desi nuskhe, जड़ी - बूटियां

अदरक – अदरक के फायदे और घरेलू नुस्खे

अदरक ( Zinzer )

अदरक एक  औषधीय मसाला है जिसका  उपयोग भारतीय रसोई में प्रमुखता से किया जाता है | सर्दी – जुकाम और खांसी आदि रोगों में अदरक के घरेलु नुस्खे पूर्णतया कारगर है | यह उष्णकटीबंधिय और शीतोष्णकटिबंध का देशज पौधा है | अदरक उत्पादन में भारत भी विश्व में अग्रणी है | अदरक के सूखने के बाद यह सौंठ कहलाती है जो दोनों ही रूपों में समान गुणकारी साबित होती है | आयुर्वेद में औषध निर्माण आदि में सौंठ का इस्तेमाल ज्यादा किया जाता है लेकिन जहाँ स्वरस आदि का उपयोग करना हो तो वहां अदरक ही काम में ली जाती है |
अदरक के फायदे

अदरक के फायदे

अदरक
अदरक में एंटीफंगल , एंटीबायोटिक , एंटीसेप्टिक, एंटीइन्फ्लेमेट्री आदि गुण  पाए जाते है | इसके अलावा इसमें विटामिन्स, मिनरल्स, फाइबर, मैग्नीशियम, पोटेशियम , सिलिकोन और कैल्शियम आदि तत्व भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते है |

अदरक के गुणधर्म

अदरक का रस तिक्त एवं कटू होता है | गुणों में यह गुरु और रुक्ष होती है एवं इसका वीर्य उष्ण होता है | पचने के बाद इसका विपाक मधुर और तीक्षण होता है | अदरक उष्ण वीर्य की होने के कारण वात एवं कफ शामक होती है | यह पाचन , दीपन, लंघन, शूल, शोथ , कास, हिक्का , प्रतिश्याय, अस्थमा आदि रोगों में काफी लाभदायक एवं प्रभावशाली औषधि है |

अदरक के फायदे और घरेलु नुस्खे

कैंसर की सम्भावना को कम करती है अदरक

अदरक में पाए जाने वाले तत्व कैंसर की सम्भावना को कम करते है | अदरक को स्तन कैंसर , प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर के इलाज में लाभदायक माना गया है | यह कोलोन में सुजन को कम करती है, जिससे कोलोन कैंसर के इलाज में सहायता मिलती है  | जेर्नल ऑफ़ बायोमेडिसिन और बायोटेक्नोलॉजी के द्वारा प्रकाशित शोध में बताया गया है कि अदरक में पाए जाने वाले रसायनस्तन कैंसर में स्वस्थ स्तन कोशिकाओं पर बिना असर डाले कैंसर कोशिकाओं को ख़त्म करती है | किमोथेरेपी के द्वारा सम्भव है कि कैंसर की सभी कोशिकाएं ख़त्म हो जाती है लेकिन स्तन कैंसर में ये कोशिकाएं फिर से पनपने लगती है | अदरक के सेवन से इन कोशिकाओं की पनपने की गति में रूकावट पैदा होती है |

हृदय और शुगर रोग में अदरक के फायदे

अदरक में पाए जाने वाले तत्व हाई शुगर लेवल को बैलेंस करने में असरदार है | ये तत्व ग्लूकोज को मस्सल कोशिका तक पंहुचने में मदद करते है जिससे रक्त शर्करा का लेवल बैलेंस होता है | अदरक के रस का एक सिमित मात्रा में सेवन करने से मधुमेह में आराम मिल सकता है |
हृदय रोग एवं  दुर्बलता में भी अदरक के गुण काफी लाभ पंहुचाते है | अदरक के रस और शहद को समान मात्रा में मिलकर नित्य चाटने से ह्रदय विकारो में लाभ मिलता है | हृदय दुर्बलता में सोंठ को पीसकर एक गिलास पानी में काढ़ा बना कर सेवन करने से हृदय दुर्बलता में काफी लाभ मिलता है |

पाचन सम्बन्धी विकारो में अदरक के फायदे 

 अदरक में दीपन और पाचन के गुण होते है इसलिए यह पाचन संस्थान के लिए फायदेमंद होती है | पाचन सम्बन्धी रोग जैसे अपच या पेट खराब हो तो अदरक एक एक चम्मच रस को एक गिलास पानी में डालकर सेवन करे | पाचन सम्बन्धी सभी विकारो में लाभ मिलेगा |
पाचन संबंधी सभी विकारों में अदरक के छोटे – छोटे टुकड़े कर ले | इन टुकडो को खाने वाले पान के पतों में लपेट ले और ऊपर से एक लौंग चुभा दे | इस प्रकार कई 10 बंडल बना ले और इन्हें निम्बू के रस में डालकर 10 – 15 दिन छोड़ दे | इसके बाद एक पान रोज खाना खाने के बाद खाए पाचन से सबंधित सभी विकारो से छुटकारा मिलेगा |
 

खांसी में अदरक के फायदे 

खांसी सुखी हो या कफ वाली – सभी में अदरक फायदा देती है | अगर आप खांसी से परेशान है और कोई उपाय नहीं सूझ रहा तो बस एक अदरक का टुकड़ा चुसे , तुरंत खांसी रुक जावेगी |
अगर खांसी लम्बी और बलगम वाली हो तो अदरक के छोटे – छोटे 10 टुकड़े , थोडा सा गुड और 5 पीसी हुई कालीमिर्च इन सभी को हल्का गरम करे और अच्छी तरह मिल जाने पर रात में सोते समय खाए | जल्द ही कफज खांसी में आराम मिलेगा |

