निशोथ / Operculina turpethum – औषधीय गुण एवं फायदे

Deal Score0
Deal Score0

निशोथ बहुवर्षायु औषधीय लता है | यह तीव्र विरेचक गुणों से युक्त आयुर्वेदिक औषधीय वनस्पति है | इसे त्रिवृत, निसोत, पितोहरी आदि नामों से भी जाना जाता है | आयुर्वेदिक ग्रन्थ चरक एवं सुश्रुत संहिता में श्याम एवं अरुण दो प्रकार की निशोथ का वर्णन मिलता है |

यह जंगल एवं बाग़ बगीचों में पाई जाती है | लतास्वरूप वनस्पति है एवं सफ़ेद फूलों से आच्छादित रहती है | निशोथ से कम ही लोग परिचित है | यह ज्वर, उदररोग, सुजन, पीलिया, कब्ज, यकृत एवं प्लीहा के रोगों में काफी फायदेमंद आयुर्वेदिक द्रव्य है |

निशोथ का सामान्य परिचय

वर्षायु लतास्वरूप वनस्पति है | इसका कांड तीन धारयुक्त, लम्बी एवं आरोहिणी होता है | काण्ड पुराना होने पर कुछ कड़ा एवं भूरे रंग का हो जाता है | निसोत के पते 2.5 इंच लम्बे एवं 1 से 3 इंच चौड़े होते है |

निशोथ
By J.M.Garg – Own work, CC BY-SA 4.0, https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=5706090

त्रिवृत अर्थात निशोथ में वर्षा ऋतू में फुल आते है | इसके फुल गोलाकार घंटी के आकर के होते है | रंग में सफेद, पत्रवृंत 1 इंच लम्बा एवं आयताकार होते है | इसके फल गोलाकार आधा से एक इंच बड़ा होता है | जब फल पक जाता है एवं फल का बाहरी आवरण फट जाता है तब इसमें से 4 काले एवं चिकने 2 इंच लम्बे बीज निकलते है |

पर्याय

हिंदी – निशोथ, निसोत, पित्तोहरी, त्रिभंडी, त्रिपुट, सरला, निशोत्रा, रेचनी |

मराठी – निशोतर, तेंड, फुटकरी, शेतवड

English – Turpeth, Indian Jalap

लेटिन – Operculina turpethum Silva

Family – Convolvulaceae

निरुक्ति

  1. त्रिवृत – इसकी डंडियों का आवर्तन तीन प्रकार से होता है |
  2. त्रिपुट – इसके तीन पुट होते है |
  3. सरला – यह विरेचन होने के कारण सारक है |
  4. सर्वानुभुती – इसका सब लोग अनुभव लेते है |
  5. त्रिभंडी – तीनों दोषों को उत्क्लिष्ट करके बाहर निकाल देती है |
  6. श्यामा – रंग में श्याम वर्ण की होती है
  7. काल्मेषिका – तीव्र विरेचक गुण के कारण काल के साथ स्पर्धा करती है |

निशोथ के औषधीय गुण

श्वेता त्रिवृदेचनी स्यास्त्यदुरुष्णा समीरहृअत |
रक्षा पित्तज्वरश्लेष्मपित्तशोथोदरापहा ||

भा. निघंटु

रसपंचक

रस -=- तिक्त, कटु |

गुण -=- लघु, रुक्ष एवं तीक्षण |

विपाक -=- कटु |

वीर्य -=- उष्ण

दोषकर्म – कफपित्त संशोधन एवं वातवर्द्धन |

अन्यकर्म – रेचक |

रोगहरण – ज्वर, उदररोग, शोथ, कामला, विबंध, प्लीहा रोग |

विशेष – सुखविरेचक, अधोभागहर, जालप सदृश गुण युक्त

निशोथ के उपयोग / फायदे

  • त्रिवृत के सूक्षम चूर्ण को द्राक्षा के साथ ज्वर होने पर देना चाहिए |
  • रक्तपित्त में मधु और शर्करा के साथ त्रिवृत चूर्ण को विरेचानार्थ प्रयोग किया जाता है | इससे रक्तपित्त की समस्या में राहत मिलती है |
  • निशोथ के चूर्ण को घी, दूध, उष्णजल, द्राक्षारस के साथ देने से विसर्प में लाभ होता है |
  • वातजन्य शोथ में एक महीने तक निशोथ के चूर्ण का सेवन करवाना फायदेमंद रहता है |
  • पीलिया होने पर इसके चूर्ण को मिश्री मिलाकर देने से लाभ मिलता है |
  • निशोथ की जड़ से साधित तेल को बाह्यप्रयोग में उपयोग किया जाता है | यह तेल घाव में मवाद आदि की समस्या को ठीक करने में अच्छे परिणाम देता है |
  • बुखार आदि में दोषपाचनार्थ निशोथ की जड़ का विरेचन दिया जाता है | इससे दोष का शोधन होकर बुखार उतर जाती है |
  • अर्श या बवासीर में आंत्रगत दोषों को दूर करने के लिए त्रिफला क्वाथ के साथ इसका प्रयोग करवाते है ताकि अर्श में आराम मिल सके |
  • विरेचन करवाने के लिए त्रिवृत का प्रयोग प्रमुखता से किया जाता है | यह सुखविरेचन एवं मूलविरेचन द्रव्यों में सर्वश्रेष्ट है |

प्रयोज्य अंग – मूल अर्थात जड़ |

विशिष्ट कल्प – त्रिवृतादी चूर्ण, त्रिवृतादी घृत, अश्वगंधारिष्ट, अविपत्तिकर चूर्ण, पुनर्नवादी मंडूर, दशमूलारिष्ट, चंद्रप्रभावटी, अभयारिष्ट आदि |

धन्यवाद ||

Mr. Yogendra Lochib

Mr Yogendra Lochib is a experienced and qualified Ayurveda Nurse & Pharmacist. He was Graduated (2009-2013) from Dr Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur.He has Good Knowledge about Ayurvedic Herbs, Medicine, Panchkarma Procedure & Naturopathy. The Author believes in sharing the knowledge of Ayurveda (As it was shared 5000 years ago orally) using online platforms, and he is doing well.

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0