Mail : treatayurveda@gmail.com
गर्भावस्था के 9 महीने

गर्भावस्था / Pregnancy के 9 महीने – बच्चे एवं माता का विकास एवं शारीरिक परिवर्तन

गर्भावस्था के 9 महीने / 9 Months of Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के 9 महीने – गर्भधारण करना किसी महिला के जीवन का सबसे सुखद अनुभव है | गर्भधारण होने के बाद महिला के शरीर में कौन – कौन से परिवर्तन होते है एवं गर्भस्थ शिशु का विकास हर महीने में किस प्रकार से होता है | इसका ज्ञान होना सभी गर्भवती महिलाओं के लिए आवश्यक होता है | आज हम आपको महीने दर महीने बच्चे एवं माता के शरीर में होने वाले परिवर्तनों एवं विकास के बारे में बताएँगे |

 

गर्भावस्था के 9 महीने
गर्भावस्था के 9 महीने

इन गर्भावस्था के 9 महीने को तीन तिमाहियों में बांटा जा सकता है

  1. प्रथम त्रिमाही
  2. द्वितीय त्रिमाही
  3. तृतीय त्रिमाही

1. प्रथम तिमाही (त्रिमाही) – 1 से 3 महीने तक


गर्भावस्था के पहले तीन महीने बहुत महत्वपूर्ण होते है , क्योंकि कई महत्वपूर्ण शारीरिक परिवर्तन इन 3 महीनो में ही घटित होते है | प्रारंभिक चरण में भले ही आप को प्रेगनेंसी का अहसास तक न हो , लेकिन इन 3 महीनों में सबसे अधिक ध्यान देने की जरुरत होती है | इन तीन महीनों का वर्णन हमने हर महीने अनुसार दिया है –

गर्भावस्था का पहला महीना में परिवर्तन

गर्भिणी के शरीर में परिवर्तन – पहले महीने में आप अपने शरीर में कोई भी परिवर्तन महसूस नहीं कर सकती | लेकिन जब आपका मासिक धर्म का समय निकल गया हो और आपका पीरियड न आया हो तो प्रेगनेंसी के लक्षण जैसे – जी मचलाना , बेहोसी, चक्कर आना, थकान और कुछ पदार्थों के लिए मन में गहरी इच्छा होना आदि लक्षण प्रकट होने लगते है |

गर्भस्थ शिशु – इस समय के शिशु को भ्रूण कहा जा सकता है , जो गर्भाशय में स्थिर होने के लिए जगह ढूंढता है | इस महीने में शुरुआती स्टेज में भ्रूण के केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र, रीड की हड्डी और स्पाइनल कोलौमं का प्रारंभिक गठन शुरू हो जाता है | साथ ही बच्चे की जठरांत्र प्रणाली के साथ , गुर्दा, यकृत और आंतो का विकास भी प्रारंभिक अवस्था में शुरू हो जाता है | पहले महीने में ही बच्चे के दिल का निर्माण भी शुरू हो जाता है |

गर्भावस्था का दूसरा महीना / 2nd Month of Pregnancy

गर्भिणी का शरीर – दुसरे महीने में हार्मोनल परिवर्तनों के कारण आपकी त्वचा में चमक बढ़ जाती है | दुसरे महीने से ही आपको रेगुलर चेकप (Check-up) के लिए चिकित्सक के पास जाना शुरू कर देना चाहिए |

गर्भस्थ शिशु – दुसरे महीने की शुरुआत में भ्रूण की लम्बाई 10mm तक होगी और साथ ही शरीर के मुख्य ओर्गंस भी बनने लगते है | इस महीने में भ्रूण अपने रक्त के प्रकार का निर्माण करता है जो माता के रक्त से भिन्न हो सकता है | भ्रूण में हेयर फॉलिकल , निप्पल और घुटने एवं कोहनी दिखाई देने लगती है | साथ ही भ्रूण में चेहरे को भी पहचाना जा सकता है | भ्रूण में मुख्य मांस पेशियाँ का निर्माण भी होने लगता है एवं भ्रूण हल्का स्थानांतरित करने में भी सक्षम हो जाता है | इस महीने के अंत तक भ्रूण 22mm तक लम्बा हो जाता है |

गर्भावस्था का तीसरा महीना / 3rd Month of Pregnancy

गर्भिणी का शरीर – तीसरे महीने की शुरुआत में आपके शरीर में मोर्निग सिकनेस या मितली आने जैसे लक्षण प्रकट हो सकते है जो तीसरे महीने के अंत तक चलते है | इस महीने में आपकी गर्भावस्था स्पष्ट देखी जा सकती है | शुरूआती सप्ताह में होने वाली थकावट और आलस को आप इस महीने में महसूस नहीं करेंगी |

