दाह रोग क्या है ? जानें इसकी चिकित्सा एवं प्रकार

दाह रोग से तात्पर्य शरीर में किसी अंग या सम्पूर्ण शरीर में होने वाली जलन से है | इसे सामान्य भाषा में जलन कहा जाता है |

आयुर्वेद अनुसार जब भिन्न – भिन्न कारणों से पित्त कुपित होकर हाथ, पैरों के तलवे, आँखों या पुरे शरीर में जलन पैदा करता है तो यह दाह रोग कहलाता है |

अधिक तेलीय, मिर्च मसाले, गरम मसाले, पित्त वर्द्धक आहार आदि का अत्यधिक सेवन करने से पित्त प्रकुपित होकर जलन पैदा करता है |

यह शरीर के किसी एक अंग में हो सकती या पुरे शरीर में भी हो सकती है |

आयुर्वेद में दाह रोग के 7 प्रकार मानें है

  1. पित्त दाह
  2. रक्तदाह
  3. रक्तपूर्ण कोष्ठ दाह
  4. प्यास के कारण दाह
  5. मद्य दाह
  6. धातु क्षयज दाह
  7. मर्माभिघातज दाह

अब जानें इन 7 प्रकार के दाह का संक्षिप्त विवरण ताकि आप दाहरोग को और अधिक जान सकें |

पित्त दाह – यह एक गर्मी की बीमारी है | पित्त के दाह में पित्त ज्वर के समान लक्षण होते है | इसलिए इसकी चिकित्सा भी पित्त ज्वर की तरह करनी चाहिए |

रुधिर दाह के लक्षण – शरीर में जब खून बहुत अधिक मात्रा में बढ़ जाये तो यह भी जलन का एक कारण बनता है | शरीर में स्थित खून जब कुपित होता है तो दाह रोग पैदा करता है | ऐसा होने पर रोगी को सारा संसार जलता हुआ प्रतीत होता है |

रोगी को प्यास बहुत लगती है | दोनों आँखे और सारा शरीर लाल हो जाता है |

रक्तपूर्ण कोष्ठ दाह – किसी शस्त्र आदि से चोट लगने पर जब घाव हो जाते है | एवं घाव से अत्यंत मात्रा में खून निकलता है तो रोगी को दाह होने लगती है | ऐसे रोगी को महा दुस्तर प्रकार की जलन होती है | इसमें सद्योव्रण जैसे लक्षण प्रकट होते है | अत: चिकित्सा भी सद्योव्रण के जैसी करनी चाहिए |

मद्य दाह – अधिक शराब पीने से पित्त कुपित हो जाता है | उस कुपित पित्त की गर्मी शरीर में जलन पैदा करती है | इस प्रकार की दाह की चिकित्सा पित्त चिकित्सा की तरह की जाती है |

धातुक्षय दाह – रस, रक्त आदि धातुओं का ह्रास होने से भी दाह रोग पैदा होता है |

मर्माभिघातज – शरीर के कोमल स्थानों पर चोट लगने से जो जलन होती है वह मर्माभिघातज दाह में आती है | कोमल स्थान जैसे – मष्तिष्क, हृदय, जननांग, मूत्राशय आदि |

प्यास रोकने के दाह के लक्षण – पानी कम पीने या न पीने के कारण शरीर की पतली धातुएं क्रमश: कम हो जाती है | रोगी का गला, तालु, होठ आदि सुख जाते है | शरीर में जलन पैदा होती है |

दाह रोग को ठीक करने के घरेलु नुस्खे

  • दूध में चन्दन आदि शीतल द्रव्यों का काढ़ा मिलाकर सेवन करने से दाह रोग में आराम मिलता है |
  • चन्दन की तरह अन्य शीतल द्रव्यों का सेवन भी दाह में फायदेमंद रहता है |
  • इस रोग में रोगी को लंघन करके शीतल आहार – विहार का सेवन करना चाइये | हल्का भोजन करना चाहिए
  • पाचन को सुधारकर वमन – विरेचन करवाके रोगी के पेट को साफ करना चाहिए |
  • जौ के सत्तू का लेप करने से दाह शांत हो जाती है |
  • अनार एवं इम्मली को एक साथ पीसकर शरीर पर लगाने से दाह शांत हो जाती है |
  • चन्दन का लेप शरीर पर करना चाहिए |
  • पित्त को शांत करने के लिए कमल जल, शर्बत , मिश्री मिला ठंडा दूध और इम्मली का रस पीना लाभदायक होता है | इससे पित्त साम्यवस्था में आकर दाह ठीक हो जाती है |
  • धनिये को रात में चन्द्रमा की रोशनी में पानी में भिगोकर रातभर के लिए छोड़ दें | सुबह छान कर सेवन करें | यह अत्यंत शीतलता देने वाला प्रयोग है |
  • सौंफ को रात्रि में किसी मिटटी की हांड़ी में पानी में भिगो दें | सुबह मिश्री मिलाकर एवं सौंफ को पीसकर जल के साथ सेवन करें |
  • गिलोय रस का सेवन भी पित्तज व्याधियों में लाभदायक होता है | इसका सेवन करने से सभी प्रकार की जलन ठीक होती है |
  • चंदनादि क्वाथ, कांजिक तेल, दाहांतक क्वाथ, त्रिफ़लादि क्वाथ आदि का सेवन फायदेमंद रहता है |

धन्यवाद |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

जानें आहार के 15 नियम हमेंशा इनका पालन करके ही आहार ग्रहण करना चाहिए

प्रत्येक व्यक्ति के लिए ये नियम लागु होते है इन्हें सभी को अपनाना चाहिए पढ़ें अधिक 

Open chat
Hello
Can We Help You