सोमरोग (बेहद खतरनाक स्त्री रोग) के कारण, लक्षण एवं उपचार |

सोमरोग स्त्रियों में पायी जाने वाली एक भयंकर बीमारी है | इस रोग के कारण स्त्री का शरीर जर्जर हो जाता है | इस रोग में निरंतर सफ़ेद रंग का ठंडा दुर्गन्ध रहित पेशाब बार बार होता है | इस कारण धीरे धीरे शारीरिक शक्ति का ह्रास होता रहता है और कालांतर के बाद स्त्री अत्यंत दुर्बल एवं औज रहित हो जाती है |

सोमरोग के कारण
सोमरोग के कारण

इस रोग के कारण केवल शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक दुर्बलता भी हो जाती है | कभी कभी रोग की अधिकता होने पर मस्तिष्क सुना हो जाना, मूर्छा (बेहोशी) हो जाना एवं प्रलाप जैसी समस्या भी देखने को मिलती है |

सोमरोग के कारण, लक्षण एवं उपचार |

स्त्रियों में श्वेतप्रदर, रक्तप्रदर एवं सोमरोग अधिकतर देखने को मिलते हैं | इन रोगों में रक्त रसादि धातुओं का क्षय होता है जिसके कारण शरीर कमजोर हो जाता है व अनेकों समस्याएं उत्पन्न हो जाती है | सोमरोग में स्राव लगातार होता रहता इस कारण यह अधिक खतरनाक होता है | इसके कारण स्त्री का शरीर बहुत दुर्बल हो जाता है एवं वह अनेकों रोगों से गर्सित हो जाती है |

इस रोग के कारण / Causes in hindi

आयुर्वेदानुसार रजोविकार कफ़ एवं वात दोष में उत्पन्न विकार के कारण होते हैं | इसके अलावा निम्न कारणों से यह रोग हो सकता है :-

  • अनुचित खान पान के कारण |
  • अत्यधिक मैथुन के कारण |
  • मूत्राशय में विकार जैसे सुजन या इन्फेक्शन की वजह से |
  • अतृप्त कामवासना की वजह से |
  • मानसिक विकारों के कारण |
  • कब्ज, अपच एवं अजीर्ण आदि के कारण |

जानें क्या हैं इसके लक्षण / Symptoms In hindi

  • योनि से सफ़ेद ठंडा चिपचिपा तरल बार बार आना |
  • खुजली एवं जलन होना |
  • शारीरिक दुर्बलता होना |
  • अत्यधिक थकान होना |
  • भूख न लगना |
  • सर दर्द होना या चक्कर आना |

सोमरोग का आयुर्वेदिक उपचार एवं दवा |

आयुर्वेद प्रकृति का आशीर्वाद है | इस प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति में सभी रोगों के लिए उपचार एवं दवा की व्यवस्था है | आइये जानते हैं सोमरोग की कुछ विशिष्ट आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में :-

सोमरोग की आयुर्वेदिक दवा
सोमरोग की आयुर्वेदिक दवा

सोमनाथ रस से करें सोमरोग का इलाज :-

यह सोम रोग की प्रशिद्ध दवा है | सोमनाथ रस के सेवन से इस रोग में अतिशीघ्र लाभ मिलता है | इस रोग के कारण शरीर द्वारा धारण करने वाली धातुएं पेशाब के साथ निकलती रहती हैं जिससे शरीर दुर्बल हो जाता है | इस अवस्था में सोमनाथ रस बहुत लाभदायी होता है | मस्तिष्क सुन्न हो जाना, चक्कर आना, थकान रहना एवं दुर्बलता जैसे विकार इस रसायन के सेवन से नष्ट हो जाते हैं |

सोमरोग में इसकी एक एक गोली सुबह शाम बकरी के दूध के साथ सेवन करें |

सोमेश्वर रस है सोमरोग की प्रभावी दवा :-

स्त्रियों के लिए यह रसायन अमृत सामान उपयोगी है | सोमेश्वर रस को बनाने के लिए लगभद 30 प्रभावी जड़ी बूटियों का उपयोग किया जाता है |

  • यह रसायन स्त्रियों में होने वाले सभी प्रकार के रजोविकारों को नष्ट करने की क्षमता रखता है |
  • इसके सेवन वात एवं प्रमेह को तुरन्त नष्ट करता है |
  • यह दवा सोमरोग से उत्पन्न विकारों को नष्ट करके शरीर को बल प्रदान करती है |
  • इसके अलावा यह मुत्रविकार, मूत्राघात, उपदंश, अर्श रोग एवं कामला आदि के लिए भी अत्यंत उपयोगी है |
  • इसका सेवन काले तिल, केला या आंवला स्वरस के साथ करें |
  • अनुपान के रूप में ऊपर से बकरी का दूध पिने से अच्छा लाभ मिलता है |

सोमनाथ रस (बृहत) के सोमरोग में फायदे :-

इस रसायन के उपयोग से कठिन से कठिन सोमरोग भी ठीक हो सकता है | इसके अलावा सोमनाथ रस (बृहत) सभी प्रकार के प्रमेह रोगों में भी उपयोगी होता है | सोमरोग में धातुओं का प्रतिलोम क्षय प्रारंभ हो जाता है | जिसकी वजह से शरीर दुर्बल एवं रोग ग्रसित हो जाता है |

इस औषधि को प्रवाल भस्म, सितोप्लादी चूर्ण एवं शिलाजीत के साथ सेवन करने से सोमरोग एवं उसके कारण उत्पन्न विकार नष्ट हो जाते हैं |

धन्यवाद !

महिलोओं के लिए हमारे अन्य स्वास्थ्यवर्धक लेख :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You