Advertisements

जानें योग के द्वारा जीवन जीने की कला

Advertisements

योग का नाम सुनते ही हमारे दिमाग में कुछ आसन, प्राणायाम, क्रियाएं एवं सांसो का उतार चढाव आदि दृश्य आने लगते है | लेकिन क्या ये कुछ आसन एवं क्रियाएं ही योग है ?

योग क्या है
yoga

जी बिल्कुल नहीं ! अगर आप ऐसा सोचते है तो निश्चिंत ही आप गलत है | हमें गर्व होना चाहिए कि सम्पूर्ण विश्व में प्रतिवर्ष 21 जून को मनाया जाने वाला योग दिवस हम भारतियों की ही देन है |

योग इन आसनों एवं क्रियाओं से कंही अधिक है | अगर व्यक्ति योग को जीवन में अजमाए तो इसे शुद्द जीवन जीने की कला या आधार कह सकते है |

गीता में कहा गया है कि ” योग स्वयं की स्वयं के माध्यम से स्वयं तक पहुँचने की यात्रा है” | इस सूत्र अर्थात कथन में योग का सम्पूर्ण सार छिपा है | इसे आप एक पूर्ण अध्यात्मिक विज्ञानं, चिकित्सा शास्त्र एवं जीवन शास्त्र कह सकते है |

योग के कुछ आसन एवं क्रियाएं आदि तो मात्र इसकी सतही सीमाएं है | इसका मुख्य उद्देश्य तो शुद्ध सात्विक जीवन जीते हुए आत्मा से परमात्मा होना है | इसे आत्मसात करके जीवन – जीने की शुद्ध सात्विक कला को जाना जा सकता है |

कैसे योग से जीवन जीने की कला सीख सकते है

सबसे पहले यह जान लेना चाहिए कि योग सभी धर्मो से ऊपर है | यह किसी एक धर्म का विशेष अवयव नहीं है | इसे धार्मिक मानना एवं बनाना दोनों की गलत सोच का परिणाम है | जीवन जीने की कला के रूप में योग को समझने के लिए इस उदाहरण को आप देख सकते है |

1 . मानव अवस्था

मानव शरीर की एक अवस्था है कि जैसा हम सोचते है वैसा ही घटित होता है | उदाहरण के लिए अगर हमें अधिक क्रोध आता है तो आप देखेंगे की शरीर भी वैसी ही क्रियाएं करने लगता है | आँखे लाल हो जाती है, इनकी भोंहे तन जाती है | व्यक्ति का रक्त संचार बढ़ जाता है | व्यक्ति की उर्जा अनावश्यक रूप से नष्ट होने लगती है | वह मानसिक तनाव का रोगी हो जाता है |

इस प्रकार से उसकी सामाजिक छवि भी बिगड़ जाती है | उसे कोई पसंद नहीं करता | अपनी कमजोरियों के लिए वह नशे की तरफ बढ़ जाता है | नशे से पारिवारिक कलेस, धन की हानि एवं समाज में घ्रणित हो जाता है | इस प्रकार से व्यक्ति अपनी जिंदगी को जीते जी नरक बना लेता है |

योग कहता है कि तुम जैसे भी हो अन्दर से शुद्ध एवं स्पष्ट हो | अपनी आदतों को सुधारों जीवन जीने की सही कला सीखो | अपनी बुरी आदतों को छोड़ दो | शरीर एवं आत्मा के स्वास्थ्य के लिए मेहनत करो | सभी से प्रेम करो, क्रोध, लोभ, मोह एवं माया से छुटकारा पाओ | किसी से अपेक्षाएं मत रखो एवं स्वयं को जानो |

अब तुम देखोगे की जैसे ही तुमने इन्हें आत्मसात किया | सब कुछ बदला – बदला लग रहा है | किसी पर क्रोध करने का कोई कारण विद्यमान नहीं है | तुम्हे सारा संसार शांत दिखाई पड़ेगा | धीरे – धीरे अध्यात्म में रूचि बढ़ेगी एवं मोक्ष को प्राप्त होवोगे |

2. ‘यथा पिंडे तथा ब्रह्मांडे’

‘यथा पिंडे तथा ब्रह्मांडे’ यह कथन उपनिषद में कहा गया है | इस छोटे से कथन में गूढ़ बाते छिपी है | इस कथन का तात्पर्य है कि हमारा शरीर ब्रह्माण्ड की अभिव्यक्ति ही है , अर्थात मनुष्य शरीर को छोटा ब्रह्माण्ड माना जा सकता है | क्योंकि जो शक्तियां एवं तत्व ब्रह्माण्ड का निर्माण करते है उन्ही शक्तियों एवं तत्वों से मनुष्य शरीर का निर्माण होता है |

अब हम देखते है कि पृथ्वी का वातावरण असंतुलित एवं दूषित होता जा रहा है | इससे हमारा ब्रह्माण्ड भी बीमार हो गया है | कहीं प्राकृतिक विपदाएं आ रही है तो कंही कुछ अन्य घटनाएँ घटित हो रही है | इसी प्रकार से गलत आहार – विहार से हमारा ब्रह्माण्ड रूपी शरीर एवं आत्मा भी अस्वस्थ हो गए है |

अगर शुद्ध सात्विक आहार – विहार करते हुए संतुलित जीवन जीया जाए एवं योग को आत्मसात किया जाये तो व्यक्ति अपने जीवन को निरोगी एवं सफल बना सकता है |

आप सभी रीडर्स को “21 जून योग दिवस” की हार्दिक शुभकामनाएं |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

नमस्कार

स्वदेशी उपचार में आपका स्वागत है | कृप्या पूरा लेख पढ़ें अगर आपका कोई सवाल एवं सुझाव है तो हमें whatsapp करें

Holler Box