ayurveda, desi nuskhe, Uncategorized, जड़ी - बूटियां

अश्वगंधा – परिचय, औषधीय गुण, सेवन एवं नुकसान – Ashwagandha benefits in Hindi

अश्वगंधा

अश्वगंधा के फायदे / ashwagandha benefits in hindi

अश्वगंधा ( Withania somnifera ) का परिचय (updated on 29/10/2017)

भारत में समशीतोष्ण प्रदेशो में अश्वगंधा के पोधे अधिकतर मिलते है | राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश आदि राज्यों में अश्वगंधा बहुतायत से उगता है | अश्वगंधा का इस्तेमाल आयुर्वेद में प्रचुरता से होता है | इसके सेवन से दुर्बलता , कमजोरी, गठिया रोग ,नसों की दुर्बलता , सेक्स कमजोरी, धातु दुर्बलता आदि रोगों में चमत्कारिक लाभ प्राप्त होता है |

अश्वगंधा

स्त्रियों में अश्वगंधा के सेवन से स्तनपान के समय दूध को बढाता  है | सूतिका रोगों में भी इसका इस्तेमाल फायदेमंद होता है | इसके सेवन से महिलाओ में हार्मोन संतुलित होते है | प्रसव के बाद महिलाओ में शरीर में कमजोरी आ जाती है इसके सेवन से शरीर में स्फूर्ति और ताकत आती है |

आयुर्वेद में अश्वगंधा की जड़ का चूर्ण काम में लिया जाता है | इसकी जड़ में ( घोड़े ) अश्व के पसीने जैसी गंद आती है इसलिए इसे अश्वगंधा कहते है |

अश्वगंधा के गुण – धर्म

इसका रस कषाय , तिक्त और मधुर होता है | गुणों की द्रष्टि से यह लघु और स्निग्ध होती है , इसका वीर्य उष्ण होता है अर्थात यह शरीर में गर्मी पैदा करती है | पचने के बाद यह मधुर विपाक देती है | अपने इन्ही गुणों के कारण यह मांसक्षय , शोष, वात व्याधिया , शुक्र क्षय , शोथ , हृदय रोग, अनिद्रा, गलगंड, रसायन, बाजीकरण, बृहन और दीपन आदि रोगों में लाभकारी   होती है |

प्रयोज्य अंग एवं सेवन की मात्रा

औषध उपयोग में अश्वगंधा की जड़ो से बना चूर्ण या क्वाथ काम में लिए जाता है | इसे 3 से 6 ग्राम तक की मात्रा तक सेवन किया जा सकता है |

 

