प्रताप लंकेश्वर रस के फायदे / Pratap lankeshwar ras ke fayde

इस लेख में हम प्रताप लंकेश्वर रस क्या है, इसके घटक, बनाने की विधि एवं प्रताप लंकेश्वर रस के फायदे क्या हैं आदि के बारे में जानेंगे |

प्रताप लंकेश्वर रस (Pratap lankeshwar ras) आयुर्वेद में रस रसायन प्रकरण की दवा है | यह दवा प्रसूता महिला के लिए बहुत उपयोगी है | प्रसव के समय होने वाले ज्वर में यह रामबाण औषधि का काम करती है | प्रसुत रोग बहुत ही कष्टदायक एवं भयंकर रोग है | एक बार यह ज्वर स्त्री को पकड़ लेता है तो उसको अनेक तरह की समस्याएं हो जाती हैं, जो इस अवस्था में बहुत हानिकारक साबित होती हैं | यह ज्वर अधितर सूतिकागृह की गंदगी एवं प्रसूता की उचित देखभाल नहीं करने के कारण होता है | इस रोग में यह रस बहुत गुणकारी दवा का काम करता है |

प्रताप लंकेश्वर रस क्या है / Pratap lankeshwar ras kya hai ?

यह रस रसायन प्रकरण की दवा है | जैसा उपर बताया है इसका उपयोग मुख्यतः प्रसूता को होने वाले ज्वर की रोक थाम के लिए किया जाता है | इसके अलावा वात प्रकुपित हो जाने पर भी इसका उपयोग किया जाता है | यह वातवाहिनी नाड़ी का शमन करने एवं श्वास को नियमित करने के लिए बहुत उपयोगी है | प्रताप लंकेश्वर रस (Pratap lankeshwar ras) मानसिक तनाव कम करने एवं दर्द को कम करने के लिए भी उत्तम है |

Pratap lankeshwar ras के घटक क्या क्या हैं ?

इस औषधि में निम्न घटक द्रव्यों का उपयोग किया जाता है :-

  • शुद्ध पारा – १ तोला
  • अभ्रक भस्म – १ तोला
  • शुद्ध गंधक – १ तोला
  • बच्छनाग – १ तोला
  • काली मिर्च चूर्ण – ३ तोला
  • लौह भस्म – ४ तोला
  • शंख भस्म – ८ तोला
  • बनगोईठा भस्म – १६ तोला

प्रताप लंकेश्वर रस बनाने की विधि / Pratap lankeshwar ras banane ki vidhi

इस रस को बनाने के लिए निम्न विधि का उपयोग किया जाता है :-

  • सबसे पहले पारा एवं गंधक की कज्जली बना लें |
  • अन्य जड़ी बूटियों का चूर्ण बना लें |
  • अब इस चूर्ण को कज्जली के साथ मिला लें |
  • इस मिश्रण को अब खरल में डाल कर अच्छे से घोंट लें |
  • जब गोली बनाने लायक हो जाये तो इसकी छोटी छोटी गोली बना लें |
  • इस तरह से प्रताप लंकेश्वर रस तैयार हो जाता है |

प्रताप लंकेश्वर रस के फायदे एवं उपयोग / Pratap lankeshwar ras benefits

प्रताप लंकेश्वर के फायदे
प्रताप लंकेश्वर के फायदे

प्रसुत रोग के लिए Pratap lankeshwar ras अमृत समान औषधि है | इस रसायन से प्रसुत रोग एवं इसके कारण होने वाली कमजोरी दूर हो जाती हैं | इसके अलावा उन्माद, अतिसार, सन्निपात एवं गृहणी रोग में भी विशेष फायदेमंद है | आइये जानते हैं प्रताप लंकेश्वर रस के फायदे :-

  • यह योगवाही रसायन और ह्रदय को बल देने वाला है |
  • इसके सेवन से मानसिक रोग जैसे उन्माद आदि में फायदा होता है |
  • Pratap lankeshwar ras रक्तगत दोषों को दूर करता है |
  • यह प्रसुत रोग की रामबाण औषधि है |
  • ये औषधि गर्भाशय को शक्ति प्रदान करता है |
  • यह दीपक पाचक एवं कफ़ नाशक है |
  • Pratap lankeshwar ras गर्भ कोष्ठ को शुद्ध करता है |
  • यह गर्भाशय को शुद्ध कर दूषित रक्त को बाहर निकाल देता है |

Pratap lankeshwar ras के अनुपान एवं सेवन की विधि

प्रताप लंकेश्वर रस प्रसूता के लिए बहुत ही गुणकारी रसायन है | 2 से 4 रत्ती की मात्रा में सेवन अदरक के साथ करने से प्रसुत रोग एवं सन्निपात रोग में फायदा होता है | गिलोय रस एवं त्रिफला क्वाथ के साथ सेवन करना वात व्याधि, अर्श रोग एवं कफ़ रोग को नष्ट करता है |

प्रताप लंकेश्वर रस के नुकसान / Pratap lankeshwar ras side effects

इस रसायन में पारा, गंधक एवं अभ्रक जैसे खनिज द्रव्यों का उपयोग होता है अतः इसका इस्तेमाल हमेशा चिकित्सक की देख रेख में ही करना चाहिए | बताई गयी मात्रा से अधिक मात्रा में सेवन करने पर यह हानिकारक भी हो सकता है |

धन्यवाद !

हमारे अन्य लेख :-

प्रदरान्तक रस के फायदे क्या हैं ?

प्रदररिपु रस महिलाओं के लिए अमृत समान औषधि

सोमरोग: बेहद खतरनाक स्त्री रोग

सफ़ेद पानी की आयुर्वेदिक दवा

सफ़ेद दाग की आयुर्वेदिक दवा एवं उपचार

सन्दर्भ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You