गर्भविलास तेल (Garbhvilas Tail) के गुण उपयोग एवं फायदे |

गर्भविलास तेल गर्भिणी स्त्री के लिए अमृत समान औषधि है | इसके उपयोग से गर्भ पुष्ट होता है एवं शिशु भी स्वस्थ एवं दीर्घायु होता है | आयुर्वेद औषधियों में तेल प्रकरण की औषधियां भी बहुत गुणकारी मानी जाती हैं | बाह्य शरीर के विकारों, खाज-खुजली, फोड़े, संधि शूल, जोड़ो के दर्द, किसी अंग में विकृति एवं प्रमेह रोगों में तेल बहुत कारगर औषधि साबित होते हैं |

गर्भविलास तेल (Garbhvilas Tail) क्या है, इसके घटक एवं बनाने की विधि ?

यह एक औषधीय तेल है | इसका उपयोग मुख्यतः गर्भाशय की कमजोरियों में किया जाता है | गर्भधारण के बाद इस तेल की मालिश करने से गर्भ पुष्ट होता है | इस तेल के घटक निम्न लिखित हैं :-

  • विदारीकन्द, अनार के पत्ते
  • हल्दी, हरड़
  • बहेड़ा, आंवला
  • सिंघाड़े के पत्ते, चमेली के फुल
  • शतावर, नीलकमल
  • सफ़ेद कमल
  • तिल का तेल

गर्भविलास तेल को बनाने के लिए ऊपर बतायी गयी जड़ी बूटियों को समान मात्रा में लें | इन जड़ी बूटियों का कल्क बना लें | तिल के तेल का मूर्छन कर लें | अब तिल के तेल को सिद्ध कर लें | जब यह पाक सिद्ध हो जाए तो छान कर रख लें |

गर्भविलास तेल के फायदे एवं उपयोग / Garbhvilas Tail uses and Benefits in hindi

यह तेल गर्भिणी के लिए बहुत प्रसिद्ध औषधि है | गर्भधारण के बाद का समय माता के लिए बहुत कठिन होता है | उसे तमाम तरह के कष्टों से गुजरना होता है | ऐसे में अगर गर्भाशय की कमजोरी या किसी विकार के कारण गर्भस्राव होने लग जाये तो माता के लिए यह बहुत दुखदायक होता है |

गर्भविलास तेल के फायदे
गर्भविलास तेल के फायदे

बहुत बार इन कारणों से गर्भपात हो जाता है जो माँ के लिए अत्यंत कष्टदायी होता है | इन सब विकारों से बचने के लिए गर्भविलास रस बहुत कारगर औषधि है | Garbhvilas Tail के फायदे एवं उपयोग :-

  • गर्भिणी को पेट में दर्द की समस्या बहुत कष्ट देती है |
  • ऐसी अवस्था में Garbhvilas Tail से पेट के ऊपर तथा चारों और हल्के हाथ से मालिश करने पर दर्द कम हो जाता है |
  • इस तेल से रोजाना मालिश करने पर गर्भ पुष्ट होता है |
  • यह गर्भिणी को होने वाली पीड़ा कम कर देता है |
  • इसकी लगातार मालिश से शिशु स्वस्थ एवं दीर्घायु पैदा होता है |
  • गर्भविलास तेल की मालिश गर्भिणी के लिए बहुत उपयोगी है |
  • कभी कभी योनी से खून बहने लगता हैं एवं गर्भस्राव के कारण गर्भपात का खतरा हो जाता है |
  • ऐसे में एक रुई को Garbhvilas Tail में भिगो कर योनी मार्ग द्वारा गर्भाशय के मुख पर रखें |
  • इससे गर्भस्राव बंद हो जाता है |
  • गर्भस्राव का खतरा हो तो यह प्रयोग लगातार एक सप्ताह करना चाहिए |

Garbhvilas Tail का उपयोग कैसे करें ?

इस तेल की मालिश गर्भिणी के पेट पर हलके हाथों से करनी चाहिए | गर्भस्राव रोकने के लिए रुई को भिगो कर गर्भाशय के मुख पर रखें |

गर्भविलास तेल के नुकसान एवं सावधानियां |

यह तेल सिर्फ बाह्य उपयोग के लिए है, इसका सेवन नहीं करना चाहिए | मालिश करते समय ध्यान रखना चाहिए की ज्यादा दबाव पेट पर न पड़े | इसका उपयोग आयुर्वेद चिकित्सक से सलाह लेके ही करें |

महिला स्वास्थ्य पर हमारे अन्य उपयोगी लेख :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Open chat
Hello
Can We Help You