे ऐसे आसन हैं | जिनकी सहायता से हम कमर दर्द से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं | आइये जानते हैं उन आसनों के बारे में जो कमर दर्द में लाभदायी होते हैं |

कमर दर्द का उपचार योग से स्वदेशी उपचार
योग से कमर दर्द ठीक करें

In addition to treat back pain Yoga is also useful in all kind of joint pain.

जाने योग द्वारा जीवन जीने की कला

योगासन (Yoga and Exercise both are also useful in lower back pain and joint pain)

  • सूर्य नमस्कार (Surya Namaskar) :- सूर्य नमस्कार सम्पूर्ण शरीर के लीये योगासन है | इस से जोड़ो में खिंचाव, उत्तको में शिथिलता जैसी समस्या नही होती | रोजाना सूर्य नमस्कार करने से कमर दर्द की समस्या नही होगी |
  • भुजंगासन (Cobra Pose) :- यह कमर दर्द के लिए सबसे अच्छा और (and) आसान योग है | इस आसन में दोनों हाथो को सीधा करके कमर को ऊपर की तरफ मोड़ ते है | इसमें Kamar dard (or back pain) में तुरंत रहत मिलती है |
  • धनुरासन (Dhanurasan) :- धनुरासन भी कमर दर्द (Kamar Dard and back Pain) के लिए उपयोगी आसन है | इसमें शरीर को धनुष के जैसे आकार में मोड़ कर आसन करते हैं | धनुरासन से न केवल पीठ को आराम मिलता है| बल्कि मांस पेशिया मजबूत भी होती हैं |
  • बालासन (Balasan) :- यह न केवल आराम देता है | बल्कि इसे आप आसानी से कर भी सकते हैं | इसमें घुटनों के बल बैठ जाएँ | फिर गहरी साँस लेकर |अपने हाथों को आगे की तरफ फैला कर निचे झुक जाएँ | इस आसन से कमर दर्द ठीक हो जाता है |
  • उत्तानासन (Uttanasan) :- ये आसन भी आसानी से किया जा सकता है (this pose is also simple) | इसमें सबसे पहले सीधे खड़े हो जाये और अब निचे झुक जाएँ | और दोनों हाथों से अपने टकनो को पकड़ कर | अपनी दोनों एडियो को ऊपर उठा दे | इस से कमर दर्द में आराम मिलता है |

कटीशूल (कमर) दर्द को ठीक करने के लिए, इस लेख में दी गयी जानकारी उपयोगी लगे |तो हमें कमेंट करके जरुर बताये | आप अपनी राय भी यहाँ पर दे सकते हैं |

धन्यवाद

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      +918000733602
      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0