दमा रोग में अदरक के फायदे 

दमा के इलाज में भी अदरक काफी हद तक फायदेमंद है | अगर आप को दमा है तो बस अदरक का ये छोटा सा प्रयोग दमे के रोग में राहत प्रदान करेगा | सबसे पहले 1 किलो ताज़ी अदरक का रस निकाल ले | इस रस में एक किलो चीनी मिलादे | अब इसे धीमी आंच पर उबाले जब अच्छी तरह उबल जाए तब निचे उतार कर ठंडा करले | और इसे किसी कांच की बोटेल में रख ले | इसके 6 हिस्से कर के नित्य सुबह एक हिस्सा भूखे पेट खाए |

निरंतर प्रयोग से दमा ठीक हो जाता है | ध्यान दे इसे शीतकाल में ही प्रयोग में लावे और अपनी प्रकृति का भी ध्यान रखे | अगर शरीर अधिक गरमी सहन करने योग्य नहीं है तो इसे न आजमावे | क्योकि निरंतर प्रयोग गर्मी पैदा करता है | अत: अल्सर , बवासीर और गरम प्रकृति के लोग न आजमावे |

गठिया रोग में  अदरक  के  फायदे 

अदरक में पाए जाने वाले तत्व संधिवात में लाभदायक साबित होते है | गठिया रोग में अदरक का तेल बना कर स्थानिक प्रयोग करने से गठिया रोग में राहत मिलती है |

अदरक का तेल बनाने के लिए अदरक का 150 ग्राम की मात्रा में रस निकाल ले | समान मात्रा में तील का तेल ले और दोनों को मिलाकर गरम करे | जब तेल में से शन – शन की आवाज आनी बंद हो जाए अर्थात तेल से सारा पानी उड़ जावे तब इसे आंच से उतार कर ठंडा कर ले | इसे छान कर किसी बोटेल में रख ले | इस तेल की गठिया से प्रभावित अंग पर मालिश करने से राहत मिलती है | क्योकि अदरक में वातनाशक गुण होने और दर्द निवारक गुणों के कारण यह संधिवात में काफी लाभ देती है |

गर्भपात को रोकती है अदरक 

यदि बार – बार गर्भपात होता हो तो जब भी गर्भधारण हो तभी से नित्य आधा चम्मच सौंठ , चौथाई चम्मच मुलहठी – इन दोनों के 250 ग्राम दूध में उबाल कर पीना शुरू करदे | यह नुस्खा गर्भपात की सम्भावना कम कर देता है | प्रसव के समय होने वाली पीड़ा में भी यह नुस्खा लाभ देता है |

फोड़े – फुंसियो में अदरक के फायदे 

अगर शरीर पर कंही भी फोड़े – फुंसी निकल आये हो तो ताजा अदरक को सिलबट्टे पर घिस कर फोड़े – फुंसियो पर लगाने से जल्दी ही ठीक हो जाते है | अदरक में एंटीसेप्टिक गुण पाया जाता है जो इसे त्वचा विकारों में असरदार बनाता है | इसीलिए फोड़े – फुंसियो में और त्वचा की गांठो में भी यह काफी फायदेमंद साबित होती है |

भूख बढ़ाने के लिए अदरक के घरेलु नुस्खे 

अदरक और निम्बू का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पिने से भूख खुलकर लगती है | इसमें काला नमक , सैंधा नमक , कालीमिर्च और नौसादर मिलाकर चाटने से गले में खरास और चिपका हुआ कफ छुटता है |

श्वास की बदबू को ख़त्म करती है अदरक 

अदरक में एक सुगन्धित खुशबु होती है जो सांसो की दुर्गन्ध को ख़त्म करती है | अदरक के छोटे – छोटे टुकड़े कर ले और इन्हें घी में भुन ले | अब इन टुकडो को नियमित चूसने जल्द ही सांसो की दुर्गन्ध ख़त्म होती है | इस नुस्खे से खांसी की शिकायत भी जाती रहती है |

आमवात में अदरक के फायदे / Aamvat me Adark ke Fayde

आमवात की परेशानी में सौंठ और हरड को समान मात्रा में लेकर पीसकर चूर्ण बना ले | नित्य गरम पानी के साथ फंकी लेने से आमवात में आराम मिलता है | एक चम्मच सौंठ का चूर्ण में एक चम्मच एरंड का तेल मिलाकर चाटले और ऊपर से गरम पानी का सेवन करे | आमवात में लाभ मिलेगा |
आपके लिए कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां –
हमारा फेसबुक पेज जरुर Like करे | जिसका विजेट बॉक्स आपको निचे स्क्रोल करने से मिल जावेगा | फेसबुक पेज को like करने से आप को स्वदेशी उपचार पर साझा की गई सभी नवीनतम जानकारी की अपडेट मिलती रहेगी और आप स्वदेशी उपचार से जुड़े रहेंगे |
धन्यवाद ||

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

2 thoughts on “अदरक – अदरक के फायदे और घरेलू नुस्खे

  1. Prakash says:

    Nice info

    1. admin says:

      धन्यवाद श्रीमान |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.