शिशु – तीसरे महीने में आपका शिशु अब फ़ीटस कहलाने लगता है अर्थात इस महीने में भ्रूण का विकास होकर यह फ़ीटस की फॉर्म में आ जाता है | तीसरे महीने में बच्चे के दिल का पूर्ण निर्माण हो जाता है जिसे Doppler मशीन द्वारा सुना जा सकता है | बच्चे के अधिकतर उतकों और ओर्गंस का अब निर्माण हो चूका होता है और यकृत में लाल रक्त कणिकाओं का निर्माण होना शुरू हो जाता है | इस महीने में चेहरे को और साफ़ तरीके से पहचाना जा सकता है और आँखों का ज्यादातर निर्माण हो जाता है | हाथ एवं हाथ की अंगुलियाँ , पैर और पैर की अँगुलियों का निर्माण भी शुरू हो जाता है |

पहली तिमाही में रखी जाने वाली सावधानियां

इन तीन महीनो में मोर्निंग सिकनेस (उल्टी आना), जी मचलना, चक्कर आना , बेहोसी छाना आदि लक्षण आसानी से प्रकट होते है | अत: इस प्रकार के उपद्रवो में अधिक परेशान या चिंता करने की आवश्यकता नहीं होती | अपने आहार में फोलिक एसिड युक्त भोजन को अपनाना चाहिए | साथ ही अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियों और सलाद को अधिक अपनाना चाहिए | उल्टी और जी मतलाने की समस्या में चिकित्सक अधिकतर फोलिक एसिड की टेबलेट्स देते है |


2. दूसरी त्रिमाही (तिमाही) – 4 से 6 महीने तक


गर्भावस्था का चौथा महिना / 4th Month of Pregnancy

गर्भिणी महिला – गर्भावस्था के चौथे महीने में मितली और Morning Sickness जैसी समस्या अब आपको फिर से महसूस नहीं होगी | आपके शरीर में रक्त संचार बढ़ने से आप अधिक उर्जावान महसूस करेंगी | इस महीने में बच्चे के विकास के कारण आपका पेट दिखाई देने लगेगा | आपके वजन में भी बढ़ोतरी होगी |

शिशु – इस महीने में आपका बच्चे का मष्तिष्क पूरी तरह से विकसित हो चूका है | इस समय बच्चा चुसना , निगलना और अनियमित श्वास लेने की आवाज कर सकता है | चौथे महीने में फ़ीटस दर्द भी महसूस करता है इसलिए ध्यान से रहे | इस समय फ़ीटस की त्वचा बिलकुल पारदर्शी होती है | चौथे महीने में मांसपेशियां और उतक बड़े होने लगते है एवं बच्चे की हड्डियाँ मजबूत होने लगती है | यकृत एवं अन्य अंगो से तरल निकलने लगता है | इस समय बच्चा लात मरना जैसी क्रियाएँ भी करता है जिसे आप महसूस कर सकती है | लेकिन हाँ अगर ये आपका पहला बच्चा हो तो शायद फ़ीटस की इन हरकतों को आप महसूस न कर सके |

गर्भावस्था का पांचवा महीना / 5th Month of Pregnancy

गर्भिणी महिला – पांचवे महीने में भले ही आप गर्भावस्था के प्रारंभिक भाग में कुच्छ कम महसूस कर पायें हो , लेकिन इस महीने से आपको अपने शरीर में काफी परिवर्तन दिखाई देने लगेगा | आपके पैरों पर वजन बढ़ जायेगा , कमर की शेप दिखाई नहीं देगी | इस महीने से डॉक्टर बच्चे के हृदय की धड़कन स्टेथोस्कोप से सुन सकते है | इस महीने में आप बच्चे की हलचल को पहली बार महसूस कर सकती है | शुरुआत सनसनाहट और बुदबुदाती सनसनाहट के साथ बच्चे के किक मारने को भी महसूस करेंगी |

शिशु – पांचवे महीने में बच्चे की अंगुलियाँ आदि दिखाई देने लगती है | शिशु के पुरे शरीर पर बाल होते है जिसका उद्देश्य बच्चे को सही तापमान देना होता है | जन्म से पहले ये बाल गायब हो जाते है | इस महीने से गर्भ में स्थित शिशु अपनी माता की आवाज सुनने में सक्षम हो जाता है | अत: आप बच्चे को कोई नाम दे सकती है या उससे स्नेही बातें कर सकती है |

गर्भावस्था का छठा महीना / 6th of Pregnancy

गर्भिणी महिला – इस महीने में आपका पेट नाभि तक बढ़ जाता है | बच्चे के अधिक बढ़ने से आपको अन्दर एक प्रकार का दबाव महसूस होता है | इस महीने में आप ध्यान से देखेंगी तो आप श्वास छोटी – छोटी लेने लगती है | अत: गहरी श्वास लेने की कोशिश करे या फिर कोई व्यायाम को अपना सकती है |

गर्भस्थ शिशु – इस महीने में शिशु का वजन लगभग 0.5 किलो तक होता है | छठा महिना गर्भस्थ शिशु के लिए गर्भाशय में पूरी तरह मुक्त घुमने का अंतिम महिना होता है | वह अपने आराम और गतिविधि का एक पैटर्न रखता है , जैसे अधिकतर शिशु शाम के समय अधिक सक्रिय महसूस होने लगता है | इस महीने में शिशु की त्वचा को प्रोपेक्टिव नामक एक पदार्थ ढंके रखता है जो जन्म के समय अवशोषित हो जाता है | छठे महीने से ही आपके शिशु के बनते हुए फेफड़ों से वह श्वास लेने की कोशिश करता है |


