पुनर्नवा मंडूर कैसे बनता है एवं इसके क्या फायदे है ? घटक द्रव्य और उपयोग

Deal Score0
Deal Score0

पुनर्नवा मंडूर आयुर्वेद की शास्त्रोक्त औषधि है |जिसका निर्माण शोद्धित मंडूर एवं पुनर्नवा सहित 18 औषध द्रव्यों के सहयोग से किया जाता है | यहाँ हमने इस दवा की निर्माण विधि, घटक द्रव्य एवं फायदों के बारे में विस्तृत रूप से वर्णन किया है | प्लीहा एवं यकृत की वृद्धि एवं सुजन में इस दवा प्रमुखता से उपयोग किया जाता है | पांडू (एनीमिया), मन्दाग्नि एवं अर्श आदि रोगों में भी आयुर्वेद चिकित्सा के अनुसार इसका सेवन करवाया जाता है | 

पुनर्नवा मंडूर
पुनर्नवा मंडूर

शरीर में पानी की मात्रा बढ़ने एवं सुजन और पीलेपन में भी पुनर्नवा मंडूर का आयुर्वेदिक चिकित्सक व्यवहार करते है | यह बढ़ें हुए स्प्लीन एवं लीवर को ठीक करती है और साथ ही एनीमिया, पीलिया, बवासीर एवं अर्श जैसे रोगों में प्रयोग करवाई जाती है | इस दवा के निर्माण में पुनर्नवा एवं मंडूर मुख्य द्रव्य होते है, इसी कारण इसे पुनर्नवा मंडूर नाम से जाना जाता है |

पुनर्नवा मंडूर के घटक द्रव्य क्या है ?

इसमें पुनर्नवा, सफ़ेद निशोथ, पीपर, सोंठ आदि कुल 19 आयुर्वेदिक द्रव्यों का इस्तेमाल किया जाता है | पुनर्नवा एवं मंडूर इसके मुख्य घटक कहे जा सकते है |

  1. पुनर्नवा
  2. सफ़ेद निशोथ
  3. पीपर
  4. सोंठ
  5. कालीमिर्च
  6. वाय विडंग
  7. देवदारु
  8. चित्रक्मुल
  9. कुठ
  10. दारुहल्दी
  11. हल्दी
  12. आंवला
  13. हरड
  14. बहेड़ा
  15. दंती मूल
  16. चव्य इन्द्र्यव
  17. पीपरामूल
  18. नागरमोथा
  19. शुद्ध मंडूर चूर्ण

कैसे बनता है / पुनर्नवा मंडूर को बनाने की विधी

इसके निर्माण में ऊपर बताये गए क्रम संख्या 18 तक के सभी द्रव्यों को 1 – 1 पल की मात्रा में लिया जाता है | इन सभी का प्रथम महीन कपडछान चूर्ण तैयार किया जाता है | अब शुद्ध मंडूर के चूर्ण को द्विगुण लेकर गाय के द्विआढ़क गोमूत्र में पकाया जाता है | अच्छी तरह पकाने के बाद जब घोल गाढ़ा होने लगे तो बेर की गुठली की आकार की गोली या वटी बना ली जाती है | इस वटी को छाछ के साथ सेवन करना चाहिए |

पुनर्नवादी मंडूर की सेवन विधि / कैसे सेवन करें ?

इसका सेवन 1 – 1 गोली सुबह – शाम पांडू (एनीमिया), कामला मन्दाग्नि एवं अर्श या भगंदर में छाछ के साथ करना चाहिए | यकृत एवं प्लीहा की व्रद्धी या सुजन में पुनर्नवादी क्वाथ के अनुपान के साथ प्रयोग करनी चाहिए | कृमि रोग में मुस्तादी क्वाथ का अनुपान लेना चाहिए |

पुनर्नवा मंडूर के फायदे एवं स्वास्थ्य उपयोग

  • यह आयुर्वेदि दवा उत्तम शोथ हर अर्थात सुजन को दूर करने वाली है |
  • यह शरीर में रक्त की वृद्धि करती है एवं एनीमिया जैसे रोग में लाभदायक है |
  • मुख्य द्रव्य पुनर्नवा होने के कारण यकृत के सभी विकारों में लाभदायक परिणाम देती है |
  • प्लीहा की सुजन एवं वृद्धि में फायदेमंद औषधि है |
  • यह दीपन एवं पाचन का कार्य करके मन्दाग्नि को नष्ट करती है |
  • कृमि अर्थात कीड़ो की समस्या में भी लाभदायक है |
  • कफ का शमन करती है इसलिए श्वास एवं कास में उपयोगी साबित होती है |
  • यह मूत्रल है एवं कब्ज को दूर करती है |

आयुर्वेद चिकित्सा में इसका प्रयोग प्लीहा वृद्धि, यकृत की सुजन एवं वृद्धि, खून की कमी, पेट के कीड़े, सर्दी – जुकाम, भूख न लगना, कब्ज, पीलिया, शरीर में पानी की अधिक मात्रा, अर्श, त्वचा विकार एव ज्वर आदि रोगों में किया जाता है | बाजार में यह डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ, दिव्य पतंजलि, धूतपापेश्वर एवं श्री मोहता आयुर्वेदिक बीकानेर आदि फार्मेसी की उपलब्ध है |

धन्यवाद

Avatar

स्वदेशी उपचार आयुर्वेद को समर्पित वेब पोर्टल है | यहाँ हम आयुर्वेद से सम्बंधित शास्त्रोक्त जानकारियां आम लोगों तक पहुंचाते है | वेबसाइट में उपलब्ध प्रत्येक लेख एक्सपर्ट आयुर्वेदिक चिकित्सकों, फार्मासिस्ट (आयुर्वेदिक) एवं अन्य आयुर्वेद विशेषज्ञों द्वारा लिखा जाता है | हमारा मुख्य उद्देश्य आयुर्वेद के माध्यम से सेहत से जुडी सटीक जानकारी आप लोगों तक पहुँचाना है |

We will be happy to hear your thoughts

      Leave a reply

      Logo
      Compare items
      • Total (0)
      Compare
      0