इरिमेदादि तेल / Irimedadi Oil in Hindi

Deal Score0
Deal Score0

इरिमेदादि तेल / Irimedadi Oil : – दांतों के रोगों के लिए यह बहुत ही विश्वनीय आयुर्वेदिक तेल है | इसका कुल्ला आदि करने से मसूडों की मवाद, पीव, सडन, दांतों में कीड़े की समस्या एवं जीभ की पीड़ा आदि रोग शांत होते है |

इरिमेदादि तेल

यह मुख रोगों की बहुत ही कारगर दवा है | इरिमेदादि तेल का वर्णन विभिन्न आयुर्वेदिक ग्रंथो में प्राप्त होता है | शार्गंधर संहिता के अनुसार इसका निर्माण किया जाता है | इस तेल का गंडूष धारण करने का विधान है |

अर्थात इरिमेदादि तेल का कुल्ला करने से मुंख पाक, दांतों एवं मसूड़ों के रोग, मुंह के छाले, मवाद, मुंह की दुर्गन्ध आदि समस्याओं में आराम मिलता है |

आयुर्वेद के विभिन्न आचार्यों ने तेल का गंडूष धारण करने को मुंह के रोगों के लिए अति उत्तम बताया है | इस तेल में प्रयोग होने वाली सभी जड़ी – बूटियां वर्णरोपक, व्रणशोधन, सुजाक को ख़त्म करने वाली एवं दांतों और मसूड़ों को मजबूती प्रदान करने वाली होती है |

अत: इन रोगों में इरिमेदादि तेल का प्रयोग विशिष्ट लाभ देता है |

अब चलिए जानते है इरिमेदादि तेल के घटक द्रव्य एवं बनाने की विधि के बारे में

इरिमेदादि तेल के घटक / Ingredients of Irimedadi Oil

  • इरिमेद छाल
  • लौंग
  • गेरू
  • अगर
  • पद्म्काष्ठ
  • मंजिष्ठ
  • लोध्र
  • मुलेठी
  • लाख
  • बड की छाल
  • नागरमोथा
  • नागकेशर
  • कायफल
  • दालचीनी
  • कपूर
  • शीतल चीनी
  • खादिर्काष्ठ
  • धाय के फुल
  • छोटी इलायची
  • जायफल
  • तिल तेल
  • जल

कैसे बनता है इरिमेदादि तेल / Manufacturing Process

इरिमेदादि तेल बनाने की विधि जानने से पहले ये जानलें कि यह विधि भले ही सरल एवं सीधी लगे लेकिन फिर भी कुछ न कुछ दोष रह जाते है अत: घर पर तैयार करने के लिए किसी योग्य वैद्य या फार्मासिस्ट की सहायता लेना उचित रहता है |

दूसरा बाजार में यह बना बनाया आसानी से उपलब्ध हो जाता है | विभिन्न फार्मेसी जैसे पतंजलि इरिमेदादि तेल, बैद्यनाथ इरिमेदादि तेल, डाबर, धन्वंतरी आदि का बना बनाया मिल जाता है |

चलिए अब जानते है कि यह कैसे बनता है ?

सबसे पहले इरिमेद छाल 5 किलो लेकर इसको हल्का दरदरा कूट कर यवकूट कर लिया जाता है | अब लगभग 25 लीटर जल में मन्दाग्नि पर इसका क्वाथ बनाया जाता है | जब जल आठवां हिस्सा बचता है तव इसे छान कर अलग रख लिया जाता है |

अब बाकि बची सभी जड़ी-बूटियों को (सिर्फ कपूर को छोड़कर) कल्क रूप में तैयार किया जाता है | अब कडाही में 1.5 लीटर तिल तेल लेकर मंद आंच पर गरम किया जाता है एवं साथ ही औषधियों का तैयार कलक डालकर तेल पाक विधि से पाक किया जाता है |

अच्छी तरह पाक होने के पश्चात इसे आंच से उतार कर ठंडा कर लिया जाता है एवं कपूर को डालकर सहेज लिया जाता है |

इस प्रकार इरिमेदादि तेल का निर्माण होता है |

इरिमेदादि तेल के फायदे / Uses & Benefits of Irimedadi Oil

  • इसका उपयोग गंदुष धारण करने अर्थात मुंह में कुच्छ समय के लिए तेल को धारण करके कुल्ला करना की तरह किया जाता है |
  • इसका मुंह में फाह रखने का विधान भी है |
  • साथ ही इस तेल की मालिश का वर्णन भी प्राप्त होता है |
  • इसे दांतों की समस्याओं के लिए उत्तम तेल माना जाता है |
  • दांतों में कीड़े लगे हो तो इरिमेदादि तेल का फोहा भरकर उस दांत पर रखना चाहिए | कीड़ो की समस्या से आराम मिलता है |
  • अगर मसूड़े कमजोर या घाव आदि है तो इसका कुल्ला करवाना चाहिए | फायदा मिलता है |
  • दांत हिलते हो तो भी इरिमेदादि तेल का गंडूष या कुल्ला करवाना फायदेमंद रहता है |
  • अगर आपके दांत कड़कते है तो इरिमेदादि तेल की मालिश दांतों पर करनी चाहिए |
  • मुंह की बदबू से परेशान है तो इसका नियमित कुच्छ समय के लिए उपयोग करें | लाभ मिलेगा |
  • दांतों से पीब पड़ती हो तो भी यह तेल काफी फायदेमंद साबित होता है | उपयोग के लिए इसकी मालिश मसूड़ों पर करनी चाहिए |
  • तेल से गंडूष करने सभी प्रकार के मुख रोगों में लाभ मिलता है |

इरिमेदादि तेल की प्रयोग विधि / How to Use

इस तैल का गन्डूष धारण करने एवं मुंह में फोहा रखने के रूप में मुख्यत: प्रयोग होता है | मालिश के लिए भी तेल का यथायोग्य व्यवहार किया जाता है |

सावधानियां / Precautions

इस तेल के कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है | लेकिन इसका गंडूष धारण करते समय या मुंह में फोहा रखते समय सावधानी रखनी चाहिए कि तेल निगलना नहीं है |

आपके लिए अन्य स्वास्थ्यप्रद जानकारियां

स्तंभक जातिफलादि वटी के फायदे

कामाग्नि संदीपन रस क्या है एवं क्या काम आता है ?

काम्मोतेजना बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय क्या है ?

नपुंसकता की आयुर्वेदिक दवाएं क्या है ?

धन्यवाद ||

Ref : शा. संहिता, भैषज्य रत्नावली, आयुर्वेद सार-संग्रह
Mr. Yogendra Lochib

Mr Yogendra Lochib is a experienced and qualified Ayurveda Nurse & Pharmacist. He was Graduated (2009-2013) from Dr Sarvepalli Radhakrishnan Rajasthan Ayurved University, Jodhpur.He has Good Knowledge about Ayurvedic Herbs, Medicine, Panchkarma Procedure & Naturopathy. The Author believes in sharing the knowledge of Ayurveda (As it was shared 5000 years ago orally) using online platforms, and he is doing well.

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0
      Open chat
      Hello
      Can We Help You