अश्वगंधा के विभिन्न रोगों में फायदे या स्वास्थ्य लाभ

  • गर्भावस्था के बाद  महिलाओ में अश्वगंधा का सेवन फायदेमंद होता है | प्रसवोतर  काल में महिलाओ को इसके सेवन की सलाह दी जाती है क्योकि यह उत्तम गर्भस्य शोधक होता है | जिन महिलाओ के स्तनों में दूध की कमी है उनको भी इसके सेवन से फायदा होता है | इसके सेवन से  सेवन से महिलाओ की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती  है और वे स्वास्थ रहती है |
  • बढती हुई उम्र को रोकने के लिए भी अश्वगंधा उपयोगी है | इसके सेवन से उम्र बढ़ने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है क्योकि यह एंटी एजिंग है और इसके तत्व उत्तको के पुन: निर्माण में सहयोग करते है इसलिए जो व्यक्ति  इसका सेवन करते है उनकी उम्र ठहरी से प्रतीत होती है |
  • कमजोर युवाओ के लिए यह एक अमृत टॉनिक है | जिन युवाओ की शारीरिक क्षमता कमजोर है उन्हें इसका इस्तेमाल करना चाहिए  | कृष शरीर वाले और  दुबले पतले व्यक्ति इससे मजबूत शरीर प्राप्त कर सकते है | 5 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण को रोज  रात को सोते समय हल्के गरम दूध के साथ महीने भर तक इस्तेमाल कर के आप बेह्तार् शारीर पा सकते है |
  • गठिया रोगियों के लिए भी यह एक उत्तम आयुर्वेदिक औषधि है | एक शोध के अनुसार इसका सेवन गठिया रोग में रहत देता है क्योकि वात व्याधियो में अश्वगंधा बेहतर परिणाम देता है |
  • मानसिक शांति में भी यह उपयोगी है | इसके तत्व दिमाग को शांत करने की क्षमता रखते है | वस्तुत: अश्वगंधा में स्टेरॉयड होता है जो प्राकृतिक स्टेरॉयड है और इसके सेवन से मन और दिमाग के संतुलन में लाभ पहुँचता है |
  • भारत में आज भी आदिवासी इलाको में  इसकी चाय बना कर पी जाती है | वैसे तो इसे एक प्रकार का क्वाथ परिकल्पना ही कह सकते है लेकिन इसके स्वास्थ्य लाभों के देखते हुए इसे चमत्कारिक चाय कहना कोई अतियोक्ति नहीं होगी |
  • शीघ्रपतन और नामर्दी वाले युवाओ के लिए अश्वगंधा एक अच्छी औषधि है | इसके सेवन से वीर्य की मात्रा में बढ़ोतरी होती है एवं शीघ्रपतन का रोग भी मिटता है |
  • इसके हरे पतों को पिस कर चेहरे पर लगाने से फोड़े- फुन्सिया नहीं होती | अगर शरीर पर कंही घाव है तो इसके पतों को शिला पर पिस ले और और लुग्दी को घाव पर बंधे जल्दी ही घाव भर जावेगा |
  • क्षय रोग में अश्वगंधा का सेवन फायदेमंद होता है | जिनको क्षय (टी बी ) का रोग है वे इसका इस्तेमाल शहद के साथ करे | इसके सेवन से शरीर में आयरन की पूर्ति होती है जिससे क्षय रोगों और अस्थमा आदि रोगों में लाभ मिलता है |
  • इसके सेवन से कैंसर का खतरा कम हो जाता है | एक शोध अनुसार इसमें कैंसर रोधी तत्व विद्यमान होते है जो शरीर को कैंसर से बचाते है |
  • महिलाओ के स्वेत प्रदर रोग में भी इसका सेवन लाभ देता है | नित्य अश्वगंधा सेवन से इससे छुटकारा पाया जा सकता है | इसमें आप चूर्ण या अश्वगंधारिष्ट उपयोग में ले सकते है |
  • इसका उपयोग कोलेस्ट्रोल को भी कम करता है अत: जिनको मधुमेह की समस्या है उनके लिए भी अश्वगंधा लाभकारी होता है | लेकिन मधुमेह में बैगर चिकित्सक के सलाह लिए इसका इस्तेमाल न करे |
  • अश्वगंधा के पतों का इस्तेमाल आप चेहरे की खूबसूरती बनाये रखने के लिए कर सकते है क्योकि इसके पतों को चहरे पर लगाने से फोड़े- फुन्सिया नहीं होते |


अश्वगंधा के सेवन से हो सकते ये नुकसान

फायदों के साथ साथ इसके कुच्छ नुकसान भी है | अगर अधिक मात्रा में या गलत तरीके से इसका इस्तेमाल किया जावे तो यह स्वास्थ्य पर उल्टा असर भी डालता है अत: हमेशा उपयोग से पहले अपने निजी चिकित्सक की राय जरुर ले | इसके अधिक सेवन से नींद में कमी , शरीर का तापमान बढ़ जाता है , पेट दर्द, गैस, बदहजमी, उल्टी आदि शिकायत हो सकती है | अगर आपकी कोई अन्य रोग की दवाइयां चल रही है तो इसका इस्तेमाल न करे | गर्भवती महिलाए भी इसका इस्तेमाल ना करे |

शिलाजीत सेवन के स्वास्थ्य लाभ / Health benefits of shilajit in hindi

यह पोस्ट भी आपके लिए जरुरी है

ये भी पढ़े – त्रिफला के स्वास्थ्य लाभ

धन्यवाद |

Avatar

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

2 thoughts on “अश्वगंधा – परिचय, औषधीय गुण, सेवन एवं नुकसान – Ashwagandha benefits in Hindi

  1. Avatar Pushkar sharma says:

    Ashwagandha ke bare me information dene ke liye thanks.

  2. Avatar Mukesh says:

    Thanks for providing authentic information about withania somnifera / ashwagandha.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.