द्राक्षारिष्ट – बनाने की विधि एवं इसके स्वास्थ्य लाभ या फायदे

द्राक्षारिष्ट / Draksharishta 

आयुर्वेद में इसे उत्तम बलशाली औषधि माना जाता है | यह सामान्य विकृति के साथ श्वसन सम्बन्धी सभी विकारों में बेहद लाभदायक औषधि साबित होती है | भूख न लगना, शारीरिक कमजोरी, कब्ज, शारीरक थकावट, नींद की कमी आदि समस्याओं में लाभदायक होती है |

श्वसन सम्बन्धी विकार जैसे – अस्थमा, जुकाम, टी.बी., खांसी एवं श्वसन मार्गों के संक्रमण को दूर करने के साथ – साथ श्वसन मार्गों के सुजन को भी कम करने में लाभदायक होती है |

द्राक्षारिष्ट

द्राक्षारिष्ट को एक आयुर्वेदिक टॉनिक के रूप में भी जाना जाता है | यह श्वसन एवं पाचन को ठीक करने में कारगर होती है | टॉनिक स्वरुप यह बीमारी के बाद आई कमजोरी एवं थकावट को दूर करने में लाभदायक होती है | आयुर्वेद चिकित्सा में इसे पाचन सुधारने, श्वसन विकार, खांसी, दमा, शारीरक कमजोरी, नींद की कमी, थकावट एवं अरुचि में प्रयोग प्रमुखता से प्रयोग किया जाता है |

इस आयुर्वेदिक सिरप का मुख्या घटक द्राक्षा है , इसके अलावा द्राक्षारिष्ट के निर्माण में 10 अन्य घटक द्रव्य पड़ते है |

द्राक्षारिष्ट के घटक द्रव्य

  1. द्राक्षा (मुन्नका)  – 2.400 किग्रा.
  2. गुड    – 9.600 किग्रा
  3. धातकी पुष्प – 240 ग्राम
  4. इलायची – 48 ग्राम
  5. मरिच (कालीमिर्च) – 48 ग्राम
  6. पिप्पली – 48 ग्राम
  7. विडंग – 48 ग्राम
  8. दालचीनी – 48 ग्राम
  9. तेजपता – 48 ग्राम
  10. प्रियंगु – 48 ग्राम
  11. नागकेशर – 48 ग्राम

क्वाथ निर्माण के लिए जल – 24.576 लीटर (क्वाथ निर्माण के बाद अवशिष्ट जल – 6.144 लीटर)

द्राक्षारिष्ट बनाने की विधि

सबसे पहले जल में द्राक्षा को डालकर मन्दाग्नि पर क्वाथ निर्माण किया जाता है | जब जल एक चौथाई बचे तब इसे निचे उतार कर ठंडा कर लिया जाता है |

अब क्वाथ में स्थित मुन्नका को अच्छी तरह मसल कर छान लिया जाता है | इस क्वाथ जल को संधान पात्र में डालकर इसमें गुड मिलाया जाता है एवं गुड को जल में अच्छी तरह घोल लिया जाता है | अंत में धातकी पुष्प एवं प्रक्षेप द्रव्यों (बाकि बचे औषध द्रव्य) को डालकर , संधान पात्र को अच्छी तरह ढक देते है |

अब इस संधान पात्र को निर्वात स्थान पर महीने भर के लिए रखा जाता है | एक महीने भर बाद इसका संधान परिक्षण विधि द्वारा परिक्षण किया जाता है | सफल होने पर इसे छान कर बोतलों में भर लिया जाता है | संधान परिक्षण करने की दो विधिय होती है एवं दोनों ही परिक्षण के लिए उपयोग में ली जाती है |

एक विधि में संधान पात्र में कान लगाकर सुना जाता है जिसमे संधान पात्र से सन – सन की आवाज आना बंद हो जाने पर संधान हुआ माना जाता है | दूसरी विधि में पात्र में जलती हुई तीली ले जाई जाती है अगर तीली जल रही है तो इसे उचित संधान माना जाता है |

