पान खाने के ऐसे फायदे जिन्हें आप नहीं जानते – पान के फायदे

पान – पान के फायदे  

पान का इस्तेमाल भारतीय जीवन शैली में प्राचीन समय से ही होता आया है | भारत में पान का इस्तेमाल पूजा – पाठ , टोने – टोटकों और खाना खाने के बाद मुंह के जायके लिए प्रयोग किया जाता है | पान का उद्भव स्थल मलाया द्वीप है | भारत में यह दक्षिण प्रदेश और उत्तर पूर्वी प्रदेशों में उगाया जाता है | पान की पतियों का रस इनकी प्रजाति के आधार पर अलग – अलग होता है लेकिन गुणों  में इन प्रजातियों में ज्यादा अंतर नहीं पाया जात | पान की पतियाँ हृदयआकृति की  होती है जो स्वाद में कषाय होती है | पान की पतियों में एक  विशेष प्रकार का तेल होता है जिसके कारण ये स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होती है | इस पोस्ट में हम पान से होने वाले फायदे और इसके विभिन्न रोगों में घरेलु प्रयोग के बारे में जानेंगे |

पान खाने के फायदे
पान

पान के फायदे और रोगोनुसार घरेलु प्रयोग

पित्ती में पान के फायदे –

पित्ती विकार में खाने वाले पान की तीन पतियों के साथ एक चम्मच फिटकरी लेकर , पानी डालकर अच्छी तरह पीसले | इस पीसी हुई लुग्दी से  निकलती हुई पित्ती पर मालिश करने से पीती ठीक हो जाती है |

बच्चो की सर्दी में पान का उपयोग 

बच्चों को सर्दी लगने पर पान के पतों पर सरसों या तील का तेल लगा कर गरम करले | अब इन गरम – गरम पतों को बच्चे के सीने पर बांधे | इन पतों को बांधने से बच्चो की छाती खुल जाती है एवं सर्दी की समस्या नहीं रहती है |

खांसी होने पर पान का उपयोग  

दो पान के पतों को एक चम्मच पानी मिलाकर अच्छी तरह पिसले | अब 10 ग्राम अदरक को कूटकर इसको भी पीसे हुए पान के साथ मिलादे | इन दोनों को सूती कपडे में डालकर अच्छी तरह इनका रस निकाल ले | प्राप्त रस में एक चम्मच शहद मिलाकर चाटने से खांसी की समस्या जाती रहती है |

फोड़े – फुंसियो में पान के फायदे 

पान के पतों में एंटीफंगल गुण प्रचुर मात्रा में होते है | अत: कभी आप को फोड़ा – फुंसी हो जाए तो घबराने की आवश्यकता नहीं है | बस आप पान के एक पते को थोडा गरम करले और इस पर हल्का गरम तेल चुपड़ दे | इस पते को फोड़े – फुंसी वाली जगह बांधने से जल्द ही फोड़ा – फुंसी बैठ जाता है | तीन या चार स्थानिक प्रयोग काफी है |

आवाज मीठी होती है 

मीठा पान खाने से गले की खरास दूर होती है एवं आवाज मधुर होती है | यह गुण इसमें प्रयोग होने वाले गुलकंद और सुपारी के कारण होता है |

दुर्गन्ध नाशक है पान 

अगर घी या तेल में किसी प्रकार की गंध आती होतो , इनमे एक पता पान का डालकर अच्छी तरह गरम करले | आपके घी या तेल में आने वाली स्मेल जाती रहेगी |

उतेजक है पान 

पान में सुपारी का प्रयोग किया जाता है | सुपारी में एरेकोलिन नमक तत्व होता है जो हमारे स्नायु तंत्र को मजबूत करता है एवं स्नायु को उतेजक बनाता है |

कैल्शियम का अच्छा विकल्प है पान खाना 

पान में चुना और कत्था का इस्तेमाल किया जाता है , जो कैल्शियम के अच्छे स्रोत है  | पुरे दिन में तीन पान का इस्तेमल करने से शरीर को भरपूर कैल्शियम प्राप्त हो जाता है | तीन पान से अधिक पान का सेवन आपके लिए नुक्सान दायक भी हो सकता है क्योकि पान में चुने का इस्तेमाल किया जाता है अत: अधिक पान के सेवन से मुंह में छाले और त्वचा फट सकती है | अगर पान के अधिक सेवन से आपका भी मुंह फट गया हो तो , – मुंह में घी या शहद को लगाये |

अधिक पान खाने के नुकसान 

पान के फायदे के आलावा पान का अधिक इस्तेमाल भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता  है | दिन में चार से अधिक पान खाना आपके लिए नुकसान दायक हो सकता है | अत: सिमित मात्रा में ही पान का सेवन करे | पान खाने के बाद हमेशा मुंह की सफाई अच्छी तरह करनी चाहिए ताकि आपके दांत साफ़ और स्वस्थ रह सके | मीठा पान आपके लिए अच्छा होता है लेकिन इसमें भी सुपारी की कम मात्रा ले | क्योकि अधिक सुपारी खाने से शरीर में खून की कमी हो सकती है | पान में कभी भी जर्दा या तम्बाकू का इस्तेमाल न करे | क्योकि ये आपके लिए नुकसान दायक सिद्ध होते है |

ध्यान दे पान का सेवन नियमित तौर पर न करे | सप्ताह में एक या दो बार पान खाने से यह औषधि है लेकिन नित्य खाने से इसके कुछ नुकसान भी होते है | अत: प्रतिदिन पान का सेवन ना करे |

 

अगर आपकी  स्वास्थ्य से जुडी कोई समस्या है तो निचे दिए गए  Comment Box में हमें बता सकते है | उचित समाधान दिया जावेगा |

आपके लिए कुच्छ महत्वपूरण जानकारियां

1 . आयुर्वेद क्या है 

2.  कामवासना

3. Leech Therapy – जौंक चिकित्सा 

धन्यवाद |

Related Post

आक के है इतने औषधिये गुण – आक (Calotropis g... आक  (Calotropis gigantea) आक को मदार या आकौआ भी कहते है | इस औशाधिये पौधे के विषय में हमारे समाज में यह भ्रान्ति फैली हुई है की यह पौ...
अस्थमा (दमा)/ Asthma in Hindi – इसके कारण , ... Asthma in Hindi / अस्थमा अस्थमा एक गंभीर बीमारी है | वर्तमान समय के वातावरण , खान - पान एवं प्रदुषण के कारण इस रोग में काफी इजाफा हुआ है | भारत में प...
भूख बढ़ाने के लिए अपनाये इन 9 आयुर्वेदिक दवा एवं 5 ... भूख बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक दवा : भूख न लगना या कम लगना एक सामान्य समस्या है | वैसे यह किसी गंभीर बीमारी का लक्षण भी हो सकता है, लेकिन अगर आपका स्वास्...
फटे पैरों के उपचार के लिए आसान घरेलू नुस्‍खे... फटे पैरों के उपचार के लिए आसान घरेलू नुस्‍खे  अगर पैरों की देखभाल अच्छे तरीके से न किया जाए तो पैर फट जाते हैं। नंगे पैर चलने के कारण या फ...
Content Protection by DMCA.com

One thought on “पान खाने के ऐसे फायदे जिन्हें आप नहीं जानते – पान के फायदे”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.