3. तीसरी तिमाही / 3rd Trimester – 7 से 9 महीने तक


गर्भावस्था का सातवाँ महीना / 7th Month of Pregnancy in Hindi

गर्भिणी महिला – इस महीने से आपके फेफड़े दबाव को अच्छी तरह महसूस करने लगते है एवं आप श्वास लेने में कठिनाई महसूस करती है | लेकिन फिर भी आपके फेफड़ों की कार्य क्षमता 3 गुना बढ़ जाती हो और आपका शिशु और अधिक ऑक्सीजन प्राप्त करने लगता है | सातवें महीने में बच्चे के अधिक विकसित होने से आपके गुप्तांग खुलने लगते है जिससे आप बार – बार पेशाब लगने की शिकायत महसूस कर सकती है | इस महीने से सही ढंग से चलना और बैठना आपको अपनाना होगा , ताकि किसी संभावित दुर्घटना से बचा जा सके |

शिशु – इस महीने में शिशु का मष्तिष्क तेजी से विकसित होता है | शिशु का तंत्रिका तंत्र उसके बॉडी फंक्शन को कुछ हद तक नियत्रित करने में सक्षम होता है | शिशु की आंखे अब कुछ खुल और बंद होने लगती है | 7 वें महीने में शिशु के जन्म की 60% संभावनाएं होती है | इस दौरान अगर बच्चे का जन्म भी हो जाता है तो शिशु के जीवित रहने की 90% सम्भावना रहती है |

गर्भावस्था का आठवां महीना / 8th Month of Pregnancy in Hindi

गर्भिणी महिला –  इस महीने से हर हफ्ते आपको चिकित्सक के पास गर्भस्थ शिशु के चेक – अप के लिए जाना चाहिए | आठवे महीने में अधिकतर महिलाओं को कमर दर्द की शिकायत रहती है तो एसे में कमर को झुकाने एवं घुमाने की हलकी प्रैक्टिस की जा सकती है |

गर्भस्थ शिशु – आठवें महीने में बच्चे के शरीर में तेजी से वृद्धि होती है अर्थात गर्भस्थ शिशु के वजन में बढ़ोतरी होती है | इस महीने से बच्चा लयबद्ध तरीके से श्वास लेने लगता है लेकिन फिर भी गर्भस्थ शिशु के फेफड़ों का पूर्ण विकास नहीं होता है | आपका बच्चा लगभग दिन के 90 से 95% समय सोता रहता है | आठवें महीने में जन्म लेने वाले बच्चों के सर्वाइवल की दर 95% से ऊपर होती है |

गर्भावस्था का नौवां महिना /  9th Month of Pregnancy in hindi

गर्भिणी महिला – इस महीने में गर्भिणी महिला पहले से थोड़ी अधिक परेशानियाँ महसूस करती है | शायद आप सोने में भी परेशान  महसूस करें लेकिन ये तो सिर्फ कुच्छ दिनों की दिक्कत मात्र है | 9 वें महीने में  टखनों में सुजन एक सामान्य समस्या है, जो की शाम के समय अधिक होती है, इसका मुख्य कारण शरीर में अधिक द्रव्य का इकट्ठा  होना है | इससे बचने के लिए अपने भोजन में अधिक प्रोटीन युक्त आहार का  सेवन करें | गर्भावस्था के इस अंतिम महीने में दिन के समय भी आराम करना आवश्यक होता है, अत: जब भी दिन में आराम करे तो अपने पैरों के निचे तकिये का प्रयोग जरुर करे, ये आपके पैरों में होने वाली सुजन में राहत देगा | अगर चेहरे पर भी सुजन दिखाई दे तो अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य ले |

गर्भस्थ शिशु – इस महीने तक आते आते आपके शिशु का शरीर पूर्ण रूप से विकसित हो जाता है | गर्भावस्था में गर्भस्थ शिशु के शरीर पर होने वाले हलके और पतले बाल (Lanugo) कन्धो और भुजाओं के अलावा सम्पूर्ण शरीर   से हट जाते है | गर्भस्थ शिशु के सिर पर उपस्थित बाल अब   कुछ गहरे और मोटे होने लगते है | शिशु के फेफड़े भी परिपक्व हो जातें  है | शिशु का औसत वजन लगभग 2.5 KG से 3.5 KG (7.5 पाउंड्स) होता है |

और पढ़ें – प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह के लक्षण

धन्यवाद |

 

Content Protection by DMCA.com
Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Shopping cart

0

No products in the cart.

+918000733602

असली आयुर्वेद की जानकारियां पायें घर बैठे सीधे अपने मोबाइल में ! अभी Sign Up करें

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

स्वदेशी उपचार will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.