क्रव्याद रस दीपन और पाचन की प्रसिद्ध औषधि है |

क्रव्याद रस पाचन शक्ति बढाने वाली प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है | आधुनिक समय में आहार विहार बहुत विकृत हो चूका है | इस आधुनिकता की चकाचोंध में हम न तो स्वस्थ दिनचर्या का पालन करते हैं और न ही पथ्य आहार का सेवन करते हैं | इस तरह की असंतुलित जीवन शैली के कारण आज अनेकों रोगों ने हमें घेर लिया है | अपच रहना, भूख ना लगना, गैस की समस्या, अम्लपित्त, अग्निमांध, अजीर्ण एवं जलोदर जैसे रोग आज आम बात है |

क्रव्याद रस
क्रव्याद रस

हमारा पाचन इतना ख़राब हो गया है की थोडा सा गरिष्ठ भोजन (देर से पचने वाला) कर लेने से पेट दर्द, गैस एव कब्ज जैसी समस्या हो जाती है | क्रव्याद रस इन सब परेशानियों को दूर करने की क्षमता रखता है | यह गरिष्ठ से गरिष्ठ भोजन को भी 6 घंटे में पचा देता है |

क्रव्याद रस बनाने की विधि एवं घटक द्रव्य :-

यह एक शास्त्रोक्त आयुर्वेदिक औषधि है | इसको बनाने के लिए निम्न घटक द्रव्यों या जड़ी बूटियों को उपयोग में लिया जाता है :-

  • ताम्र भस्म – २ तोला
  • लौह भस्म – २ तोला
  • शुद्ध टंकण (भूना सुहागा) – १६ तोला
  • काला नमक – ८ तोला
  • काली मिर्च – ४० तोला
  • शुद्ध पारा – ४ तोला
  • गंधक (शुद्ध) – ८ तोला
  • जम्बिरी निम्बू का रस – ४ सेर
  • पीपल, पिपलामुल, चव्य, सोंठ का क्वाथ – भावना देने के लिए
  • अम्लबेत क्वाथ (भावना देने के लिए)
  • चने के क्षार का पानी (भावना देने के लिए )

अब जानते हैं क्रव्याद रस को बनाने की विधि के बारे में :-

  • सबसे पहले पारा और गंधक की कज्जली बना लें |
  • इसमें लौह और ताम्र भस्म डालकर खूब अच्छी तरह घोंट लें |
  • इसको गला कर पर्पटी बना लें, इस पर्पटी का चूर्ण बना लें |
  • इस चूर्ण को लौहे के बर्तन में डाल कर ४ सेर जम्बिरी निम्बू का रस डाल दें |
  • अब इसे धीमी आंच पर पकाएं |
  • जब यह गाढ़ा हो जाये तो इसमें पीपल, चव्य, चित्रक, पिपलामुल एवं सोंठ के क्वाथ की ५० भावना दें |
  • इसके बाद अम्लबेत के क्वाथ की भी ५० भावना दें |
  • सुख जाने पर भूना हुवा सुहागा, काला नमक एवं काली मिर्च का चूर्ण मिला लें |
  • इस चूर्ण में अब चने के क्षार के पानी की ७ भावना देकर सुखा लें |
  • अब इसकी छोटी छोटी गोलियां बना लें |

जानें इसके फायदे एवं उपयोग के बारे में |

यह जठराग्नि बढाने वाला रसायन है | इसके सेवन से पाचन शक्ति दोगुणा हो जाती है | जब किसी भी दवा से खाना न पच रहा हो तो इस दवा का सेवन करना चाहिए | क्रव्याद रस गरिष्ठ भोजन को भी शीघ्रता से पचा देता है | आइये जानते हैं यह किन किन रोगों में फायदेमंद है :-

क्रव्याद रस के फायदे
क्रव्याद रस के फायदे
  • यह रस पाचक और अग्निदीपक है |
  • अपच एवं अजीर्ण की समस्या में बहुत लाभदायक है |
  • यह आम एवं कफ को पचा कर पित्त को सबल बनाता है |
  • यह जठराग्नि को प्रज्वलित करता है |
  • भूख बढाने के लिए भी यह उपयोगी है |
  • अजीर्ण एवं कब्ज की समस्या से कोष्ठ में मल संचय हो जाता है, इससे विष उत्पन्न होता है जिससे हैजा, पीलिया जैसे रोग हो जाते हैं | क्रव्याद रस संचित मल को बाहर निकाल देता है |
  • गृहणी एवं संग्रहणी जैसे भयानक रोगों में भी यह लाभदायक है |
  • पेट की वृद्धि (तोंद निकलना) को कम करता है |
  • अपच के कारण पेट में दर्द, गैस एवं कब्ज आदि की समस्या से छुटकारा दिलाता है |

क्रव्याद रस के सेवन की विधि

इसकी दो से चार गोली सेंधा नमक मिली हुई छाछ, निम्बू के रस या पानी के साथ सेवन करना चाहिए | इसका सेवन खाना खाने के बाद (भोजनोत्तर) करना चाहिए |

सावधानियां :-

क्रव्याद रस का सेवन करते समय दूध मलाई एवं फलो का अत्यधिक सेवन करना चाहिए | इसका सेवन हमेशा चिकित्सक की सलाह से ही करना चाहिए एवं बताई गयी मात्रा में ही सेवन करें |

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *