त्रिवंग भस्म (Trivang Bhasma) के घटक, फायदे एवं बनाने की विधि |

Deal Score0
Deal Score0

आयुर्वेद में भस्म परिकल्पना का बहुत महत्व है | अभ्रक भस्म, त्रिवंग भस्म, स्वर्ण भस्म, गोदंन्ति भस्म एवं वंग भस्म आदि का उपयोग दवा के रूप में किया जाता है | त्रिवंग भस्म के बारे में बात करने से पहले भस्म के बारे में जान लेना जरुरी है | आइये जानते हैं :-

त्रिवंग भस्म
त्रिवंग भस्म

भस्म क्या होती है या भस्म किसे कहते हैं ?

आयुर्वेद में खनिजो के निस्तापन से प्राप्त होने वाली औषधियों को भस्म कहते हैं | धातुओं का शोधन करके एवं उन्हें उच्च ताप पर जला कर भस्म का निर्माण किया जाता है | हर भस्म के निर्माण की प्रक्रिया अलग हो सकती है | भस्म बहुत गुणकारी आयुर्वेदिक औषधि होती है | लेकिन इनका सेवन चिकित्सक की सलाह से ही करना चाहिए |

यह भी पढ़ें :- गोदंती भस्म के फायदे एवं नुकसान !

त्रिवंग भस्म क्या है ? What is Trivang Bhasma ?

यह भस्म तीन धातुओं सीसा (नाग), वंग एवं जस्ता के मिश्रण से बनाई जाती है | तीन धातुओं के मिश्रण के कारण इसे त्रिवंग भस्म बोला जाता है | यह वीर्य वर्धक, स्त्रीरोग हर एवं मधुमेह जैसे रोगों में बहुत गुणकारी औषधि का काम करती है |

त्रिवंग भस्म बनाने की विधि एवं आवश्यक द्रव्य या घटक |

भस्म निर्माण के लिए उपयोग में ली जाने वाली धातु शुद्ध एवं उत्तम गुणों वाली होनी चाहिए | त्रिवंग भस्म बनाने के लिए आवश्यक सामग्री या घटक :-

  • शुद्ध नाग (सीसा)
  • शोधित वंग
  • शुद्ध जस्ता
  • भांग एवं अफीम पोस्त
  • ग्वारपाठे का रस

त्रिवंग भस्म के निर्माण की विधि :-

  • तीनो धातुओं को शोधित करके उनको समभाग में लेकर मिश्रण बना लें |
  • इस मिश्रण को लोहे की कडाही में डाल कर तेज आंच पर पतला कर लें |
  • अब इसमें भांग एवं अफीम के पोस्ट का चूर्ण मिलाकर लोहे की करछी से चलाते रहें |
  • जब तीनो धातु सुखकर चूर्ण रूप में आ जाएँ तो कड़ाही को ढक दें |
  • इसे अब खूब तेज आंच से 12 घंटे तक जलाएं |
  • 12 घंटे बाद आंच बंद करके ठंडा होने दें |
  • स्वांग शीतल होने पर ग्वार पाठे के रस में मर्दन करें एवं टिकिया बना लें |
  • अब इसे लघुपुट में फूंक दें इसके कम से कम 7 पूट दें |
  • इस प्रक्रिया से पीले रंग की भस्म तैयार हो जाती है |

जाने त्रिवंग भस्म के उपयोग एवं फायदे Uses and Benefits of Trivang Bhasma

आयुर्वेद में त्रिवंग भस्म का बहुत महत्व है | स्त्री एवं पुरुष दोनों के लिए ही यह भस्म गुणकारी है | स्त्रियों में गर्भस्राव, श्वेत प्रदर एवं मधुमेह की समस्या में यह अत्यंत उपयोगी है | ऐसे ही पुरुषों में विर्यवर्धन एवं नशों की कमजोरी को दूर करने के लिय इसका उपयोग किया जाता है | आइये जानते हैं त्रिवंग भस्म के फायदे एवं उपयोग :-

  • प्रमेह विकार में यह भस्म बहुत उपयोगी है |
  • मधुमेह में त्रिवंग भस्म का सेवन करने से लाभ मिलता है |
  • पुराने मधुमेह से रोगी को फोड़े फुंसी होने पर यह बहुत असरदार है |
  • त्रिवंग भस्म वीर्य वर्धक है |
  • शिघ्रस्खलन या शीघ्रपतन में इसका सेवन करने से तुरंत लाभ मिलता है |
  • लिंग की नशों में तनाव कम होने पर इसका सेवन करें यह नशों में ताकत भर देती है |
  • स्त्रियों में गर्भविकारो में यह बहुत लाभ देती है |
  • श्वेत प्रदर में इसका सेवन करने से लाभ मिलता है |
  • गर्भस्राव एवं गर्भाशय की कमजोरी में बहुत असरदार है |
  • त्रिवंग भस्म के सेवन से शुक्राणु की कमी दूर हो जाती है |
  • यह वीर्य को गाढ़ा करती है |
  • नपुंसकता में मख्खन या मलाई के साथ इसका सेवन करें |

त्रिवंग भस्म के उपयोग या सेवन की मात्रा :- एक से दो रत्ती दिन में दो बार शहद या मलाई के साथ सेवन करें | ध्यान रखे इसका सेवन चिकिस्तक की देखरेख में ही करें |

यह भी पढ़े :- शुक्राणु बढाने वाली 35 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां !

जाने Trivang Bhasma के नुकसान (Precautions of Trivang Bhasma)

आपने त्री वंग भस्म के फायदों के बारे में जान लिया, अब बात करते हैं इसके गलत या ज्यादा इस्तेमाल से शरीर पर होने वाले नुकसान के बारे में | किसी भी भस्म का उपयोग चिकित्सक की देखरेख में ही करना चाहिए एवं बतायी गयी सभी सावधानिया बरतनी चाहिए | आइये जानते हैं इसके नुकसान एवं सावधानिया :-

  • गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन बिलकुल न करें |
  • बहुत ज्यादा समय तक सेवन करने से शरीर पर इसके विषाक्त प्रभाव हो सकते हैं |
  • बच्चो को इसका सेवन नहीं कराना चाहिए |
  • स्तनपान कराने वाली माँ को इसका सेवन नहीं करना चाहिये |
  • त्रिवंग भस्म का सेवन चिकित्सक की सलाह से ही करें |

जानें स्तनपान क्या है एवं इसके फायदे |

पतंजलि त्रिवंग भस्म पाउडर (Patanjali Trivang Bhasma Powder uses, Mrp and benefits)

दिव्य फार्मेसी की पतंजलि त्रिवंग भस्म पाउडर उच्च क्वालिटी की भस्म है | इसे आप ऑनलाइन या पतंजलि की दुकान से खरीद सकते हैं | यह भस्म महिला एवं पुरुषों में वीर्य विकारों एवं जननांगो की दुर्बलता के लिए उत्तम औषधि है | आइये जानते हैं इसके बारे में :-

Patanjali trivang Bhasma :-

  • उपयोग (Uses) :- महिला गर्भाशय विकारों में, पुरुषों के लिए वीर्य विकारों में, डायबिटीज में, श्वसन विकारों में |
  • मात्रा (Quantity) :- यह 5 ग्राम के पैक में उपलब्ध है |
  • कीमत (Patanjali Trivang Bhasma Price) :- 23 रुपये में उपलब्ध है |
  • फायदे (Key Benefits) :- शीघ्रपतन, वीर्य दुर्बलता, बार बार गर्भपात, डायबिटीज, मूत्र विकार |

डाबर वंग भस्म उपयोग एवं फायदे Dabur Vang Bhasma Uses and key Benefits

यह भस्म जानी मानी आयुर्वेदिक कंपनी डाबर का प्रोडक्ट है | यह अस्थमा, शीघ्रपतन, डायबिटीज एवं एनीमिया के लिए उपयुक्त औषधि है | ध्यान दे यह सिर्फ वंग भस्म है न की त्रिवंग यानी इसमें सिर्फ वंग (टिन) धातु का उपयोग किया गया है | आइये जानते हैं डाबर वंग भस्म के बारे में :-

Dabur vang bhasma
Dabur vang bhasma

डाबर वंग भस्म (Dabur Vang Bhasma) :-

  • उपयोग (Dabur Vang Bhasma Uses) :- त्वचा विकारों में, शीघ्रपतन, डायबिटीज, कफ विकार, अस्थमा आदि |
  • मात्रा :- यह 5 ग्राम के पैक में आती है |
  • कीमत (Dabur Vang Bhasma price) :- यह 67 रुपये में उपलब्ध है |
  • फायदे (Benefits) :- वीर्य गाढ़ा करती है, शीघ्रपतन में लाभदायी है, कफ एवं त्वचा विकारो में उपयोगी है |

धूतपापेश्वर त्रिवंग भस्म के फायदे (Dhootpapeshwar Trivang Bhasma)

प्रतिष्ठित आयुर्वेद उत्पाद बनाने वाली कंपनी धूतपापेश्वर द्वारा निर्मित यह भस्म बहुत उपयोगी है | इस भस्म को बनाने में उपयोग लिए गए घटक शुद्ध एवं उच्च क्वालिटी के हैं जो इसे अत्यंत उपयोगी बनाते हैं | आइये जानते हैं धूतपापेश्वर त्रिवंग भस्म के बारे में :-

dhootpapeshwar trivang bhasma
dhootpapeshwar trivang bhasma
  • उपयोग (Uses) :- मूत्र विकार, जननांगो की दुर्बलता, वीर्य का पतलापन, शीघ्रपतन |
  • मात्रा :- यह कैप्सूल फॉर्म में है, एक पैक में 30 कैप्सूल हैं |
  • Dhootpapeshwar Trivang Bhasma Price :- 110 रूपए |
  • फायदे (benefits) :- डायबिटीज, शीघ्रपतन, यौन कमजोरी, अस्थमा, त्वचा विकारो एवं मूत्र विकारो में लाभ देती है |

बैद्यनाथ त्रिवंग भस्म के उपयोग एवं फायदे (Baidyanath trivang Bhasma Benefits)

यह भस्म विश्वसनीय आयुर्वेदिक उत्पाद बनाने वाली कंपनी बैदनाथ द्वारा बनाई गयी है | एक बहुत ही उपयोगी आयुर्वेदिक औषधि है | आइये जानते हैं Baidyanath Trivang Bhasma के उपयोग एवं फायदे क्या हैं ?

Baidyanath trivang bhasma
  • उपयोग (Uses) :- गर्भधारण की समस्या, बार बार गर्भपात, मर्दाना ताकत, डायबिटीज |
  • मात्रा (Quantity) :- 10 ग्राम |
  • Price :- 284 रुपए |
  • फायदे (Baidyanath Trivang Bhasma Key Benefits) :- पुरुषों में यौन कमजोरी को दूर करती है, महिलाओं में गर्भधारण की समस्या में उपयोगी है एवं डायबिटीज में फायदेमंद है |

जानें :- बार बार गर्भपात का इलाज |

यहाँ पर दी गयी जानकारी आपके ज्ञानवर्धन के लिए है | किसी भी दवा या भस्म का सेवन करने से पहले डॉक्टर की उचित सलाह अवश्य लें |

धन्यवाद !

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0