Sperm Count (शुक्राणु) बढाने की आयुर्वेदिक दवा | सेवन की विधि

Sperm Count बढाने की आयुर्वेदिक दवा : शुक्राणुओं की संख्या कम होना बाँझपन का एक बड़ा कारण है | एक शोध के अनुसार 40% मामलों में बांझपन का कारण पुरुषों में होने वाले शुक्रदोष होते हैं और इनमे सबसे अधिक मामले शुक्राणुओं की संख्या कम होने के होते हैं | इसके अलावा शुक्र की गुणवता में कमी, अगतिशिलता, यौन कमजोरी आदि कारण भी इससे जुड़े होते हैं | Sperm Count बढाने के लिए आयुर्वेद में बहुत सी दवाओं का वर्णन किया गया है लेकिन इन दवाओं का फायदा तभी होता है जब उचित खान पान, परहेज एवं अनुपान के साथ इनका सेवन किया जाये |

इस लेख में हम आपको Sperm Count बढ़ाने के लिए आयुर्वेद की कौनसी दवा सबसे अच्छी है, इन दवाओं का इस्तेमाल कैसे किया जाये, क्या क्या परहेज रखने चाहिए एवं खान पान कैसा होना चाहिए जैसे आपके सारे सवालों का जवाब देने का प्रयास करेंगे |

Sperm count बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाओं के नाम, गुण एवं उपयोग

Low Sperm Count या शुक्र क्षीणता एक ऐसी अवस्था है जिसमे या तो शुक्र का उत्पादन बहुत कम होता है या किसी दोष के कारण शुक्र नष्ट हो जाता है | इस वजह से शुक्राणुओं की संख्या कम हो जाती है जिससे बहुत सी समस्याएं हो जाती हैं जिसमें सबसे ज्यादा बाँझपन की समस्या है | पुरुष की इस कमजोरी की वजह से मादा को गर्भधारण करा पाने में असमर्थ होता है |

आयुर्वेद में शुक्राणुओं की संख्या बढाने के लिए अनेकों दवाओं का वर्णन है | हम यहाँ पर उनमे से असरदार दवाओं के बारे में यहाँ बताएँगे | तो आइये जानते हैं कुछ बेहतरीन आयुर्वेदिक औषधियां जिनका उपयोग sperm count बढाने के लिए बहुत लाभकारी सिद्ध होता है :-

  • धातु पौष्टिक चूर्ण :- यह एक शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक औषधि है | धातु पौष्टिक चूर्ण बलवर्धक एवं वीर्यवर्धक गुणों वाली दवा है | इसमें सफ़ेद मूसली, काली मूसली, सालम मिश्री जैसे घटक होते हैं जो शुक्रल एवं वीर्यवर्धक गुणों से युक्त हैं | स्पर्म काउंट कम होने पर इस दवा का उपयोग करना बहुत ही लाभकारी होता है | इसका उपयोग एक एक चम्मच सुबह शाम शहद या मिश्री मिले दूध को औटा कर करना चाहिए |
  • वानरी वटी / गुटिका :- वानरी वटी आयुर्वेद की शास्त्रोक्त दवा है | इसे बहुत कम फार्मसियाँ बनाती है | यह कौंच बीज, सुवर्ण माक्षिक भस्म, सुवर्ण शुतशेखर रस आदि औषधियों के योग से इसका निर्माण होता है | वानरी वटी मुख्य रूप से पुरुषों में होने वाले शुक्राणुओं की कमी को दूर करती है | यह यौन स्वास्थ्य को सुधारकर पुरुषों में बल एवं वीर्य की वर्द्धि करती है | वानरी वटी का इस्तमाल वैद्य के परामर्श से सुबह – शाम एक – एक वटी (गुटिका) दूध के साथ करना चाहिए |
  • मुसली पाक :- मुसली पाक भी आयुर्वेद की शास्त्रोक्त औषधि है | यह पाक विधि से बनने वाली स्वादिष्ट औषधि है | इसमें सफ़ेद मूसली, काली मूसली, गोखरू, तालमखाना, गाय का घी, गाय का दूध, हरीतकी, कौंच, खजूर, जायफल, तगर जैसी कुल 23 जड़ी -बूटियां पड़ती है | इसका प्रयोग पुरुषों की यौन कमजोरियों में प्रमुखता से किया जाता है | यह शरीर में शुक्र की वृद्धि करती है एवं मर्दाना ताकत को बरकरार रखने में अच्छी औषधि साबित होती है | वीर्य में शुक्राणुओं की कमी को दूर करने के लिए इसका प्रयोग प्रतिवर्ष शीत ऋतू में महीने भर इसका सेवन करना चाहिए |
  • छुहारा पाक :- पाक औषधियों में बल एवं वीर्य को बढ़ाने वाले गुण होते है | छुहारा पाक भी वीर्य व्रद्धी के लिए जाना जाता है | नियमित छुहारा पाक का इस्तेमाल दूध के साथ करने से वीर्य में आई शुक्राणुओं की कमी दूर होने लगती है | यह शरीर को बल एवं ओज प्रदान करती है | छुहारा पाक का सेवन 5 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ करना चाहिए |
  • अश्वगंधा पाक : – स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए अश्वगंधा पाक भी अति उत्तम बलवर्द्धक औषधि है | साथ ही यह मूत्र विकार, धातु रोग एवं वात – पित्त प्रधान रोगों में प्रयोग की जाती है | Low Sperm Count की समस्या को दूर करने के लिए अश्वगंधा पाक का सेवन वैद्य के परामर्श से किया जा सकता है | अश्वगंधा पाक में कुल 26 जड़ी – बूटियों एवं द्रव्यों का योग रहता है | इसका सेवन नित्य 5 ग्राम सुबह – शाम दूध के साथ किया जाता है |

