स्मृतिसागर रस से बढ़ाएं दिमाग की शक्ति, जानें क्या हैं फायदे ?

स्मृतिसागर रस स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए परमुपयोगी रसायन है | मष्तिष्क की कमजोरी से होने वाले रोग जैसे हिस्टीरिया, मूर्छा, उन्माद एवं मिर्गी में इस औषधि का सेवन बहुत लाभ देता है |

स्मृतिसागर रस के फायदे
स्मृतिसागर रस के फायदे

मानसिक कमजोरी होने के कारण निम्न कमजोरियां या रोग उत्पन्न हो सकते हैं :-

  • किसी काम में मन नहीं लगना या उन्माद की स्थिति हो जाना |
  • भूल पर भूल होना या जरुरी काम भूल जाना |
  • आलस्य होना, नींद नहीं आना या ज्यादा नींद आना |
  • मनोविभ्रम हो जाना |
  • मानसिक असंतुलन हो जाना |
  • अत्यधिक गुसा आना |
  • हिस्टीरिया, उन्मांद, मूर्छा एवं मिर्गी जैसे रोग हो जाना |

उपर बतायी गयी समस्या निम्न कारणों से हो सकती हैं :-

  • मानसिक कमजोरी या तनाव की वजह से |
  • अत्यधिक शराब, गांजा भांग आदि का सेवन करने से |
  • माथे पर चोट लगने की वजह से |
  • किसी दुःख, शोक या चिंता के कारण |
  • अत्यधिक तनावपूर्ण एवं अनुचित दिनचर्या के कारण |
  • मस्तिष्क में किसी प्रकार की विकृति के कारण |
  • कुपोषण की वजह से |

स्मृतिसागर रस क्या है, बनाने की विधि एवं घटक द्रव्य |

यह बहुत ही गुणकारी औषधि है जिसका निर्माण पारा, गंधक, हरताल एवं मैनशील जैसे द्रव्यों के योग से किया जाता है | स्मृतिसागर रस का उपयोग मुख्यतः मानसिक रोगों में किया जाता है | इसके अलावा इसका उपयोग स्मरण शक्ति बढाने एवं बच्चों के धनुष्टन्कार रोग में भी किया जाता है | आइये जानते हैं इसके घटक द्रव्य क्या क्या हैं :-

  • शुद्ध पारद एवं गंधक |
  • ताम्र भस्म एवं स्वर्णमाक्षिक भस्म |
  • शुद्ध मैनशील व शुद्ध हरताल |
  • बच क्वाथ एवं ब्राह्मी क्वाथ |
  • माल्काग्नी तेल |

बनाने की विधि :-

स्मृतिसागर रस बनाने के लिए सबसे पहले पारा एवं गंधक की कज्जली बनायीं जाती है | अब इस कज्जली में अन्य औषधियां मिला ली जाती हैं | फिर इस मिश्रण को बच के क्वाथ की २१ भावना दी जाती है | अब ब्राम्ही क्वाथ के भी २१ भावना देनी होती है | इसके बाद मल्काग्नी तेल की १ भावना देकर छोटी छोटी गोलियां बना ली जाती हैं | अब इन गोलियों को छायाँ में सुखा लें |

स्मृतिसागर रस से हिस्टीरिया का इलाज
स्मृतिसागर रस से हिस्टीरिया का इलाज

सेवन कैसे करें:-

सुबह शाम एक एक गोली गाय के देशी घी के साथ या दूध में ब्राह्मी घृत मिलाकर उसके साथ सेवन करें |

जाने दिमाग को तेज बनाने वाली जड़ी बूटियों के बारे में |

स्मृतिसागर रस के फायदे एवं उपयोग के बारे में जाने |

यह रसायन स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए अत्यंत उपयोगी है | दिमाग से जुडी कमजोरियों एवं रोगों को ठीक करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है | आइये जानते हैं स्मृति सागर रस के फायदे एवं उपयोग क्या हैं :-

  • बच्चों को धनुष्टन्कार रोग पाया जाता है, जिसके कारण उन्हें बार बार दौरा पड़ना, बेहोशी हो जाना एवं अन्य शारीरिक एवं मानसिक विकार हो जाते हैं | इस रोग में यह औषधि बहुत उपयोगी होती है | इससे प्रकुपित वाट शांत हो जाती है एवं रोग ठीक हो जाता है |
  • हिस्टीरिया (गर्भाशयोंमाद) रोग मुख्यतः जवान लडकियों को होता है | इसका कारण सम्भोग इच्छा की तृप्ति नहीं होना, अधिक चंचलता, दुःख एवं उन्माद आदि हो सकता है | इस अवस्था में स्मृति सागर रस का उपयोग करने से अच्छा लाभ होता है |
  • अत्यधिक शराब, भांग, गांजा आदि के उपयोग के कारण उत्पन्न उन्माद आदि में इस दवा से बहुत लाभ होता है |
  • पित्त अस्थिर हो जाने के कारण भी मानसिक असंतुलन हो जाता है | यह रसायन इस रोग में बहुत फायदेमंद होता है |
  • उन्माद रोग में स्मृति सागर रस के साथ सर्पगंधा चूर्ण का उपयोग करने से शीघ्र लाभ मिलता है |
  • ठंडी हवा लगने, गिले वस्त्र ज्यादा समय तक पहनने आदि से किसी अंग में आक्षेप उप्पन्न हो जाता है या विकृति आ जाती है |
  • वात प्रकुपित हो जाने से भी शरीर के एक भाग के अंग को विकृत कर देती है |
  • स्मृति सागर रस प्रकुपित वात को ठीक कर देता है |
  • यादाश्त बढाने के लिए भी यह बहुत उपयोगी है |
  • इसके सेवन से ज्ञान वाहिनी नाड़ियो को बल मिलता है |

नुकसान एवं सावधानियां :-

मानसिक रोगी का इलाज बहुत ही सावधानी पूर्वक करने की आवशयकता होती है | अतः उन्माद, हिस्टीरिया, क्षोभ एवं मिर्गी जैसे रोगों के इलाज के लिए चिकित्सक के पास ही जाना चाहिए एवं बताये गए निर्देशों का पालन करना चाहिए |

धन्यवाद !

हमारे अन्य उपयोगी लेख :-

  1. रोगानुसार जड़ी बूटियों की सूचि |
  2. छाछ या मट्ठा के स्वास्थ्य लाभ |
  3. पंचामृत पर्पटी के गुण एवं उपयोग |
  4. टाइफाइड का आयुर्वेदिक उपचार |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You