छाछ (मट्ठा) के स्वास्थ्य लाभ एवं रोगानुसार उपयोग |

बेहद स्वादिष्ट एवं स्वास्थ्यवर्धक पेय है छाछ | भारतवर्ष में छाछ का बहुत महत्व है, विशेषकर उत्तर भारत में | इसे अंग्रेजी में इंडियन बटरमिल्क भी बोला जाता है | आप सभी जानते हैं की छाछ पिने से तृप्ति का एहसास होता है एवं गर्मियों में इसका उपयोग बहुत फायदेमंद होता है | लेकिन इस लेख में हम आज आपको छाछ (मट्ठा) के कुछ ऐसे औषधीय गुण बतायेंगे जिन्हें जानकर आपको हैरानी होगी |

Chhach
छाछ (मट्ठा)

छाछ क्या है एवं इसे कैसे बनाते है ?

मट्ठा बनाने के लिए दही को मथनी से मथकर उसमे से मक्खन निकाल लिया जाता है | इस तरह से बना तरल पदार्थ छाछ कहलाता है | यह शीघ्र पचने वाला, भूख बढाने वाला, रूचिकर एवं स्वास्थ्य वर्धक स्वादिष्ट पेय है | ध्यान रखें पारंपरिक तरीके से दही को मथनी से मथ बनाई गयी छाछ ही गुणकारी होती है | आजकल बाजार में दूध के क्णिवन से बनी छाछ उपलब्ध है | यह ज्यादा गुणकारी नहीं होती है |

मट्ठा (छाछ) के औषधीय गुण एवं स्वास्थ्य लाभ |

यूँ तो आप सभी जानते हैं की मट्ठा का सेवन करने से शरीर को ठंडक मिलती है | इसलिए अधिकांश गर्मियों में इसका उपयोग ज्यादा किया जाता है | लेकिन आयुर्वेदानुसार इसमें बहुत अनमोल औषधीय गुण होते हैं और इसको पिने से बहुत से रोगों में लाभ मिलता है |

भोजनांते पिबेत्त तक्र, दिनान्ते च पिबेत पयः | निशान्ते पिबेत वारि: दोषों जायते कदाचनः |

यानि सुबह पानी, दोपहर में खाने के बाद छाछ एवं शाम को दूध पिने से शरीर दोषमुक्त रहता है |

मट्ठा के स्वास्थ्य लाभ एवं उपयोग :-

  • खाने में रूचि पैदा करता है |
  • पचने में हल्का होता है एवं मल मूत्र को साफ़ करता है |
  • पीलिया रोग में बहुत लाभदायी है |
  • भूख बढाता है |
  • बवासीर रोग में बहुत फायदेमंद है |
  • मधुमेह में छाछ पिने से फायदा होता है |
  • गर्मियों में शरीर को ठंडा रखने के लिए उत्तम पेय है |
  • उदर विकारो में लाभप्रद है |
  • आँखों के लिए अमृत समान पेय है |
  • कफ एवं ज्वर रोग में भी इसका उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है |

मधुमेह को कैसे रखे अपने से दूर: जानने के लिए पढ़ें ले लेख |

रोगानुसार कैसे उपयोग करें ?

सामान्यतः छाछ का सेवन करने से शरीर स्वस्थ एवं दोषमुक्त रहता है | लेकिन आयुर्वेदानुसार विभिन्न रोगों एवं स्वास्थ्य लाभ के लिए इसका सेवन अलग अलग तरीके से एवं अन्य चीजो के साथ करना बताया गया है | आइये जानते है रोगानुसार छाछ (मट्ठा) का सेवन कैसे करें :-

  1. गर्मी से राहत के लिए :- सेंधा नमक एवं भुना हुवा जीरा मिलाकर सेवन करें |
  2. पीलिया रोग में : मट्ठा में चित्रक चूर्ण मिलाकर पियें |
  3. बवासीर में :- सेंधा नमक मिलाकर उपयोग करें |
  4. वात विकार में :- सेंधा नमक एवं जीरा मिलाकर सेवन करें |
  5. कफ विकार में :- पीपल, सोंठ, सेंधा नमक एवं काली मिर्च के साथ सेवन करें |
  6. पित्त विकार में :- शक्कर मिलाकर मट्ठा पियें |
  7. गृहणी रोग में :- अन्न का त्याग कर खाने पिने में मट्ठे का प्रयोग करें |

और पढ़ें :- बवासीर का रामबण इलाज !

सावधानियां एवं दुष्प्रभाव |

यूँ तो यह बहुत ही स्वादिष्ट एवं गुणकारी पेय है लेकिन कुछ सावधानियां भी जरुरी हैं |

  • रात के समय छाछ का सेवन ना करें |
  • हमेशा ताजा मट्ठे का ही उपयोग करें |
  • अगर सर्दी जुखाम हो तो इसका सेवन सोंठ, पीपल एवं काली मिर्च मिलाकर ही करें |
  • गठिया रोग में इसका सेवन ना करें |
  • फ्रीज में ठंडी की हुई छाछ का सेवन न करें |
  • बाजार में मिलने वाली छाछ की बजाय घर पर मथनी से बनी ज्यादा फायदेमंद होती है |

यह भी पढ़ें :- पीलिया का आयुर्वेदिक उपचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You