ऊपर बताई गई सभी औषधियां आयुर्वेद की शास्त्रोक्त दवाएं है | अब हम आपको कुछ प्रोप्राइटरी आयुर्वेदिक दवाओं एवं उत्पादों के बारे में बता रहें है जो शुक्राणुओं को बढ़ाने में सहायक होती है |

स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक प्रोप्राइटरी उत्पाद / Ayurvedic Proprietary Products for Increase Sperm Count in Hindi

आयुर्वेद फार्मसियाँ बहुत से स्पर्म काउंट बढ़ाने के में सहयोगी उत्पाद बनाती है | इन दवाओं एवं उत्पादों के घटक आयुर्वेद की प्रचलित जड़ी – बूटियां होती है जो पुरुषों में वीर्य बढ़ाने का कार्य करती है | इन्ही जड़ी – बूटियों के एक विशिष्ट मिश्रण से इन दवाओं एवं उत्पादों का निर्माण होता है जो Sperm Count बढ़ाने में मदद करते है |

सुचना

यहाँ निचे बताई गई सभी दवाएं वैद्य के परामर्श से सेवन करनी चाहिए | क्योंकि रोग एवं रोगी की स्थिति भिन्न होती है | अत: एक दवा किसी रोगी के लिए लाभदायक हो सकती है और दुसरे रोगी के लिए लाभदायक नहीं भी हो सकती | अत: स्वयं से इन आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन न करें वैद्य से परामर्श लें एवं निर्देशित मात्रा में सेवन करें |

1. Sperm Count बढाने की आयुर्वेदिक दवा हिमालय की कॉन्फीडो टेबलेट्स

हिमालय कॉन्फीडो कैप्सूल

himalaya confido for sperm count

Sperm Count बढाने की आयुर्वेदिक दवा himalaya

  • स्पर्म काउंट को बढ़ाने एवं नपुंसकता को दूर करने में सहयोगी है |
  • पुरुषों में यौन स्वास्थ्य को सुधरती है |
  • जननांगो में रक्त प्रवाह को बढाती है |
  • इसमें गोखरू, अश्वगंधा, कौंच जैसी जड़ी – बूटियां है | जो यौन स्वास्थ्य को सुधारती है |
  • स्टैमिना को बढ़ाने में सहयोगी है |

2. कामसुधा योग शुक्राणुओं को बढ़ाने में सहयोगी उत्पाद

कामसुधा योग

स्तंभन दोष की आयुर्वेदिक दवा

Sperm Count बढ़ाने का हर्बल फार्मूलेशन

  • इरेक्टाइल समस्या एवं शुक्राणुओं की कमी में उपयोगी
  • सिद्ध मकरध्वज, समुद्रशोष, तालमखाना, अतिबला जैसी जड़ी बूटियों से निर्मित
  • यौनेच्छा की कमी को दूर करने में सहयोगी उत्पाद |
  • पुरुषों में यौन स्वास्थ्य को सुधारने एवं टेस्टरोन बढ़ाने में उपयोगी |
  • विगौर एवं स्टैमिना वर्द्धक

3. केरला आयुर्वेद अजाक्स कैप्सूल – Sperm Count बढाने की आयुर्वेदिक दवा

Ajax capsule

केरला आयुर्वेद की दवा

  • पुरुषों में स्टैमिना एवं विगौर बढ़ाने में उपयोगी
  • कुछ हद तक स्पर्म काउंट भी बढाती है |
  • यौन स्वास्थ्य को सुधारती है |
  • कौंच, अश्वगंधा, तालमुली जैसी जड़ी – बूटियों से निर्मित
  • नपुंसकता की समस्या में भी उपयोगी |

आपके लिए अन्य आयुर्वेदिक पोस्ट्स

अश्वगंधा के क्या फायदे है ?

शतावरी के क्या लाभ है ?

कौंच के स्वास्थ्य लाभ जानें |

तालमखाना क्या है एवं स्वास्थ्य लाभ ?

अतिबला के फायदे क्या है ?

धन्यवाद ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें ब्रह्म रसायन के फायदे चमत्कारिक आयुर्वेदिक औषधि

सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए अत्यंत लाभदायी औषध है | आयुर्वेद में इसे रसायन एवं वाजीकरण औषधियों में गिना जाता है

Open chat
Hello
Can We Help You