अक्षितर्पण / नेत्रतर्पण – सामान्य परिचय

अक्षितर्पण  

अक्षितर्पण दो शब्दों से मिलकर बना है – अक्षि + तर्पण  | अक्षि से तात्परिय है आँख और  तर्पण का अर्थ है भरना या तृप्त करना | आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के भाग पंचकर्म में आँखों के स्वास्थ्य के लिए इस विधा का इस्तेमाल किया जाता है | अक्षितर्पण नेत्रों के स्वास्थ्य को बनाये रखने और रोगों से दूर रखने की एक कला है | मुख्यतया आँखों की कमजोरी , नेत्रअभिष्यंद ( आँखे आना ), पलके ठीक से न खुलना , ग्लूकोमा आदि रोगों में अक्षि तर्पण किया जा सकता है एवं इसके परिणाम भी बहुत अच्छे प्राप्त होते है |
अक्षितर्पण / नेत्रतर्पण के फायदे
अक्षितर्पण
 

अक्षितर्पण की विधि 

अक्षितर्पण करने से पहले रोगी के शरीर का शोधन कर लेना चाहिए | रोगी को द्रोणी या टेबल पर पीठ के बल सीधे लेटा दिया जाता है | अब रोगी के आँखों के चारो और उड़द के आटे से बनी पिष्टी से दो अंगुल ऊँची दीवार ( पाल ) बना दी जाती है | रोगी की प्रकृति और रोग के अनुसार चयनित औषध घृत को एक कटोरी में डालकर गरम पानी के द्वारा पिघलाया जाता है | इस औषध घृत को रोगी के नेत्रकोशो पर पलकों के बाल तक भर दिया जाता है | घृत भरने के बाद रोगी को आंखे खोलने और बंद करने को कहा जाता है | इस प्रकार यह क्रिया अलग – अलग रोग एवं प्रकृति के अनुसार आधे मिनट से 4 मिनट तक करवाई जाती है |
सम्यक तरीके से अक्षितर्पण होने पर उड़द के आटे की बनाई गई पाल में छेद कर के औषध सिद्ध घृत को बाहर निकाल लिया जाता है | अक्षितर्पण के पश्चात विरेचन या धूमपान करवाया जाता है ताकि घृत के कारण बढे हुए कफ दोष का शमन हो सके |

तर्पण में सम्यक , हीन और अतियोग के लक्षण 

सम्यक – तर्पण ठीक प्रकार से होने पर रोगी के आँखों में प्रकाश सहने की शक्ति आ जाती है एवं आँखे निर्मल दिखाई पड़ती है |
हीन – तर्पण अगर हीन हुआ है तो इसके विपरीत असर दिखाई पड़ता है |
अतियोग – अधिक तर्पण होने पर कफज विकार उत्पन्न हो जाते है | रोगी की आंखे भारी और सिरदर्द की शिकायत भी हो सकती है |

 

अक्षितर्पण करवाने के पश्चात की क्रियाये 

अक्षितर्पण भली प्रकार से होने के पश्चात | उड़द के आटे की पिष्टी को हटा कर आँखों को अच्छी तरह साफ़ करवाया जाता है | औषध सिद्ध घृत के प्रयोग से कफ दोष उत्पन्न हो जाता है उसके प्रशमन के लिए धुम्रपान करवाया जाता है | रोगी को उष्ण जल से मुंह का प्रक्षालन करने को कहा जाता है | रोगी को धुप , धूल और अधिक प्रकाश वाली जगहों से दूर रखने को कहा जाता है |
अगर आप की भी आँखे कमजोर है | निकट द्रष्टि दोष , दूर द्रष्टि दोष , आँखों से पानी पड़ते रहना , कमजोर आँखे , जल्दी – जल्दी आँखों में इन्फेक्शन होना , धुंधलापन आदि रोगों में अक्षितर्पण एक बेहतरीन विकल्प है | इसलिए इन रोगों में एक बार अपने नजदीकी आयुर्वेदिक क्लिनिक से अक्षितर्पण करवाके देखे | 100% परिणाम मिलेगा |
 
धन्यवाद |

Related Post

सोरायसिस (Psoriasis) क्या है ? इसके कारण, लक्षण और... सोरायसिस क्या है ? (What is Psoriasis in Hindi) सोरायसिस - यह रोग त्वचा का बहुत ही सामान्य रोग है जो लगभग 10 साल से ऊपर के लोगों में अधिक देखने को मि...
बस्ती कर्म / Basti Karma – चमत्कारिक चिकित्स... बस्ती कर्म  बस्ती कर्म आयुर्वेद के पंचकर्म चिकित्सा पद्धती से सम्बंधीत क्रिया है । आयुर्वेद के बहुत से आचार्य इसे सहायक चिकित्सा के रूप में भी देखते ...
आँखों से चस्मा हटाने का आयुर्वेदिक उपचार – इ... नेत्र ज्योतिवर्धक  आँखे हमारी अमूल्य सहयोगी है | इसके बैगर सारा संसार अंधकारमय हो जाता है | इसलिए आँखों को स्वस्थ बनाये रखने के लिए हमें उ...
नस्य कर्म – क्या होता है ? इसकी विधि और फायद... नस्य कर्म / Nasya Karma ”नासायं भवं नस्यम्“  नस्य कर्म अर्थात औषधी या औषध सिद्ध स्नेहों को नासामार्ग से दिया जाना नस्य कहलाता है। नस्य का दूसर...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.