anya rog, ayurveda, स्वास्थ्य

आहार के 15 नियम और जीवन निरोगी (incompatible food combinations according to ayurveda)

आहार के 15 नियम

आहार और भोजन के भी कुछ नियम कायदे होते है, जिनका हमे हमेशा अनुसरण करना चाहिए | आज के समय में हमे यह पता नही होता की हमारा शरीर किस प्रकृति का है ! वात-पित-कफ में से हमारे शरीर में किस प्रकृति की प्रधानता है और बिना ये जाने हम भोजन करते है और ये भोजन हमारे शरीर की प्रकृति के विरुद्ध होता है जिससे हम रोगों को बढ़ावा देते है | जैसे किसी की प्रकृति में कफ बिगड़ा हुआ है और हम वही भोजन करते है जो कफ को बढ़ाते हो , जैसे ठंडा पेय , बासी खाना और अत्यधिक तेलिये भोजन तो निश्चित ही आप और अधिक बीमार पड़ेंगे |
इसलिए आज की इस post में हम आपको बताने जा रहे है भोजन या विरुद्ध आहार के कुछ नियम जिनको आप जानकर स्वस्थ रहेंगे |
  1. कभी भी दही गर्म कर के नहीं खाना चाहिए क्योकि इससे शरीर को हानि पंहुचती है आप कडी बना के खा सकते है |
  2. कभी भी दूध और कटहल का सेवन साथ नहीं करना चाहिए |
  3. दूध और कुल्थी को भी साथ में नहीं लेना चाहिए |
  4. कभी भी समान मात्रा में घी और शहद को उपयोग नहीं करना चाहिए – ये विष के समान होता है |
  5. जो के आटे में हमेशा कोई अन्य आटा मिलाकर उपयोग में लेना चाहिए |
  6. रात्रि के समय सत्तू का प्रयोग वर्जित है |
  7. सुबह के भोजन के बाद तेज गति से नहीं चलना चाहिए |
  8. शाम के खाने के बाद हमेशा 10 मिनुत साधारण गति से टहलना चाहिए | इससे खाया हुआ आराम से पच जाता है |
  9. सांयकाल में दही का प्रयोग निषेध है कभी रात के समय में दही नहीं खाना चाहिए | इसकी जगह आप दूध का इस्तेमाल कर सकते है |
  10. सिर पर अधिक गर्म पानी डाल कर स्नान करने से आँखों की ज्योति को नुकशान पंहुचता है | इसलिए सर्दियों में भी सिर पर हलके गरम पानी का उपयोग करना चाहिए |
  11. सर्वोतम शहद छोटी मक्खियों का होता है | इसलिए शहद हमेशा छोटी मधुमक्खियो का इस्तेमाल करना चाहिए और कभी भी शहद को गर्म कर के प्रयोग में नहीं लेना चाहिए |
  12. जब भी शरीर गरम हो अर्थात कही दूर से चल कर आ रहे हो या दौड़ कर , कम से कम 10 मिनट तक शरीर को ठंडा करके पानी का सेवन करना चाहिए और यह पानी भी गुनगुना हो तो बेहतर होगा |
  13. सही समय पर सोना क्योकि अच्छी नींद से पित का प्रकोप शांत होता है , नहाने से पहले शरीर पर तेल की मालिश करना क्योकि इससे वात का नाश होता है एवं जिनको कफ की समस्या रहती हो उन्हें सुबह उठ कर 1 लीटर गुनगुने पानी को पीकर उलटी करना चाहिए क्योकि सुबह – सुबह कफ का प्रकोप अधिक होता है अगर आपने 1 लीटर पानी पीकर उल्टा निकल दिया तो आपका संचित कफ भी बाहर आ जायेगा | हालाँकि ज्यादातर लोगो के लिए यह मुस्किल जरुर होगा लेकीन प्रयाश से आसान हो जायेगा |
  14. दोपहर के भोजन के साथ हमेशा दही का प्रयोग करना चाहिए क्योकि दही में कई गुण मौजूद होते है जो हमें बीमार नहीं पड़ने देते | दही के अलावा आप छाछ का भी उपयोग कर सकते है |
  15. ध्यान दे दूध के साथ कभी भी इन चीजो का सेवन न करे – नमक, छाछ – दही , मछली , मूंगफली, या अन्य कोई खट्टी वस्तु |

अगर आहार के इन नियमो का पालन आप करेंगे तो निश्चित ही आप बीमारी से कोशो दूर रहेंगे | ये नियम हर प्रकृति ( वात-पित-कफ ) के मनुष्य को अनुसरण करना चाहिए |

धन्यवाद |

author-avatar

About स्वदेशी उपचार

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *