अग्नितुण्डी वटी (Agnitundi Vati in Hindi)

अग्नितुण्डी वटी आयुर्वेद की शास्त्रोक्त रस – रसायन प्रकरण की दवा है | रस – रसायन प्रकरण से तात्पर्य है कि इन दवाओं का निर्माण खनिज द्रव्यों, प्राणिज द्रव्यों एवं काष्ठऔषधियों आदि के सहयोग से किया जाता है | अग्नितुण्डी वटी में शुद्ध कुचला, शुद्ध गंधक, शुद्ध पारद एवं शुद्ध सुहागा जैसे घटक द्रव्य उपस्थित है |

यह दवा पाचन तंत्र की विकृति, हृदय विकार, वात विकार के रोगों में विशेष उपयोगी है | दीपन – पाचन गुणों से युक्त होने के कारण भूख की कमी, अपच एवं आफरा जैसे रोगों में प्रयोग की जाती है |

आज इस आर्टिकल में हम अग्नितुण्डी वटी के फायदे, उपयोग, घटक, निर्माण विधि एवं सेवन की विधि का वर्णन करेंगे | यह आर्टिकल आपके ज्ञान वर्द्धन के उद्देश्य से लिखा गया है | इसका प्रयोग किसी भी रोग की चिकित्सार्थ नहीं करना चाहिए |

अग्नितुण्डी वटी

यह हम इसलिए कह रहें है क्योंकि रस औषधियों में धातु उपधातु एवं विष आदि का प्रयोग किया जाता है अत: इनका सेवन चिकित्सक के परामर्श से ही किया जाना चाहिए |

अग्नितुण्डी वटी के घटक / Ingredients of Agnitundi Vati in Hindi

इसमें लगभग 16 आयुर्वेदिक द्रव्यों का इस्तेमाल किया जाता है | यहाँ इस टेबल के माध्यम से देख सकते है |

घटक का नाम मात्रा
शुद्ध पारद 1 भाग
शुद्ध गंधक 1 भाग
शुद्ध वत्सनाभ 1 भाग
अजवायन 1 भाग
सज्जिक्षर 1 भाग
यवक्षार 1 भाग
चित्रकमुल छाल 1 भाग
सफ़ेद जीरा 1 भाग
सेंधा नमक 1 भाग
सौर्वचल नमक 1 भाग
समुद्र नमक 1 भाग
वायविडंग 1 भाग
शुद्ध सुहागा 1 भाग
हरीतकी 1 भाग
विभितकी 1 भाग
आमलकी 1 भाग
शुद्ध कुचला 16 भाग
जम्बीरी निम्बू भावनार्थ
भै.र (भैषज्य रत्नावली)

अग्नितुण्डी वटी के चिकित्सकीय उपयोग / Therapeutic use of Agnitundi Vati in Hindi

निम्न रोगों में अग्नितुण्डी वटी का प्रयोग चिकित्सार्थ किया जाता है |

  • कब्ज
  • अपच
  • अजीर्ण
  • गैस
  • पेटदर्द
  • यकृत विकार
  • दस्त
  • आंतो की कमजोरी
  • आंतो के कीड़े
  • भूख न लगना
  • आमवात

अग्नितुण्डी वटी के फायदे / Health Benefits of Agnitundi Vati in Hindi

यह दवा दीपन एवं पाचन गुणों वाली है | शरीर में अतिरिक्त वात को नष्ट करती है | इसका प्रभाव स्नायुमंडल, वातवाहिनी और मूत्रपिण्ड पर विशेष होता है | साथ ही मन्दाग्नि, आफरा, प्रमेह जैसे विकारों में फायदेमंद है |

  • यकृत में विकार होने से जठराग्नि मंद हो जाती है | ऐसे में निम्बू के साथ अग्नितुण्डी वटी का इस्तेमाल करने से मन्दाग्नि की समस्या दूर होती है |
  • अगर भूख नहीं लगती हो, पेट में भारीपन एवं कठोरता हो तो अग्नितुण्डी वटी का सेवन फायदेमंद रहता है | यह दीपन एवं पाचन गुणों वाली होने के कारण भूख को बढाती है एवं कफादी दोषों का शमन भी करती है |
  • अग्नितुण्डी वटी को अजवायन अर्क के साथ सेवन करवाने से यकृत के विकारों में लाभ मिलता है |
  • कफ के कारण होने वाले पेट के विकारों में अग्नितुण्डी वटी को महारास्नादी क्वाथ के साथ सेवन करवाने से फायदा मिलता है |
  • दीपन एवं पाचन होने के कारण पाचन तंत्र के विकारों के लिए यह फायदेमंद औषधि है |
  • यह दवा हृदय को बल देती है | वातवाहिनी नाड़ियों एवं स्नायुमंडल पर इस दवा का विशेष प्रभाव होता है |
  • पुराने ज्वर के कारण आई कमजोरी में भी लाभदायक है | इसके सेवन से शरीर में ताकत आती है एवं कमजोरी दूर होती है |
  • यह पचाकाग्नी को प्रदीप्त करती है | निम्बू स्वरस के साथ 1 -1 गोली का सेवन करने से पाचन तंत्र सुधरता है |
  • प्रमेह रोग जैसे स्वप्नप्रमेह (स्वप्नदोष) में भी यह फायदेमंद औषधि है |
  • यकृत वृद्धि में अग्नितुण्डी वटी 1 गोली एवं वज्रक्षार चूर्ण 1 माशा सेवन करने से रोग में काफी लाभ मिलता है |

सेवन विधि / Doses

इसका सेवन 1 – 1 गोली सुबह शाम गर्म जल के साथ करना चाहिए | इस दवा में कुचला एवं वत्सनाभ जैसे द्रव्य है , अत: इसका सेवन बैगर वैद्य परामर्श नहीं करना चाहिए | रसायन प्रकरण की दवा होने के कारण वैद्य परामर्श आवश्यक है |

नुकसान / Side Effects

अग्नितुण्डी वटी में विष द्रव्य की उपस्थिति होती है | अत: लम्बे समय तक सेवन करने से नुकसान हो सकते है | इसमें कुचला अंश विशेष है अत: अधिक मात्रा में सेवन करने या लम्बे समय तक नियमित सेवन करने के कारण शरीर में दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते है |

इसका सेवन बैगर आयुर्वेदिक वैद्य नहीं करना चाहिए | सेवन के मामले में 7 से 15 दिन से अधिक नियमित सेवन नहीं किया जाना चाहिए |

अग्नितुण्डी वटी के बारे में सामान्य सवाल – जवाब / FAQ

अग्नितुण्डी वटी के क्या गुण एवं उपयोग है ?

यह दीपन, पाचन एवं वात नाशक है | स्नायुमंडल, मुत्रपिंड एवं वात वाहिनी नाड़ी पर इसके विशेष असर होता है | अपच, अजीर्ण, आफरा, स्वप्नदोष एवं यकृत विकारों में उपयोगी है |

अग्नितुण्डी वटी की प्राइस क्या है ?

Baidyanath Agnitundi Vati Price – Rs 110, Dhootpapeshwar Agnitundi Vati Price – Rs 55

कितने दिन तक सेवन किया जा सकता है ?

इसका सेवन नियमित लम्बे समय तक सेवन नहीं करना चाहिए | 7 दिन तक नियमित सेवन करने के पश्चात कुच्छ समय अंतराल के बाद फिर से शुरू कर सकते है | वैद्य परामर्श आवश्यक है |

धन्यवाद ||

आपके लिए अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां

खदिरारिष्ट के फायदे एवं उपयोग

अशोकारिष्ट के लाभ

कुमारी आसव के स्वास्थ्य लाभ

द्राक्षारिष्ट के फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार

स्वदेशी उपचार में आपका स्वागत है | कृप्या पूरा लेख पढ़ें अगर आपका कोई सवाल एवं सुझाव है तो हमें whatsapp करें

Holler Box