आहार के 15 नियम और जीवन निरोगी (incompatible food combinations according to ayurveda)

आहार के 15 नियम

आहार और भोजन के भी कुछ नियम कायदे होते है, जिनका हमे हमेशा अनुसरण करना चाहिए | आज के समय में हमे यह पता नही होता की हमारा शरीर किस प्रकृति का है ! वात-पित-कफ में से हमारे शरीर में किस प्रकृति की प्रधानता है और बिना ये जाने हम भोजन करते है और ये भोजन हमारे शरीर की प्रकृति के विरुद्ध होता है जिससे हम रोगों को बढ़ावा देते है | जैसे किसी की प्रकृति में कफ बिगड़ा हुआ है और हम वही भोजन करते है जो कफ को बढ़ाते हो , जैसे ठंडा पेय , बासी खाना और अत्यधिक तेलिये भोजन तो निश्चित ही आप और अधिक बीमार पड़ेंगे |
इसलिए आज की इस post में हम आपको बताने जा रहे है भोजन या विरुद्ध आहार के कुछ नियम जिनको आप जानकर स्वस्थ रहेंगे |
  1. कभी भी दही गर्म कर के नहीं खाना चाहिए क्योकि इससे शरीर को हानि पंहुचती है आप कडी बना के खा सकते है |
  2. कभी भी दूध और कटहल का सेवन साथ नहीं करना चाहिए |
  3. दूध और कुल्थी को भी साथ में नहीं लेना चाहिए |
  4. कभी भी समान मात्रा में घी और शहद को उपयोग नहीं करना चाहिए – ये विष के समान होता है |
  5. जो के आटे में हमेशा कोई अन्य आटा मिलाकर उपयोग में लेना चाहिए |
  6. रात्रि के समय सत्तू का प्रयोग वर्जित है |
  7. सुबह के भोजन के बाद तेज गति से नहीं चलना चाहिए |
  8. शाम के खाने के बाद हमेशा 10 मिनुत साधारण गति से टहलना चाहिए | इससे खाया हुआ आराम से पच जाता है |
  9. सांयकाल में दही का प्रयोग निषेध है कभी रात के समय में दही नहीं खाना चाहिए | इसकी जगह आप दूध का इस्तेमाल कर सकते है |
  10. सिर पर अधिक गर्म पानी डाल कर स्नान करने से आँखों की ज्योति को नुकशान पंहुचता है | इसलिए सर्दियों में भी सिर पर हलके गरम पानी का उपयोग करना चाहिए |
  11. सर्वोतम शहद छोटी मक्खियों का होता है | इसलिए शहद हमेशा छोटी मधुमक्खियो का इस्तेमाल करना चाहिए और कभी भी शहद को गर्म कर के प्रयोग में नहीं लेना चाहिए |
  12. जब भी शरीर गरम हो अर्थात कही दूर से चल कर आ रहे हो या दौड़ कर , कम से कम 10 मिनट तक शरीर को ठंडा करके पानी का सेवन करना चाहिए और यह पानी भी गुनगुना हो तो बेहतर होगा |
  13. सही समय पर सोना क्योकि अच्छी नींद से पित का प्रकोप शांत होता है , नहाने से पहले शरीर पर तेल की मालिश करना क्योकि इससे वात का नाश होता है एवं जिनको कफ की समस्या रहती हो उन्हें सुबह उठ कर 1 लीटर गुनगुने पानी को पीकर उलटी करना चाहिए क्योकि सुबह – सुबह कफ का प्रकोप अधिक होता है अगर आपने 1 लीटर पानी पीकर उल्टा निकल दिया तो आपका संचित कफ भी बाहर आ जायेगा | हालाँकि ज्यादातर लोगो के लिए यह मुस्किल जरुर होगा लेकीन प्रयाश से आसान हो जायेगा |
  14. दोपहर के भोजन के साथ हमेशा दही का प्रयोग करना चाहिए क्योकि दही में कई गुण मौजूद होते है जो हमें बीमार नहीं पड़ने देते | दही के अलावा आप छाछ का भी उपयोग कर सकते है |
  15. ध्यान दे दूध के साथ कभी भी इन चीजो का सेवन न करे – नमक, छाछ – दही , मछली , मूंगफली, या अन्य कोई खट्टी वस्तु |

अगर आहार के इन नियमो का पालन आप करेंगे तो निश्चित ही आप बीमारी से कोशो दूर रहेंगे | ये नियम हर प्रकृति ( वात-पित-कफ ) के मनुष्य को अनुसरण करना चाहिए |

धन्यवाद |

Related Post

बला (खरैटी) / Sida Cordifolia – खरैटी के गुण... बला (खरैटी) / Sidda Cordifolia in Hindi परिचय - प्राय: सम्पूर्ण भारत में पायी जाने वाली औषधीय उपयोगी वनस्पति है | इसका झाड़ीनुमा क्षुप होता है जो 2 से...
खांसी होने पर अपनाये एक्यूप्रेशर और ये घरेलु उपचार... खांसी सर्दियोें मे होने वाली एक आम समस्या है। भले ही शुरूआती स्टेज में यह कोई बड़ा रोग प्रतित न हो लेकिन उपचार में देरी और आहार में लापरवाही के कारण भं...
काली / कुकर खांसी – कारण , लक्षण और काली खां... कुकर / काली खांसी (Pertussis) / Whooping cough कुकर खांसी को साधारण भाषा में कुत्ता खांसी या काली खांसी भी कहते है | यह ज्यादातर बसंत या शरद ऋतू में ...
ब्राह्मी घृत सम्पूर्ण परिचय – निर्माण विधि, ... ब्राह्मी घृत / Brahmi Ghrit Hindi  परिचय - ब्राह्मी घृत आयुर्वेदिक स्नेह कल्पना के तहत तैयार होने वाला एक प्रशिद्ध औषधीय घी है | जो अपस्मार, स्मरण शक...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.