प्रदरान्तक रस (Pradarantak ras) के फायदे एवं उपयोग की विधि |

प्रदरान्तक रस

प्रदरान्तक रस (Pradarantak ras) जैसा की नाम से ही विदीत हो रहा है महिलाओं में सभी प्रकार के प्रदर रोगों के लिए एक रामबाण औषधि है | यह नए पुराने,, श्वेत एवं लाल प्रदर, रक्त प्रदर जैसी सभी समस्याओं में उपयोगी औषधि है | प्रदर रोगों के कारण महिलाओं में दुर्बलता आ जाती है, प्रदरान्तक रस के सेवन से शरीर सबल एवं स्वस्थ हो जाता है |

प्रदरान्तक रस
प्रदरान्तक रस

इस लेख में हम महिलाओं के लिए अमृत समान उपयोगी इस औषधि के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे | इसके बारे में निम्न बातों का पता चलेगा :-

  • प्रदरान्तक रस क्या है Pradarantak ras kya hai ?
  • इसके घटक क्या हैं एवं इसे कैसे बनाया जाता है ?
  • महिलाओं के लिए यह किस तरह उपयोगी है ?
  • प्रदरान्तक रस के फायदे क्या हैं Pradarantak ras ke fayde kya hai ?
  • इस औषधि का रोगानुसार अनुपान कैसे करें ?

प्रदरान्तक रस (Pradarantak ras) क्या है, घटक एवं बनाने की विधि

महिलाओं में श्वेत प्रदर (white discharge), रक्त प्रदर एवं माहवारी की समस्या अधिकांशतः देखने को मिलती है | इन रोगों के कारण स्त्री का शरीर अत्यंत दुर्बल हो जाता है | इन रोगों में प्रदरान्तक रस एक रामबाण औषधि का काम करता है | इसमें कौड़ी भस्म, लौह भस्म, शुद्ध पारद एवं खपरिया आदि का योग होता है | आइये जानते हैं इसके घटक :-

  • शुद्ध पारद – 3 माशे
  • लौह भस्म – 3 तोला
  • बंग भस्म – 3 माशे
  • चांदी भस्म – 3 माशे
  • खपरिया – 3 माशे
  • कौड़ी भस्म – 3 माशे
  • ग्वारपाठे का रस – घोंटने के लिए

प्रदरान्तक रस कैसे बनता है ? Pradarantak ras bnane ki vidhi

इस रसायन को बनाने के लिए सर्वप्रथम पारा एवं गंधक की कज्जली बनायी जाती है | इस कज्जली में बाकि द्रवों को अच्छे से मिला लिया जाता है | इसके उपरांत इस मिश्रण को एक दिन तक ग्वारपाठे के रस में घोंटते हैं | जब यह अच्छी तरह घुट जाए तो इसकी छोटी छोटी गोलियां बना कर सुखा ली जाती हैं | इस तरह से प्ररान्तक रस (pradarantak ras) बन के तैयार हो जाता है |

प्रदरान्तक रस के फायदे
प्रदरान्तक रस के फायदे

महिलाओं के लिए प्रदरान्तक रस के फायदे एवं उपयोग

प्रदर रोगों के कारण महिलाओं शारीरिक रूप से दुर्बल हो जाती हैं | इससे कमर दर्द, पेट दर्द, हाथ पैरों में जलन, हल्का बुखार एवं भूख नहीं लगना आदि समस्याएं हो जाती हैं | इन रोगों में प्रदरान्तक रस अत्यंत फायदेमंद औषधि है | इसके सेवन से सभी प्रकार के प्रदर रोग खत्म हो जाते हैं | आइये जानते हैं इसके फायदे :-

  • सभी प्रकार के प्रदर रोगों (श्वेत प्रदर, रक्त प्रदर) में फायदेमंद |
  • शारीरिक कमजोरी दूर करता है |
  • शरीर हष्ट पुष्ट हो जाता है |
  • प्रदर रोगों से जनित अन्य समस्याओं में लाभ मिलता है |
  • गर्भाशय को पुष्ट करता है |
  • गर्भधारण में लाभदायक है |
  • महिलाओं के लिए अत्यंत उपयोगी है |

अनुपान एवं सेवन की विधि :-

इस रसायन की एक या दो गोली सुबह शाम आंवला स्वरस या मधु के साथ लें | अथवा गुड़हल पुष्प के रस के साथ सेवन करें |

  • श्वेतप्रदर में पत्रांगासव या चन्दनासव के साथ लें |
  • अन्य प्रदर रोगों में मधुकाध्यवालेह के साथ सेवन करें |

ध्यान रखें किसी भी औषधि के सेवन से पहले चिकित्सक से उचित परामर्श जरुर कर लें |

धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You