छाछ (मट्ठा) के स्वास्थ्य लाभ एवं रोगानुसार उपयोग |

Deal Score0
Deal Score0

बेहद स्वादिष्ट एवं स्वास्थ्यवर्धक पेय है छाछ | भारतवर्ष में छाछ का बहुत महत्व है, विशेषकर उत्तर भारत में | इसे अंग्रेजी में इंडियन बटरमिल्क भी बोला जाता है | आप सभी जानते हैं की छाछ पिने से तृप्ति का एहसास होता है एवं गर्मियों में इसका उपयोग बहुत फायदेमंद होता है | लेकिन इस लेख में हम आज आपको छाछ (मट्ठा) के कुछ ऐसे औषधीय गुण बतायेंगे जिन्हें जानकर आपको हैरानी होगी |

Chhach
छाछ (मट्ठा)

छाछ क्या है एवं इसे कैसे बनाते है ?

मट्ठा बनाने के लिए दही को मथनी से मथकर उसमे से मक्खन निकाल लिया जाता है | इस तरह से बना तरल पदार्थ छाछ कहलाता है | यह शीघ्र पचने वाला, भूख बढाने वाला, रूचिकर एवं स्वास्थ्य वर्धक स्वादिष्ट पेय है | ध्यान रखें पारंपरिक तरीके से दही को मथनी से मथ बनाई गयी छाछ ही गुणकारी होती है | आजकल बाजार में दूध के क्णिवन से बनी छाछ उपलब्ध है | यह ज्यादा गुणकारी नहीं होती है |

मट्ठा (छाछ) के औषधीय गुण एवं स्वास्थ्य लाभ |

यूँ तो आप सभी जानते हैं की मट्ठा का सेवन करने से शरीर को ठंडक मिलती है | इसलिए अधिकांश गर्मियों में इसका उपयोग ज्यादा किया जाता है | लेकिन आयुर्वेदानुसार इसमें बहुत अनमोल औषधीय गुण होते हैं और इसको पिने से बहुत से रोगों में लाभ मिलता है |

भोजनांते पिबेत्त तक्र, दिनान्ते च पिबेत पयः | निशान्ते पिबेत वारि: दोषों जायते कदाचनः |

यानि सुबह पानी, दोपहर में खाने के बाद छाछ एवं शाम को दूध पिने से शरीर दोषमुक्त रहता है |

मट्ठा के स्वास्थ्य लाभ एवं उपयोग :-

  • खाने में रूचि पैदा करता है |
  • पचने में हल्का होता है एवं मल मूत्र को साफ़ करता है |
  • पीलिया रोग में बहुत लाभदायी है |
  • भूख बढाता है |
  • बवासीर रोग में बहुत फायदेमंद है |
  • मधुमेह में छाछ पिने से फायदा होता है |
  • गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने के लिए उत्तम पेय है |
  • उदर विकारो में लाभप्रद है |
  • आँखों के लिए अमृत समान पेय है |
  • कफ एवं ज्वर रोग में भी इसका उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है |

मधुमेह को कैसे रखे अपने से दूर: जानने के लिए पढ़ें ले लेख |

रोगानुसार कैसे उपयोग करें ?

सामान्यतः छाछ का सेवन करने से शरीर स्वस्थ एवं दोषमुक्त रहता है | लेकिन आयुर्वेदानुसार विभिन्न रोगों एवं स्वास्थ्य लाभ के लिए इसका सेवन अलग अलग तरीके से एवं अन्य चीजो के साथ करना बताया गया है | आइये जानते है रोगानुसार छाछ (मट्ठा) का सेवन कैसे करें :-

  1. गर्मी से राहत के लिए :- सेंधा नमक एवं भुना हुवा जीरा मिलाकर सेवन करें |
  2. पीलिया रोग में : मट्ठा में चित्रक चूर्ण मिलाकर पियें |
  3. बवासीर में :- सेंधा नमक मिलाकर उपयोग करें |
  4. वात विकार में :- सेंधा नमक एवं जीरा मिलाकर सेवन करें |
  5. कफ विकार में :- पीपल, सोंठ, सेंधा नमक एवं काली मिर्च के साथ सेवन करें |
  6. पित्त विकार में :- शक्कर मिलाकर मट्ठा पियें |
  7. गृहणी रोग में :- अन्न का त्याग कर खाने पिने में मट्ठे का प्रयोग करें |

और पढ़ें :- बवासीर का रामबण इलाज !

सावधानियां एवं दुष्प्रभाव |

यूँ तो यह बहुत ही स्वादिष्ट एवं गुणकारी पेय है लेकिन कुछ सावधानियां भी जरुरी हैं |

  • रात के समय छाछ का सेवन ना करें |
  • हमेशा ताजा मट्ठे का ही उपयोग करें |
  • अगर सर्दी जुखाम हो तो इसका सेवन सोंठ, पीपल एवं काली मिर्च मिलाकर ही करें |
  • गठिया रोग में इसका सेवन ना करें |
  • फ्रीज में ठंडी की हुई छाछ का सेवन न करें |
  • बाजार में मिलने वाली छाछ की बजाय घर पर मथनी से बनी ज्यादा फायदेमंद होती है |

यह भी पढ़ें :- पीलिया का आयुर्वेदिक उपचार

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      +918000733602
      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0