पुरुषों की सभी समस्याओं का समाधान (लिंग समस्या, ढीलापन, नसों की कमजोरी)

हमारा शरीर एक जैविक मशीन की तरह है, जिस तरह से मशीन की अगर सही तरीके से देखभाल नहीं की जाये उसके सभी पार्ट्स की सर्विसिंग समय पर न हो तो जल्द ही ख़राब हो जाती है | इसी तरह हमारा शरीर भी है अगर समय पर उचित देखभाल की जाये तो शरीर स्वस्थ रहेगा और बीमारियाँ भी कम होंगी | शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिनचर्या, खान पान, आराम, योग व्यायाम, निंद, पथ्य अपथ्य का पालन करना बहुत जरुरी है और अंत में अगर रोग हो जाये तो उचित दवा एवं उपचार को अपनाना चाहिए |

इस लेख में हम पुरुषों की होने वाली समस्याओं के बारे में चर्चा करेंगे | वर्तमान समय में चिकित्सा के क्षेत्र इतनी उन्नति के बावजूद बीमारियाँ बढती ही जा रही हैं और इसका सबसे बड़ा कारण है भागदौड़ भरी जिंदगी, अनुचित दिनचर्या, विकृत कार्यशैली एवं खान पान में बदलाव | पुरुषों की बात करें तो यौन समस्याएं, थकान एवं तनाव जैसी समस्याएं आधुनिक समय में आम हो गयी हैं | लिंग की समस्या जैसे लिंग में तनाव न आना, शिथिलता, नसों में ढीलापन, जल्द स्खलन हो जाना आदि से बहुत से पुरुष परेशान रहते हैं |

लिंग की समस्या का समाधान

इन समस्याओं का समाधान आप सिर्फ दवाओ के सहारे से नहीं कर सकते | इसके लिए आपको अपनी दिनचर्या, खान पान, कार्यशैली, निंद, योग व्यायाम आदि सभी का ध्यान रखना पड़ेगा | अगर आप शुरू से ही इन बातों का ध्यान रखेंगे तो कभी आप लिंग की समस्या जैसी यौन कमजोरियों से ग्रसित ही नहीं होंगे |

लिंग समस्या को प्रभावित करने वाले कारक

ख़राब पाचन :- पाचन ख़राब होना सभी रोगों का मुख्य कारण है | अगर आपका पाचन ख़राब है तो शरीर को जरुरी रस रक्तादी अवयवों की पूर्ति नहीं होती और इस वजह से तमाम तरह की कमजोरियां आ जाती हैं | ख़राब पाचन के कारण मलावरोध, अतिसार जैसी समस्याएं भी हो जाती हैं जिनकी वजह से भी अनेको रोग जन्म लेते हैं | लिंग की समस्या में ख़राब पाचन प्रमुख कारण होता है |

अनुचित दिनचर्या :- स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ दिनचर्या का पालन करना बहुत जरुरी है | समय पर सोना, समय पर उठाना, समय पर खाना आदि का ध्यान रखना बहुत आवश्यक होता है | लिंग समस्या का समाधान या उपचार करने के लिए एक स्वस्थ दिनचर्या का पालन जरुर करें |

प्रयाप्त निंद :- निंद और आराम हमारे जीवन का एक अहम पहलु है | पर्याप्त निंद और आराम नही लेने पर मानसिक और शारीरिक थकान होती है एवं अनेको रोग भी इससे हो जाते हैं | यौन समस्याओं से बचने के लिए उचित आराम अवश्य करें |

पथ्य अपथ्य :- पथ्य अपथ्य का पालन करना आयुर्वेद में बहुत जरुरी बताया गया है | शरीर की प्रकृति को ध्यान में रखकर उसके अनुसार खान पान एवं दिनचर्या अपनायी जाए तो रोगों से दूर रहने में सहायता मिलती है | लिंग समस्या का समाधान पथ्य अपथ्य अपनाकर किया जा सकता है |

योग व्यायाम :- योग और व्यायाम शारीरिक और मानसिक स्वस्थता के लिए बहुत जरुरी है | नित्य योग व्यायाम करने से रोग हमेशा दूर रहते हैं और शरीर स्वस्थ रहता है | योग से जननांगो को भी ताक़त मिलती है इसलिए लिंग की समस्या में योग व्यायाम जरुर करना चाहिए |

वाजीकरण :- आयुर्वेद में वाजीकरण में पुरुषों को होने वाली कमजोरियों एवं इससे निजात पाने के तरीको के बारे में विस्तृत रूप से बताया गया है | इनको अपनाकर सभी यौन समस्याओं जैसे लिंग का ढीलापन, उत्तेजना में कमी, शीघ्रपतन आदि को ठीक किया जा सकता है |

लिंग समस्या का समाधान कैसे करें ?

किसी भी समस्या का समाधान करने से पहले उस समस्या को पहचान लेना जरुरी होता है | पुरुषों को होने वाली यौन समस्या निम्न प्रकार होती हैं :-

पुरुषों को उपरोक्त बताई गयी लिंग की समस्या होती रहती हैं | इन समस्याओं से बचने के लिए स्वस्थ दिनचर्या, खान पान और स्वास्थ्य से जुडी सभी बातों का ध्यान रखना चाहिए |

लिंग समस्या का समाधान करने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखें :-

  • अपना पाचन सही रखें |
  • नशे से दूर रहें |
  • अत्यधिक मिर्च मसाला एवं खटाई वाले खान पान से परहेज रखें |
  • डायबिटीज हाई बीपी जैसे लाइफस्टाइल रोगों से दूर रहें |
  • नित्य योग व्यायाम करें |
  • अत्यधिक हस्तमैथुन से बचें |
  • सादा और पौष्टिक भोजन करें |
  • वियाग्रा जैसे ड्रग्स से दूर रहें |
  • मानसिक तनाव से दूर रहें |
  • रात में देर तक न जागें |
  • प्रयाप्त नींद और आराम करें |
  • जननेद्रियों को साफ रखें |

अगर लिंग समस्या हो जाये तो इन आयुर्वेद दवाओ का चिकित्सक की सलाह से उपयोग करें :-

  • लिंग में उत्तेजना की कमी होने पर – कामसुधा योग, व्रह्नी गुटिका, मूसली पाक, वंगेश्वर रस, कामदेव चूर्ण
  • नसों में ढीलापन हो तो – श्री गोपाल तेल, कामसुधा योग, कामेश्वर मोदक
  • कामेच्छा में कमी – कामाग्नि संदीपन रस, कौंच पाक, मुसली पाक
  • थकान एवं जोश की कमी – अश्वगंधा अवलेह, बादाम पाक, कामसुधा योग
  • वीर्य विकार – धातुपौष्टिक चूर्ण, शतावार्यादी चूर्ण, वीर्यस्तंभन वटी
  • शीघ्रपतन – महास्तंभन वटी, कामसुधा योग, चंदनासव, वंग भस्म

पुरुषों में लिंग की कोई भी समस्या होने पर निम्न बातों से हमेशा दूर रहें :-

  • अत्यधिक नशा न करें |
  • वियाग्रा जैसे हानिकारक ड्रग्स से दूर रहें |
  • वजन न बढ़ने दे |
  • डायबिटीज एवं बीपी को कण्ट्रोल रखें |
  • रात में देर तक न जागें |
  • मानसिक तनाव बिलकुल न लें |
  • अत्यधिक हस्तमैथुन न करें |
  • अश्लील साहित्य से दूर रहें |
  • आत्मविश्वास न खोएं |

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published.