द्राक्षारिष्ट के फायदे या स्वास्थ्य उपयोग

इसमें एंटीओक्सिडेंट गुण, पाचन , दीपन एवं बल्य गुण होते है | अत: विभिन्न प्रकार के रोगों में इसका उपयोग किया जाता है | आयुर्वेद में इसका निम्न रोगों के चिकित्सार्थ उपयोग किया जाता है |

  • श्वसन विकारों में
  • अस्थमा के साथ शारीरक कमजोरी
  • टी.बी.
  • खांसी
  • कफ विकार
  • भूख की कमी
  • नींद न आना
  • रोग के कारण आई कमजोरी
  • शारीरक थकावट
  • हल्की कब्ज
  • खून की कमी (Anemia)
  • शारीरक कमजोरी के कारण चक्कर आना
  • सिर दर्द
  • इन्फ्लुएंजा
  • निमोनिया आदि

सेवन की मात्रा – 20 से 30 मिली. सुबह एवं शाम भोजन के पश्चात समान मात्रा में जल मिलाकर या चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन करना चाहिए |

द्राक्षारिष्ट के नुकसान

अगर निर्देशित मात्रा में सेवन किया जाए तो इस दवा के कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते | वैसे द्राक्षारिष्ट में स्वयम निर्मित लगभग 12 % अल्कोहल होती है लेकिन यह प्राकृतिक अल्कोहल दुष्प्रभाव रहित होती है | क्योंकि आयुर्वेद की अरिष्ट कल्पनाओं से निर्मित सभी दवाओं में अल्कोहल होती है जो इन्हें रोग में तीव्र प्रभावी बनाती है |

निर्देशित मात्रा से अधिक सेवन करने पर हल्के दस्त की शिकायत हो सकती है |

द्राक्षासव और द्राक्षारिष्ट में अंतर 

द्राक्षासव और द्राक्षारिष्ट में अंतर

इन दोनों औषधियों में अधिक अंतर नहीं होता | इनका मुख्य घटक द्रव्य द्राक्षा ही होता है | बस निर्माण की विधि थोड़ी भिन्न होती है | द्राक्षासव का निर्माण आसव विधि द्वारा एवं द्राक्षारिष्ट का निर्माण अरिष्ट कल्पना के तहत होता है एवं अंतर के आधार पर इनके कुच्छ औषध द्रव्य भी भिन्न होते है |

Buy at Amazon Best Quality Dhutpapeshwar Drakshavin

धन्यवाद |

Related Post

खून साफ करने के लिए चमत्कारिक रक्त शोधक क्वाथ... खून साफ करने के लिए चमत्कारिक रक्त शोधक क्वाथ खून की खराबी त्वचा विकारों एवं अन्य कई शारीरिक समस्याओं की जननी होती है | गलत आहार - विहार के सेवन एवं ...
चंद्रभेदी प्राणायाम – विधि , लाभ और सावधानिय... चंद्रभेदी प्राणायाम प्राणायाम शारीरिक और मानसिक रूप से मनुष्य स्वास्थ्य प्रदान करता है | इससे पहले आपने प्राणायाम के प्रकारों में सूर्यभेदी प्राणायाम...
इलायची / Elaichi – इलायची के इन घरेलु प्रयो... इलायची / Elaichi इलायची से आप सभी परिचित है | भारतीय रसोई में इसकी विशिष्ट महता है | इसे मसाले या माउथ फ्रेशनर के रूप में काम में लिया जाता है | वैसे...
मूसली पाक (Musli Pak) – बनाने की विधि (भैषज्... मूसली पाक (Musli Pak) मूसली पाक - मूसली एवं अन्य द्रव्यों के पाक विधि से तैयार करने से मूसली पाक का निर्माण होता है | इसमें प्रमुख औषध द्रव्य मूसली ह...
Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.