punsawan sanskaar

पुंसवन कर्म – मन माफिक पुत्र या पुत्री की प्राप्ति

पुंसवन कर्म – मन माफिक पुत्र या पुत्री की प्राप्ति

पुंसवन कर्म " गर्भाद भवेच्च पुन्सुते पुन्स्त्वस्य प्रतिपादनम "अर्थात स्त्री गर्भ से पुत्र प्राप्ति हो इसलिए पुंसवन संस्कार किया जाता है |" पुमान् सूयते अनेन इति पुन्सवनम "   अर्थात जिस कर्म के ...

READ MORE +
Logo
Compare items
  • Total (0)
Compare
0