पुंसवन कर्म – मन माफिक पुत्र या पुत्री की प्राप्ति

पुंसवन कर्म " गर्भाद भवेच्च पुन्सुते पुन्स्त्वस्य प्रतिपादनम "अर्थात स्त्री गर्भ से पुत्र प्राप्ति हो इसलिए पुंसवन...

Continue reading